फ़ाज़िल अंसारी के अशआर

Aziz AnsariWD
* ये भी दुरुस्त है के नशेमन में बर्क़ थी
ये भी ग़लत नहीं के नशेमन में कुछ न था

* आया था अपने गाँव से दामन में लेके फूल
जाता हूँ दिल में ज़ख़्म लिए तेरे शहर से

* क्या दोस्तो बताऊँ तुम्हें अपने दिल का हाल
गुज़रे तो होगे तुम किसी वीरान शहर से

* मेरे सर को बेसबब ज़ख़्मी किया ऐसा नहीं
आज पत्थर ने दिया है मेरी ठोकर का जवाब

* सोचता हूँ मैं के फ़ाज़िल फूल के होते हुए
लोग पत्थर ही से क्यों देते हैं पत्थर का जवाब

* शरारे बन के दामन ज़िन्दगी का फूँक देते हैं
वो अश्क-ए-तर के जो आँखों से फ़ाज़िल बेह नहीं सकते

* मुबारक दिल को ग़म जैसा मुसाफ़िर
मुबारक ग़म को दिल जैसा ठिकाना

* इतना न अपनी क़िस्मत-ए-रोशन पे नाज़ कर
चढ़ता है आफ़ताब तो ढलता ज़रूर है

Aziz AnsariWD
* ख़ुदा का शुक्र है फ़ाज़िल के ज़िन्दगी अपनी
ग़मों के साथ बहुत ख़ुशगवार गुज़री है

* वही चारों तरफ़ अब भी अंधेरों का तसल्लुत है
बड़ा अरमान था फाज़िल हमें सूरज निकलने का

* हासिल न होगा साँप से कुछ ज़हर के सिवा
फ़ाज़िल न रख उमीद-ए-वफ़ा बेवफ़ाओं से

* इस बार-ए-गिराँ का है उठाना बहुत आसाँ
ग़म है किसी कमज़र्फ़ का एहसाँ तो नहीं है

* फ़ाज़िल बहुत से अच्छे सुख़नवर भी हैं यहाँ
है तू ही एक शाइर-ए-बुरहानपुर क्या?

* लावे की तरह अश्क न किस दिन रवाँ हुआ
ख़ामोश कब हयात का आतिश फ़िशाँ हुआ

* ग़म-ए-हस्ती, ग़म-ए-जानाँ, ग़म-ए-दुनिया, ग़म-ए-दौराँ
मिटा कर मुझको फ़ाज़िल इन सितमगारों ने क्या पाया

* हमलाज़न मुझ पे हुआ है मौज की शम्शीर लिए
आज दरिया भी मेरे ख़ून का प्यासा निकला

* लब पे आहें हैं आँख में आँसू
आँधियों में चिराग़ जलता है

* कोई देखे तो फ़ाज़िल क़ाबिलियत बाग़बानों की
अजीज अंसारी|
वहाँ काँटे ही काँटे हैं जहाँ गुलज़ार होना था

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :