आज तुम याद बेहिसाब आए

अजीज अंसारी|
तुम्हारी याद के जब ज़ख़्म भरने लगते हैं
किसी बहाने तुम्हें याद करने लगते हैं ------फ़ैज़

कर रहा था ग़म-ए-जहाँ का हिसाब
आज तुम याद बेहिसाब आए--------------फ़ैज़

यूँ तो हिलता ही नहीं घर से किसी वक़्त 'अदम'
शाम के वक़्त न मालूम किधर जाता है ------------'अदम'

आइये कोई नेक काम करें
आज मौसम बड़ा गुलाबी है ------'अदम'
रात बाक़ी थी जब वो बिछड़े थे
कट गई उम्र रात बाक़ी है --------ख़ुमार

मेरी क़िस्मत में ग़म गर इतना था
दिल भी यारब कई दिए होते ----------ग़ालिब

ठानी थी दिल में अब न मिलेंगे किसी से हम
पर क्या करें के हो गए नाचार जी से हम -------मोमिन
तुम मेरे पास होते हो गोया
जब कोई दूसरा नहीं होता --------मोमिन

तेरे कूंचे इस बहाने मुझे दिन से रात करना
कभी इससे बात करना, कभी उससे बात करना----मसहफ़ी

मसहफ़ी हम तो ये समझे थे के होगा कोई ज़ख़्म
तेरे दिल में तो बहुत काम रफ़ू का निकला --------मसहफ़ी
हम हुए तुम हुए के हुए
उसकी ज़ुल्फ़ों के सब असीर हुए--------मीतक़ी मीर

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :