क़दमों की आहट

WD| पुनः संशोधित सोमवार, 2 सितम्बर 2013 (17:45 IST)
FILE
बहुत पहले से उन क़दमों की आहट जान लेते हैं,
तुझे ऐ ज़िंदगी हम दूर से पहचान लेते हैं
तुझे घाटा न होने देंगे कारोबार-ए-उल्‍फ़त में,
हम अपने सर तेरा ऐ दोस्‍त हर इल्‍ज़ाम लेते हैं।

-फ़िराक़ गोरखपुरी

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :