पूजा-आरती से बढ़कर संध्या वंदन क्यों?

अनिरुद्ध जोशी|
प्राचीनकाल से ही का प्रचलन रहा है। संधिकाल में ही संध्या वंदन की जाती है, लेकिन वर्तमान में इसका प्रचलन कम हो गया है या सिर्फ वेदपाठी लोग ही करते हैं। अब मंदिरों में पूजा आरती का प्रचलन ही ज्यादा बढ़ गया है। प्राचीन काल में 8 में से 5 वक्त की संधि को करना अनिवार्य है, जबकि आम लोगों के लिए दो वक्त की संधि अनिवार्य कही गई है।
संध्या वंदन में क्या करते हैं?
संधिकाल में शौच, आचमन, प्राणायामादि कर गायत्री छंद से निराकार ईश्वर की प्रार्थना की जाती है। वर्तमान में लोग पूजा-आरती, कीर्तन, यज्ञ को महत्व देते हैं। संधिकाल में ध्यान या प्रार्थना को भी महत्व दिया जाता है। अब यह जानना जरूरी है कि यह उचित है या नहीं। अत: हिन्दू धर्म में संधिकाल में संध्या वंदन करने का बड़ा महत्व है।

2 मिनट का वीडियो जरूर देंखे...
संधि के आठ प्रहर:-
संधि 8 प्रहर की होती है। पूर्वान्ह, मध्यान्ह, अपरान्ह, सायंकाल, प्रदोष, निशीथ, त्रियामा एवं उषा। दिन के चार प्रहर- पूर्वान्ह, मध्यान्ह, अपरान्ह और सायंकाल। रात के चार प्रहर- प्रदोष, निशिथ, त्रियामा एवं उषा। पूर्वान्ह और संध्‍याकाल- उक्त दो समय की संधि प्रमुख है।

संधिवंदन क्यों जरूरी?
संधिकाल में अनिष्ट शक्तियां सक्रिय होने के कारण इस काल में निम्नलिखित बातें निषिद्ध बताई गई हैं। संधिकाल में भोजन, संभोग, जल, निद्रा, शौच, वार्ता, विचार, यात्रा, क्रोध, शाप, शपथ, लेन-देन, रोना, शुभ कार्य, चौखट पर खड़े होना आदि निषेध माने गए हैं।
क्या होगा संध्या वंदन से?
जिस तरह प्रत्येक धर्म में प्रार्थना का अलग अलग तरीके बताए गए हैं उसी तरह हिन्दू धर्म में संध्या वंदन कही गई है। मुस्लिम नमाज पढ़ते हैं, ईसाई प्रार्थना करते हैं उसी तरह हिन्दू संध्या वंदन करते हैं। संध्या वंदन का एक ही तरीका होता है। संध्या वंदन से सभी तरह के रोग और शोक मिट जाते हैं। सुबह और शाम को संध्या वंदन करने से मन और हृदय निर्मल हो जाता है। सकारात्मक भावना का जन्म होता है जो कि हमारे अच्छे भविष्य के निर्माण के लिए जरूरी है।


और भी पढ़ें :

यदि आप निरोग रहना चाहते हैं, तो पढ़ें यह चमत्कारिक मंत्र

यदि आप निरोग रहना चाहते हैं, तो पढ़ें यह चमत्कारिक मंत्र
भागदौड़ भरी जिंदगी में आजकल सभी परेशान है, कोई पैसे को लेकर तो कोई सेहत को लेकर। यदि आप ...

ज्योतिष सच या झूठ, जानिए रहस्य

ज्योतिष सच या झूठ, जानिए रहस्य
गीता में लिखा गया है कि ये संसार उल्टा पेड़ है। इसकी जड़ें ऊपर और शाखाएं नीचे हैं। यदि कुछ ...

श्रावण मास में शिव अभिषेक से होती हैं कई बीमारियां दूर, ...

श्रावण मास में शिव अभिषेक से होती हैं कई बीमारियां दूर, जानिए ग्रह अनुसार क्या चढ़ाएं शिव को
श्रावण के शुभ समय में ग्रहों की शुभ-अशुभ स्थिति के अनुसार शिवलिंग का पूजन करना चाहिए। ...

क्या प्रारब्ध की धारणा से व्यक्ति अकर्मण्य बनता है?

क्या प्रारब्ध की धारणा से व्यक्ति अकर्मण्य बनता है?
ऐसा अक्सर कहा जाता है कि आज हम जो भी फल भोग रहे हैं वह हमारे पूर्वजन्म के कर्म के कारण है ...

किस तिथि को क्या खाने से होगा क्या नुकसान, जानिए

किस तिथि को क्या खाने से होगा क्या नुकसान, जानिए
खाना बनाना भी एक कला है। हालांकि जो मिले, वही खा लें, इसी में भलाई है। खाने के प्रति ...

20 जुलाई 2018 : आपका जन्मदिन

20 जुलाई 2018 : आपका जन्मदिन
दिनांक 20 को जन्मे व्यक्ति का मूलांक 2 होगा। ग्यारह की संख्या आपस में मिलकर दो होती है इस ...

20 जुलाई 2018 के शुभ मुहूर्त

20 जुलाई 2018 के शुभ मुहूर्त
शुभ विक्रम संवत- 2075, अयन- दक्षिणायन, मास- आषाढ़, पक्ष- शुक्ल, हिजरी सन्- 1439, मु. मास- ...

क्या सचमुच ही पंचक में मरने वाला पांच अन्य को भी साथ ले ...

क्या सचमुच ही पंचक में मरने वाला पांच अन्य को भी साथ ले जाता है?
गरुड़ पुराण सहित कई धार्मिक ग्रंथों में उल्लेख है कि यदि पंचक में किसी की मृत्यु हो जाए तो ...

वैकुंठ धाम कहां और कैसा है, जानिए रहस्य

वैकुंठ धाम कहां और कैसा है, जानिए रहस्य
कहते हैं कि मरने के बाद पुण्य कर्म करने वाले लोग स्वर्ग या वैकुंठ जाते हैं। हालांकि वेद ...

भोलेनाथ को क्यों प्रिय है भस्म, जानेंगे तो श्रद्धा से भावुक ...

भोलेनाथ को क्यों प्रिय है भस्म, जानेंगे तो श्रद्धा से भावुक हो जाएंगे, साथ में पढ़ें महाकाल की भस्मार्ती का राज
आखिर भगवान भोलेनाथ को विचित्र सामग्री ही प्रिय क्यों है। बहुत कम लोग जानते हैं कि उनके ...

राशिफल