दुनिया की 5 सबसे खूंखार 'सुंदरियां'


WD|
1. व्हाइट विडो सामंथा ल्यूथवेट - विश्व में सबसे बड़ी चुनौती के रूप में व्याप्त में महिलाओं की उपस्थि‍ति एक बड़ा मसला बनकर उभरा है, जिसकी गूंज 2015 में और भी साफ सुनाई दी। हालांकि कुख्यात महिला आतंकी सामंथा ल्यूथवेट जिसे व्हाइट विडो भी कहा जाता है, आतंक की दुनिया का सबसे चर्चित नाम बनकर उभरी थी, जिसे लंदन बम धमाकों के बाद से अधि‍क हवा मिली थी।  
 
5 दिसंबर 1983 को उत्तरी आयरलैंड में जन्मी सामंथा को दुनिया की अब तक सबसे खतरनाक महिला कहा जाता है। दरअसल, व्हाइट विडो लंदन में आत्मघाती हमला करने वाले जर्मेन लिंडसे की विधवा थी और 7 जुलाई 2005 में लंदन धमाके में पति की मौत के बाद से लापता थी। 2009 में उसके ब्रि‍टेन से अफ्रीका जाने की खबरें आईं और 2011 में उसके सोमालिया के अल शबाब से जुड़ने की पुख्ता जानकारी भी, लेकिन बाद में वह बगदादी के आतंकी संगठन आईएसआईएस से जुड़ गई और ईराक के साथ सीरिया में कत्लेआम की निगेहबान रही। 2012 में मोम्बासा में मैच देख रहे लोगों पर ग्रेनेड हमला होने की घटना में सामंथा के शामिल होने की बात सामने आई थी। इस हमले में 3 लोग मारे गए थे। 21 सितंबर 2013 को केन्या के नैरोबी में वेस्टगेट मॉल में हुए बम धमाकों के अलावा सामंथा कई खतरनाक हमलों में भी शामिल थी, इसमें 67 लोगों की मौत हुई थी। इतना ही नहीं केन्या की यूनिवर्सिटी में हुए आतंकी हमले की साजिश रचने वाला कोई और नहीं बल्कि दुनिया की मोस्ट वॉन्टेड महिला सामंथा थी। इस हमले में स्टूडेंट्स समेत 148 लोगों की हत्या की गई थी। आतंकी सामंथा शार्प शूटर थी और हर तरह के हथियार चलाने में माहिर भी। व्हाइट विडो उर्फ सामंथा ल्यूथवेट ने कमांडो ट्रेनिंग भी ले रखी थी और वह अरबी, इंग्लिश, स्वाहिली और कई भाषाएं बोलने में माहिर थी। 2014 में व्हाइट विडो सामंथा की मौत की खबर आई और इसके पीछे रूसी जासूस का हाथ था। हालांकि 2014 में ही यूक्रेन में सामंथा के खात्मे की खबर आ चुकी थी, लेकिन सामंथा के अंत ने महिला आतंकवाद को और बढ़ावा दिया, जिसके उदाहरण 2015 में दिखाई दिए।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :