गर्भावस्था में पपीता खाना सही या गलत ? जानें सच


गर्भावस्था जीवन का एक संवेदनशील पड़ाव होता है। इस समय शरीर में कई तरह के बदलाव होते हैं, तो कुछ चीजें गर्भस्थ शिशु के लिए सही या गलत हो सकती हैं। यही कारण है कि इस समय खान-पान और अन्य चीजों को लेकर सतर्कता बरती जाती है और गर्भवती महिला को कुछ चीजों का सेवन न करने की सलाह दी जाती है। पपीता भी उन्हीं चीजों में एक है, लेकिन इसे लेकर विशेषज्ञों एवं लोगों की अलग-अलग राय है।
सामान्यत: पपीते को गर्भावस्था में खाना, गर्भस्थ शिशु के लिए हानिकारक माना जाता है। दरअसल पपीता गर्म प्रकृति का होता है। इसका प्रयोग पेट संबंधी रोगों या कब्ज होने पर पेट साफ करने के लिए भी किया जाता है। इसी के चलते यह माना जाता है, कि गर्म तासीर होने के कारण यह गर्भस्थ शिशु को नुकसान पहुंचा सकता है। यह भी माना जाता है, कि पपीते का नियमि‍त सेवन करने से गर्भपात भी हो सकता है।
 
इस बारे में विशेषज्ञों का कहना है, गर्भावस्था में पपीता खाया जा सकता है, अगर वह पूरी तरह से पका हुआ हो और इसका प्रयोग कम मात्रा में किया जाए। पूरी तरह से पका हुआ पपीता विटामिन-सी और विटामिन-ई का स्त्रोत होता है और इसमें फाइबर के साथ ही फॉलिक एसिड भी भरपूर मात्रा में पाया जाता है, जो फायदेमंद है। 
दूध और शहद के साथ पपीते को मिक्स कर बनाया गया पेय, काफी पौष्ट‍िक होता है, जो गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए बहुत स्वास्थ्यवर्धक माना जाता है।
अगले पेज पर जानें, कब है पपीता हानिकारक ... 

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :