दिल से पहुँची तो हैं

WD|
पेशकश : अज़ीज़ अंसारी

सब ग़लत कहते थे लुत्फ़-ए-यार को वजहे-सुकूँ
दर्द-ए-दिल उसने तो हसरत और दूना कर दिया-------हसरत मोहानी

हक़ीक़त खुल गई हसरत तेरे तर्क-ए-मोहब्बत की
तुझेतो अबवो पहले से भी बढ़ कर याद आते हैं ---हसरत मोहानी

दिल से पहुँची तो हैं आँखों में लहू की बूँदें
सिलसिला शीशे से मिलता तो है पैमाने का-------हसरत मोहानी
दिल गया रोनक़-ए-हयात गई
ग़म गया सारी कायनात गई---------जिगर मुरादाबादी

दुनिया के सितम याद न अपनी ही वफ़ा याद
अब मुझको नहीं कुछ भी मोहब्बत के सिवा याद -----जिगर मुरादाबादी

शाम-ए-ग़म कुछ उस निगाह-ए-नाज़ की बातें करो
बेख़ुदी बढ़ती चली है राज़ की बातें करो------------------फ़िराक़
एक मुद्दत से तेरी याद भी आई न हमें
और हम भूल गए हों तुझे ऎसा भी नहीं -------------फ़िराक़

कभी हममें तुममें भी चाह थी, कभी हमसे तुमसे भी राह थी
कभी हमभी तुमभी थे आश्ना, तुम्हें याद हो के न याद हो ------
कहा उस बुत से मरता हूँ तो मोमिन
कहा मैं क्या करूँ मरज़ी ख़ुदा की------------मोमिन

मैंने मजनूँ पे लड़कपन मे असद
संग उठाया था के सर याद आया---------(असद और ग़ालिब एक ही हैं)

जी ढूंडता है फिर वही फ़ुरसत के रात-दिन
बैठे रहें तसव्वुर-ए-जानाँ किए हुए ----------ग़ालिब
है कुछ ऎसी ही बात जो चुप हूँ
वरना क्या बात कर नहीं आती---------ग़ालिब

जुनूँ में ख़ाक उड़ाता है साथ साथ अपने
शरीक-ए-हाल हमाराग़ुबार राह में है ---------आतिश

ये आरज़ू थी तुझे गुल के रूबरू करते
हम और बुल्बुल-ए-बेताब गुफ़्तगू करते-------आतिश
सब केजोहर नज़र में आए दर्द
बेहुनर तूने कुछ हुनर न किया-----------दर्द

चमन में सुबहा ये कहती थी होकर चश्म-ए-तर शबनम
बहार-ए-एबाग़ तो यूँ ही रहे, लेकिन किधर शबनम ---------दर्द

मैं जो बोला कहा के ये आवाज़
उसी ख़ाना ख़राब की सी है ------------

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :