नज़्म : 'जाने ग़ज़ल'

WD|
शायर - मेहबूब राही

चाँद चेहरे को तो आँखों को कंवल लिक्खूँगा
जब तेरे हुस्न-ए-सरापा पे ग़ज़ल लिक्खूँगा

ऎ मेरी पैकर-ए-तख़ीईल मेरी जान-ए-ग़ज़ल
मेरा दिल है तेरी चाहत का हसीं ताजमहल
मैं तुझे प्यार से मुमताज़ महल लिक्खूँगा
जब तेरे हुस्न-ए-सरापा पे ग़ज़ल लिक्खूँगा

एक हसीं फूल है तू रश्क-ए-गुलिस्ताँ है तू हुस्न-ए-नज़्ज़ारा है तू जान-ए-बहाराँ है तू
रूप को तेरे बहारों का बदल लिक्खूँगा
जब तेरे हुस्न-ए-सरापा पे ग़ज़ल लिक्खूँगा

बेरुख़ी को भी मैं समझूँगा इनायत तेरी
तेरी नफ़रत को भी जानूँगा मोहब्बत तेरी
ज़ुल्म को तेरे तेरा हुस्न-ए-अमल लिक्खूँगा
जब तेरे हुस्न-ए-सरापापे ग़ज़ल लिक्खूँगा
तेरी ज़ुल्फ़ों के लिए दूँगा घटाओं की मिसाल
बाद-ए-सरसर को कहूँगा तेरी बहकी हुई चाल
बिजलियों को तेरी पेशानी के बल लिक्खूँगा
जब तेरे हुस्न-ए-सरापा पे ग़ज़ल लिखूँगा

गुलबदन, ग़ुंचा दहन जाने-चमन लिखता हूँ
तुझको रंगीन बहारों की दुल्हन लिखता हूँ आज जो लिखता हूँ तुझको वहीकल लिक्खूँगा
जब तेरे हुस्न-ए-सरापा पे ग़ज़ल लिक्खूँगा

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :