मुफ़लिसी सब बहार खोती है

WD|
पेशकश : अज़ीज़ अंसार

रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं क़ाइल,
जब आँख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है।----ग़ालिब

बड़ी अजीब है दुनिया तवाइफ़ों की तरह,
हमेशा चाहने वाले बदलती रहती है।-------मुनव्वर राना

मुफ़लिसी सब बहार खोती है,
मर्द का ऎतबार खोती है। --------------
ज़िन्दगी है या कोई तूफ़ान है,
हम तो इस जीने के हाथों मर चले।------दर्द

चारों तरफ़ से सूरत-ए-जानाँ हो जलवागर,
दिल साफ़ हो तेरा तो है आईनाख़ाना क्या।----आतिश

क्यों सुने अर्ज़-ए-मुज़तरिब मोमिन,
सनम आख़िर ख़ुदा नहीं होता।------------मोमिन
जो गुज़रते हैं दाग़ पर सदमें,
आप बन्दा नवाज़ क्या जानें।------------दाग़

नहीं आती तो याद उनकी महीनों तक नहीं आती,
मगर जब याद आते हैं तो अक्सर याद आते हैं।------हसरत मोहानी

हर नफ़स उम्र-ए-गुज़िश्ता की है मय्यत फ़ानी,
ज़िन्दगी नाम है मर-मर के जिए जाने का।--------फ़ानी बदायूनी
क़ैद-ए-हस्ती से कब निजात जिगर,
मौत आई अगर हयात गई।-------------जिगर

एक मुद्दत से तेरी याद भी आई न हमें,
और हम भूल गए हों तुझे ऎसा भी नहीं।-------दाग़

ये तो इंसानों के टूटे हुए दिल हैं साक़ी,
हम से टूटे हुए साग़र नहीं देखे जाते। -------ताज भोपाली
हमें तो शाम-ए-ग़म में काटनी है ज़िन्दगी अपनी,
जहाँ वो हैं वहीं ऎ चाँद ले जा चान्दनी अपनी।------------शे'री भोपाली

आबादियों में दश्त का मंज़र भी आएगा,
गुज़रोगे शहर से तो मेरा घर भी आएगा।---------नौशाद

नाज़ुकी उसके लब की क्या कहिए,
पंखुड़ी इक गुलाब की सी है।----------------- मीर

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :