अच्‍छाई को बोया कर...

अजीज अंसारी

WD|
FILE

घर से बाहर निकला कर
दुनिया को भी देखा कर

फसलें काट बुराई की
अच्‍छाई को बोया कर

नेकी डाल के दरिया में
अपने आपसे धोखा कर

सबको पढ़ता रहता है
अपने आप को समझाकर

बूढ़े बरगद के नीचेदिल टूटे तो बैठा कर

मेहफिल-मेहफिल हंसता है
तनहाई में रोया कर

दुनिया पीछे आएगी
देख तो दुनिया ठुकराकर

पढ़के सब कुछ सीखेगा
देख के भी कुछ सीखा कर

दुश्मन हों या दोस्त 'अजीज'सबको अपना समझा कर।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :