ख़ुदा ऎसे मुखड़े बनाता है कम

WD|
पेशकश : अज़ीज़ अंसारी
* के परदे में हम किससे मुख़ातिब हैं
सब जान गए होंगे क्यों नाम लिया जाए

* हर एक शख़्स ज़माने में हक़ परस्त नहीं
हर एक शख़्स से हक बात पर न उलझा कर

* दोस्तों ने भी तमन्नाओं को पामाल किया दुश्मनों पर ही न इलज़ाम लगाया जाए

* दुनिया ने उसकी राह में काँटे बिछा दिए
फूलों से जिसने बाग़ को आरास्ता किया

* छत मेरे दिल की बहुत कमज़ोर थी
ग़म का पानी उम्र भर रिस्ता रहा

* नए अरमाँ जगाने की घड़ी है तुम्हें किस वक़्त जाने की पड़ी है

* बहुत ख़ूबसूरत है मेरा सनम
ख़ुदा ऎसे मुखड़े बनाता है कम

* मुझे जान से भी प्यारा मेहबूब मिल गया है
जीने का ये सहारा क्या ख़ूब मिल गया है

* मैं जो शायर कभी होता तेरा सेहरा कहता चाँद को चाँद न कहता तेरा चेहरा कहता

* कैसे सुनाऊँ अपनी तबाही का माजरा
कैसे कहूँ के यार ने रुस्वा किया मुझे

* कल रात बरसती रही सावन की घटा भी
और हम भी तेरी याद में दिल खोल कर रोए

* याद रक्खो तो दिल के पास हैं हम भूल जाओ तो फ़ासले हैं बहुत

* मैंने तो यूँही राख में फेरी थीं उंगलियाँ
देखा जो ग़ौर से तेरी तस्वीर बन गई

* दुआ सलाम में लिपटी ज़रूरतें माँगे
तिजारतों की ये बस्ती, तिजारतें माँगे

* चमकते कपड़े, महकता ख़ुलूस, पुख़्ता मकाँ हरएक बज़्म में इज़्ज़त हिफ़ाज़तें माँगे


वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :