लफ्जों की बरसात....

- अजीज अंसारी

WD|
FILE

रात गए लफ्जों1 की हुई
एक मुरस्सा2 हमारी जात हुई

आंधी आई रस्ते में बरसात हुई
अपनी मंजिल जैसे अपने साथ हुई

छत के ऊपर सावन में भी धूप रही
छत के नीचे आंखों से बरसात हुई
कैसा दौर है झूठों का राज यहां
सच्चाई की सारे जग में मात हुई

मैं मुफ्लिस3 हूं आप रईसेशहर4 सही
ये दुनिया तो दुनिया-ए-दरजात5 हुई

अपने घर अब तुम भी वापस आओ 'अजीज'
'सन्नाटों ने शोर मचाया रात हुई।'

1. शब्दों 2. बहुत अच्छी 3. निर्धन 4. नगर का राजा 5. भेदभाव

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :