इस रक्षाबंधन पर बनाएं उत्तराखंड और मसूरी का सबसे मशहूर व्यंजन : बाल मिठाई

bal-mithai-rakhi
Author राजश्री कासलीवाल|
सामग्री :
डेढ़ किलो मावा, 500 ग्राम शकर, 50 ग्राम खसखस, 500 ग्राम पिसी हुई चीनी (शकर का बूरा), 1/2 कप दूध, 10 ग्राम साइट्रिक एसिड, छोटा 1/2 चम्मच घी, पानी आवश्यकतानुसार।
विधि :
सबसे पहले चाशनी बनाने के लिए एक कड़ाही में शकर, साइट्रिक एसिड और पानी डालें और धीमी आंच पर उबलने रख दें। जब पूरी शकर पानी में घुल जाए तब उसमें दूध डालें और जब फेन (झाग) ऊपर आने लगे तो उसे चम्मच से निकालकर अलग कर दें। चाशनी को तब तक पकाएं, जब तक कि यह गाढ़ी न हो जाए। अब चाशनी गाढ़ी होने के पश्चात एक दूसरे बर्तन में आधी चाशनी निकालकर अलग से रख दें।

फिर चाशनी वाले बर्तन में ही मावा और पिसी चीनी डालें और धीमी आंच पर तब तक भूनें, जब तक कि वो गहरे चॉकलेटी रंग की न हो जाए। मिश्रण गाढ़ा होने पर एक थाली में घी का हाथ लगाकर चारों तरफ घुमा लें और तैयार मिश्रण थाली में फैला दें तथा ठंडा होने पर मनचाहे आकार में बर्फी काट लें अथवा रोल बना लें।
अब बाल दाना बनाने के लिए शेष बची चाशनी को गैस पर पुन: गरम करें और इसमें खसखस डालें। चाशनी गाढ़ी होने पर इसे प्लेट में डालें और अपने बनाए हुए बर्फी या रोल को बाल दाने में अच्छी तरह लपेटकर अलग रख लें। इस तरह सभी बनी हुई बर्फी या रोल पर बाल दाना चढ़ा दें।

लीजिए रक्षाबंधन के त्योहार पर मेहमानों के लिए खासतौर पर तैयार की गई उत्तराखंड, मसूरी और अल्मोड़ा की सबसे मशूहर 'बाल मिठाई' तैयार है। इस अलग तरह की मिठाई से अपने भाई का मुंह मीठा कर रक्षाबंधन के पर्व का मजा दोगुना कर लें।



और भी पढ़ें :