राखी नहीं रक्षा का अटूट धागा है, पढ़ें शक्तिशाली पवित्र मंत्र


राखी सामान्यतः बहनें, भाई को बांधती हैं, परंतु पुत्री द्वारा पिता, दादा, चाचा को अथवा कोई भी किसी से भी संबंध मधुर बनाने की भावना से, सुरक्षा की कामना के साथ बांध सकता है। प्रकृति संरक्षण के लिए वृक्षों को राखी बांधने की परंपरा भी प्रारंभ हो गई है।

सनातन परंपरा में किसी भी कर्मकांड व अनुष्ठान की पूर्णाहुति बिना रक्षासूत्र बांधे पूरी नहीं होती। प्रातः स्नानादि से निवृत्त होकर लड़कियां और महिलाएं पूजा की थाली सजाती हैं।

थाली में राखी के साथ रोली या हल्दी, चावल, दीपक व मिष्ठान्न आदि होते हैं। पहले अभीष्ट देवता और कुल देवता की पूजा की जाती है, इसके बाद रोली या हल्दी से भाई का टीका करके उसकी आरती उतारी जाती है व दाहिनी कलाई पर राखी बांधी जाती है।

भाई, बहन को उपहार अथवा शुभकामना प्रतीक कुछ न कुछ भेंट अवश्य देते हैं और उनकी रक्षा की प्रतिज्ञा लेते हैं। यह एक ऐसा पावन पर्व है, जो भाई-बहन के पवित्र रिश्ते को पूरा आदर और सम्मान देता है। के अनुष्ठान के पूरा होने तक व्रत रखने की भी परंपरा है।

रक्षासूत्र बांधते समय रक्षाबंधन का पवित्र श्लोक का उच्चारण करें :-

यह श्लोक रक्षाबंधन का अभीष्ट मंत्र है :-

'येन बद्धो बलि राजा दानवेन्द्रो महाबल।
तेन त्वामभिबध्नामि रक्षे मा चल मा चल'

अर्थात जिस रक्षासूत्र से महान शक्तिशाली दानवेन्द्र राजा बलि को बांधा गया था, उसी रक्षाबंधन से मैं तुम्हें बांधती हूं, यह तुम्हारी रक्षा करेगा और संकट में तुम मेरी रक्षा करना।



Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

राशिफल

कठिन मनोरथ पूर्ण करना है तो करें बटुक भैरव अनुष्ठान

कठिन मनोरथ पूर्ण करना है तो करें बटुक भैरव अनुष्ठान
हमारे शास्त्रों में ऐसे अनेक अनुष्ठानों का उल्लेख मिलता है जिन्हें उचित विधि व निर्धारित ...

क्या मोबाइल का नंबर बदल कर चमका सकते हैं किस्मत के तारे...

क्या मोबाइल का नंबर बदल कर चमका सकते हैं किस्मत के तारे...
अंकशास्त्र के अनुसार अगर मोबाइल नंबर में सबसे अधिक बार अंक 8 का होना शुभ नहीं होता है। ...

याद रखें यह 5 वास्तु मंत्र, हर संकट का होगा अंत

याद रखें यह 5 वास्तु मंत्र, हर संकट का होगा अंत
निवास, कारखाना, व्यावसायिक परिसर अथवा दुकान के ईशान कोण में उस परिसर का कचरा अथवा जूठन ...

ऐसा हो मंदिर कि 'भगवान' भी रहने को मजबूर हो जाए....

ऐसा हो मंदिर कि 'भगवान' भी रहने को मजबूर हो जाए....
घर का मंदिर सुंदर, स्वच्छ और इतना पवित्र होना चाहिए कि भगवान भी ठहरने को मजबूर हो जाए...

कैसे होते हैं मेष राशि वाले जातक, जानिए अपना व्यक्तित्व...

कैसे होते हैं मेष राशि वाले जातक, जानिए अपना व्यक्तित्व...
राशियां जातक के व्यक्तित्व का दर्पण होती हैं। जातक का स्वरूप, स्वभाव एवं उसका व्यक्तित्व ...

बहुत फलदायी है मोहिनी एकादशी, जानें व्रत का महत्व...

बहुत फलदायी है मोहिनी एकादशी, जानें व्रत का महत्व...
संसार में आकर मनुष्य केवल प्रारब्ध का भोग ही नहीं भोगता अपितु वर्तमान को भक्ति और आराधना ...

शत्रु और खतरों से सुरक्षा करते हैं ये मंत्र, अवश्य पढ़ें...

शत्रु और खतरों से सुरक्षा करते हैं ये मंत्र, अवश्य पढ़ें...
बौद्ध धर्म को भला कौन नहीं जानता। बौद्ध धर्म भारत की श्रमण परंपरा से निकला महान धर्म ...

24 अप्रैल 2018 का राशिफल और उपाय...

24 अप्रैल 2018 का राशिफल और उपाय...
बुरी सूचना से व्यथा रहेगी। दौड़धूप अधिक रहेगी। झंझटों में न पड़ें। व्यवसाय धीमा चलेगा। ...

24 अप्रैल 2018 : आपका जन्मदिन

24 अप्रैल 2018 : आपका जन्मदिन
दिनांक 24 को जन्मे व्यक्ति का मूलांक 6 होगा। इस अंक से प्रभावित व्यक्ति आकर्षक, विनोदी, ...

24 अप्रैल 2018 के शुभ मुहूर्त

24 अप्रैल 2018 के शुभ मुहूर्त
शुभ विक्रम संवत- 2075, अयन- उत्तरायन, मास- वैशाख, पक्ष- शुक्ल, हिजरी सन्- 1439, मु. मास- ...