ज्योतिषाचार्य पराशर मुनि का परिचय

ऋग्वेद के मंत्रदृष्टा और गायत्री मंत्र के महान साधक सप्त ऋषियों में से एक महर्षि वशिष्ठ के पौत्र महान वेदज्ञ, ज्योतिषाचार्य, स्मृतिकार एवं ब्रह्मज्ञानी के पिता का नाम शक्तिमुनि और माता का नाम अद्यश्यंती था। ऋषि पराशर ने निषादाज की कन्या सत्यवती के साथ उसकी कुंआरी अवस्था में समागम किया था जिसके चलते 'महाभारत' के लेखक वेदव्यास का जन्म हुआ। सत्यवती ने बाद में राजा शांतनु से विवाह किया था।

पराशर बाष्कल और याज्ञवल्क्य के शिष्य थे। पराशर ऋषि के पिता को राक्षस कल्माषपाद ने खा लिया था। जब यह बात पराशर ऋषि को पता चली तो उन्होंने राक्षसों के समूल नाश हेतु राक्षस-सत्र यज्ञ प्रारंभ किया जिसमें एक के बाद एक राक्षस खिंचे चले आकर उसमें भस्म होते गए।

कई राक्षस स्वाहा होते जा रहे थे, ऐसे में महर्षि पुलस्त्य ने पराशर ऋषि के पास पहुंचकर उनसे यह यज्ञ रोकने की प्रार्थना की और उन्होंने अहिंसा का उपदेश भी दिया। पराशर ऋषि के पुत्र वेदव्यास ने भी पराशर से इस यज्ञ को रोकने की प्रार्थना की। उन्होंने समझाया कि बिना किसी दोष के समस्त राक्षसों का संहार करना अनुचित है। पुलस्त्य तथा व्यास की प्रार्थना और उपदेश के बाद उन्होंने यह राक्षस-सत्र यज्ञ की पूर्णाहुति देकर इसे रोक दिया।

दरअसल कथा इस प्रकार है कि एक दिन की बात है कि शक्ति एकायन मार्ग द्वारा पूर्व दिशा से आ रहे थे। दूसरी ओर (पश्चिम) से आ रहे थे राजा कल्माषपाद। रास्ता इतना संकरा था कि एक ही व्यक्ति निकल सकता था तथा दूसरे का हटना आवश्यक था। लेकिन राजा को राजदंड का अहंकार था और शक्ति को अपने ऋषि होने का अहंकार। राजा से ऋषि बड़ा ही होता है, ऐसे में तो राजा को ही हट जाना चाहिए था। लेकिन राजा ने हटना तो दूर उन्होंने ऋषि शक्ति को कोड़ों से मारना प्रारंभ कर दिया। राजा का यह कर्म राक्षसों जैसा था अत: शक्ति ने राजा को राक्षस होने का शाप दे दिया। शक्ति के शाप से राजा कल्माषपाद राक्षस हो गए। राक्षस बने राजा ने अपना प्रथम ग्रास शक्ति को ही बनाया और ऋषि शक्ति की जीवनलीला समाप्त हो गई।

महर्षि पराशर और वेदव्यास :
महर्षि पराशर के पुत्र हुए ऋषि वेदव्यास जिन्होंने 'महाभारत' की रचना की थी। वेदव्यास का नाम कृष्ण द्वैपायन था। वेदव्यास की माता का नाम सत्यवती था। सत्यवती का नाम मत्स्यगंधा भी था, क्योंकि उसके अंगों से मछली की गंध आती थी और वह नाव खेने का कार्य करती थी। एक बार जब ऋषि पराशर उसकी नाव में बैठकर यमुना पार कर रहे थे तब उनके मन में सत्यवती के रूप-सौन्दर्य को देखकर आसक्ति के भाव जाग्रत हो गए और उन्होंने सत्यवती के समक्ष प्रणय संबंध का निवेदन कर दिया।

सत्यवती यह सुनकर कुछ सोच में पड़ जाती है और फिर उनसे कहती है कि 'हे मुनिवर! आप ब्रह्मज्ञानी हैं और मैं निषाद कन्या अत: यह संबंध उचित नहीं है।' तब पाराशर मुनि कहते हैं कि 'चिंता मत करो, क्योंकि संबंध बनाने पर भी तुम्हें अपना कौमार्य नहीं खोना पड़ेगा और प्रसूति होने पर भी तुम कुमारी ही रहोगी।' यह सुनकर सत्यवती मुनि के निवेदन को स्वीकार कर लेती है। ऋषि पराशर अपने योगबल द्वारा चारों ओर घने कोहरे को फैला देते हैं और सत्यवती के साथ प्रणय करते हैं।

