अक्षय तृतीया पर ऐसे करें ग्रहों की शांति के दान...

akshay-3tiya-planet
 
* अक्षय तृतीया के दिन क्या और कौन से ग्रह का दान करें, जानिए...
 
कष्ट हमारे कर्मफल हैं तथा जन्म कुंडली में कर्म का दर्पण है। अत: यह जानकर किसी योग्य विद्वान से सलाह लेकर क्या और कौन से ग्रह का दान करना है, वो अक्षय तृतीया के दिन करें। अक्षय तृतीया पर दान का विशेष महत्व है। ग्रहों के अनुसार दान निम्नलिखित है-
 
1. : गेहूं, माणिक्य, लाल वस्त्र, लाल चंदन तथा तांबा यथाशक्ति दान करें। लेकिन दान का मतलब है कि दान की गई वस्तु दान ग्रहणकर्ता के किसी उपयोग में आए, न‍ कि नाममात्र का दान। दूसरा- सूर्योदय के समय तथा सूर्य मंत्र- 'ॐ ह्रीं सूर्याय नम:' मंत्र जप कर तथा संकल्प अवश्य लें।
 
2. चन्द्र- सूर्यास्त के समय सफेद वस्त्र, चावल, घी, दही, मोती, चांदी इत्यादि। मंत्र जपें- 'ॐ सोमाय नम:।' 
 
3. मंगल- संध्याकाल में लाल वस्त्र, लाल चंदन, मूंगा, गुड़, मसूर दाल, ताम्रपत्र आदि। मंत्र- 'ॐ अं अंगारकाय नम:' जपें।
 
4. बुध- हरा वस्त्र, कांसे का पात्र, घी, हरा-खड़ा मूंग, संध्या करीब 4 बजे तथा मंत्र जपें- 'ॐ बुं बुधाय नम:'।
 
5. बृहस्पति (गुरु)- संध्या के समय, पीत वस्त्र, चना दाल, स्वर्ण, शहद, ग्रंथ आदि मंत्र- 'ॐ बृं बृहस्पतये नम:' जपें।
 
6. शुक्र- सूर्योदय के समय 'ॐ शुं शुक्राय नम:' जपें तथा श्वेत वस्त्र, चावल, दही, घी, चांदी, हीरा व इत्र दान करें।
 
7. शनि- दोपहर को जपें- 'ॐ शं शनैश्चराय नम:' तथा लोहा, काला तिल, काला खड़ा उड़द, नीलम, काला वस्त्र दान करें।
 
8. राहु- रात्रि के समय 'ॐ रां राहवे नम:' जपें तथा सप्त धान्य, नीला वस्त्र, गोमेद, तिल्ली का तेल, सीसा व लोहा आदि दान करें।
 
9. केतु- रात्रि के समय तिल का तेल, लोहा, लहसुनिया आदि दान करें।
 
इसके अलावा सभी पापों के प्रा‍यश्चित के लिए गौदान, भूमि दान, ब्राह्मण को आमान्न (सीदा) दान किए जा सकते हैं। गौदान आदि के सामर्थ्य के अनुसार गौ निष्क्रय द्रव्य दिया जा सकता है। संकल्प अवश्य लें तथा यथाशक्ति दक्षिणा दें।
विशेष प्रयोग- नारियल गोले को ऊपर से काटकर उसमें शकर, मोटा सिंका हुआ आटा मिलाकर वापस उसी नारियल के टुकड़े बंद कर काले कपड़े से बांधकर पीपल के नीचे आधा हाथ खोदकर पोला-पोला मिट्टी से ढंक दें। समय सूर्यास्त के ठीक पहले हो। सभी पापों का नाश होता है तथा आत्मोन्नति होती है।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

राशिफल

कठिन मनोरथ पूर्ण करना है तो करें बटुक भैरव अनुष्ठान

कठिन मनोरथ पूर्ण करना है तो करें बटुक भैरव अनुष्ठान
हमारे शास्त्रों में ऐसे अनेक अनुष्ठानों का उल्लेख मिलता है जिन्हें उचित विधि व निर्धारित ...

क्या मोबाइल का नंबर बदल कर चमका सकते हैं किस्मत के तारे...

क्या मोबाइल का नंबर बदल कर चमका सकते हैं किस्मत के तारे...
अंकशास्त्र के अनुसार अगर मोबाइल नंबर में सबसे अधिक बार अंक 8 का होना शुभ नहीं होता है। ...

याद रखें यह 5 वास्तु मंत्र, हर संकट का होगा अंत

याद रखें यह 5 वास्तु मंत्र, हर संकट का होगा अंत
निवास, कारखाना, व्यावसायिक परिसर अथवा दुकान के ईशान कोण में उस परिसर का कचरा अथवा जूठन ...

ऐसा हो मंदिर कि 'भगवान' भी रहने को मजबूर हो जाए....

ऐसा हो मंदिर कि 'भगवान' भी रहने को मजबूर हो जाए....
घर का मंदिर सुंदर, स्वच्छ और इतना पवित्र होना चाहिए कि भगवान भी ठहरने को मजबूर हो जाए...

कैसे होते हैं मेष राशि वाले जातक, जानिए अपना व्यक्तित्व...

कैसे होते हैं मेष राशि वाले जातक, जानिए अपना व्यक्तित्व...
राशियां जातक के व्यक्तित्व का दर्पण होती हैं। जातक का स्वरूप, स्वभाव एवं उसका व्यक्तित्व ...

बहुत फलदायी है मोहिनी एकादशी, जानें व्रत का महत्व...

बहुत फलदायी है मोहिनी एकादशी, जानें व्रत का महत्व...
संसार में आकर मनुष्य केवल प्रारब्ध का भोग ही नहीं भोगता अपितु वर्तमान को भक्ति और आराधना ...

शत्रु और खतरों से सुरक्षा करते हैं ये मंत्र, अवश्य पढ़ें...

शत्रु और खतरों से सुरक्षा करते हैं ये मंत्र, अवश्य पढ़ें...
बौद्ध धर्म को भला कौन नहीं जानता। बौद्ध धर्म भारत की श्रमण परंपरा से निकला महान धर्म ...

24 अप्रैल 2018 का राशिफल और उपाय...

24 अप्रैल 2018 का राशिफल और उपाय...
बुरी सूचना से व्यथा रहेगी। दौड़धूप अधिक रहेगी। झंझटों में न पड़ें। व्यवसाय धीमा चलेगा। ...

24 अप्रैल 2018 : आपका जन्मदिन

24 अप्रैल 2018 : आपका जन्मदिन
दिनांक 24 को जन्मे व्यक्ति का मूलांक 6 होगा। इस अंक से प्रभावित व्यक्ति आकर्षक, विनोदी, ...

24 अप्रैल 2018 के शुभ मुहूर्त

24 अप्रैल 2018 के शुभ मुहूर्त
शुभ विक्रम संवत- 2075, अयन- उत्तरायन, मास- वैशाख, पक्ष- शुक्ल, हिजरी सन्- 1439, मु. मास- ...