बाद में वे ऋषि सत्यवती को आशीर्वाद देते हैं कि उसके शरीर से आने वाली मछली की गंध, सुगंध में परिवर्तित हो जाएगी। आगे चलकर इसी नदी के द्वीप पर ही सत्यवती को पुत्र की प्राप्ति होती है। यही पुत्र आगे चलकर वेदव्यास कहलाते हैं। व्यासजी सांवले रंग के थे जिस कारण इन्हें 'कृष्ण' कहा गया तथा यमुना के बीच स्थित एक द्वीप पर उनका जन्म हुआ था इसीलिए उन्हें 'द्वैपायन' भी कहा गया। कालांतर में वेदों का भाष्य करने के कारण वे वेदव्यास के नाम से विख्यात हुए।

पराशर की रचनाएं : ऋषि पराशर ने कई विद्याओं का ज्ञान प्राप्त कर उसे दुनिया को प्रदान किया था। ऋग्वेद में पराशर की कई ऋचाएं हैं। विष्णु पुराण, पराशर स्मृति, विदेहराज जनक को उपदिष्ट गीता (पराशर गीता), बृहत्पराशरसंहिता आदि पराशर की रचनाएं हैं।

पराशर गीता : महाभारत के शांति पर्व में भीष्म और युधिष्ठिर के संवाद में युधिष्ठिर को भीष्म राजा जनक और पराशर के बीच हुए वार्तालाप को प्रकट करते हैं। इस वार्तालाप को 'पराशर गीता' के नाम से जाना जाता है। इसमें धर्म-कर्म संबंधी ज्ञान की बातें हैं। दरअसल, शांति पर्व में सभी तरह के दर्शन और धर्म विषयक प्रश्नों के उत्तर का विस्तृत वर्णन मिलता है।

पराशर का ज्योतिष शास्त्र : पराशर ऋषि ने अनेक ग्रंथों की रचना की जिसमें से ज्योतिष के ऊपर लिखे गए उनके ग्रंथ बहुत ही महत्वपूर्ण हैं। प्राचीन और वर्तमान का ज्योतिष शास्त्र पराशर द्वारा बताए गए नियमों पर ही आधारित है। ऋषि पराशर ने ही बृहत्पाराशर होरा शास्त्र, लघुपराशरी (ज्योतिष) लिखा है।

पराशर की अन्य रचनाएं : बृहत्पाराशरीय धर्मसंहिता, पराशरीय धर्मसंहिता (स्मृति), पराशर संहिता (वैद्यक), पराशरीय पुराणम्‌ (माधवाचार्य ने उल्लेख किया है), पराशरौदितं नीतिशास्त्रम्‌ (चाणक्य ने उल्लेख किया है), पराशरोदितं, वास्तुशास्त्रम्‌ (विश्वकर्मा ने उल्लेख किया है) आदि उन्हीं की रचनाएं हैं। पराशर स्मृति एक धर्मसंहिता है जिसमें युगानुरूप धर्मनिष्ठा पर बल दिया गया है।
ऋषि पराशरजी एक दिव्‍य और अलौकिक शक्ति से संपन्न ऋषि थे। उन्‍होंने धर्मशास्‍त्र, ज्‍योतिष, वास्‍तुकला, आयुर्वेद, नीतिशास्‍त्र, विषयक ज्ञान को प्रकट किया। उनके द्वारा रचित ग्रं‍थ वृहत्‍पराशर होराशास्‍त्र, लघुपराशरी, वृहत्‍पराशरीय धर्म संहिता, पराशर धर्म संहिता, पराशरोदितम, वास्‍तुशास्‍त्रम, पराशर संहिता (आयुर्वेद), पराशर महापुराण, पराशर नीतिशास्‍त्र, आदि मानव मात्र के लिए कल्‍याणार्थ रचित ग्रं‍थ जगप्रसिद्ध हैं जिनकी प्रासंगिकता आज भी बनी हुई है।

विज्ञापन

और भी पढ़ें :