भारत में जर्मन भाषा क्यों?

भारत के केंद्रीय विद्यालयों में तीसरी भाषा के स्थान पर केवल जर्मन को सुशोभित करना एक दुर्भाग्यपूर्ण प्रकरण है और जिस तरह से इस भाषा को भारतीय ...

Widgets Magazine

अंतरिक्ष विज्ञान में एक और विस्मयकारी सफलता

पिछले सप्ताह अंतरिक्ष में मानव ने एक और लम्बी छलांग लगाई। दस वर्षों में लगभग साढ़े 6 अरब ...

एक था रामपाल, एक था रावण

एक था रामपाल। हरियाणा में 12 एकड़ के फैले अपने साम्राज्य में वह एक राजा की-सी ठाठ के साथ ...

दंगे की ताप आज भी महसूस करते हैं भागलपुर के लोग

बिहार का भागलपुर शहर रेशमी वस्त्रों के उत्पादन के लिए प्रसिद्ध रहा है। गंगा के तट पर बसे ...

अनिवार्य मतदान यानी एक नए अपराध का सृजन

हमारे देश में अनिवार्य मतदान के औचित्य-अनौचित्य को लेकर बहस काफी पहले से होती रही है। अब ...

भारत में इबोला का खौफ, ऐसे बचें...

इस समय पूरी दुनिया खतरनाक और जानलेवा बीमारी इबोला के खौफ से डरी हुई है। भारत में भी इबोला ...

बैटल ऑफ रेजांगला : 20 चीनियों के मुकाबले 1 भारतीय ...

18 नंवबर 1962 का दिन भारतीय सेना के स्वर्णिम इतिहास में एक खास स्थान रखता है। इसी दिन ...

देह व्यापार को वैधानिक बनाने के खतरे

भारतीय स्त्री की गुलामी की जंजीरें सदियों से पुरुष, पूंजी और धर्म के हाथों में रही हैं। ...

हम अपनी भाषा से कब करेंगे प्यार?

जी-20 शिखर सम्मेलन के दौरान भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और जर्मनी की चांसलर एंजेला ...

जी-20 सम्मेलन में प्रधानमंत्री मोदी की पहली शिरकत

मोदीजी की वर्तमान विदेश यात्रा प्रथमतः जी-20 (समूह-20) देशों के सम्मेलन में शिरकत करने के ...

क्या है जी-20 और इसका काम

रोजगार के प्रचुर अवसर वाले आर्थिक सुधारों को प्रश्रय देने तथा दुनिया को आतंकवाद के कहर से ...

कितने कदम चल पाएगा जनता परिवार?

देश के राजनीतिक वातावरण में एक बार फिर तीसरे मोर्चे के गठन की चर्चा तैरने लगी है। बीते ...

इतिहास व संस्कृ‍‍ति लेखन का शुद्धिकरण

भेद भी देखिए- एकांकी सोच व आयातित संस्कृति के पक्ष में इनकी समर्पित निष्ठाएं भी देखिए। देश की मूल संस्कृति और देश के मूल इतिहास पुरुषों के संबंध ...

जो मोदी मन भाए, वही मंत्री

केंद्रीय मंत्रिपरिषद का बहुप्रतीक्षित विस्तार कमोबेश उन कयासों के अनुरूप ही रहा जो पिछले ...

आसान नहीं है लोकप्रियता के शिखर पर बने रहना

लोकतंत्र में लोकप्रियता अर्जित करना जितना कठिन है उतना ही आसान है अर्जित लोकप्रियता को खो ...

मुल्क-मजहब, इबादत-सियासत

अभी तक सियासी लिफाफे में मजहब बेचते रहे दिल्ली की जामा मस्जिद के शाही इमाम अहमद बुखारी ने ...

काले धन के देशी तहखाने भी तो खंगालिए!

देश को आजादी मिलने के बाद से लेकर आज तक आर्थिक मोर्चे पर जिन गंभीर समस्याओं से मुकाबिल ...

गांव को खुशहाल बनाती हैं छोटी नदियां

निःसन्देह नदियों को मानव-सभ्यता के विकास में अहम भूमिका होती है। इनके संरक्षण को धर्म से जोड़ा गया। यह माना गया कि इस भावना के अनुसार आने वाली ...

हिन्दू पुनर्जागरण के लिए हिन्दू कांग्रेस

गत दिनों में हिन्दू और हिंदुत्व सर्वाधिक चर्चित शब्द रहा है। अधिकांशत: यह चर्चा ...

Widgets Magazine

संपादकीय

जीत मोदी की, सबक भाजपा को

एग्जिट पोल ने विधानसभा चुनाव नतीजों का रोमांच कुछ तो कम कर ही दिया था। चार-पाँच कोणीय मुकाबले में ...

सपनों की उड़ंची से शब्दों की प्राण-प्रतिष्ठा

सपनों की परवाज़ को बस एक उड़ंची की दरकार होती है। पतंग की आसमान छूती बुलंदी तय करती है कि उड़ंची में ...

नवीनतम

मुंबई आतंकी हमले की बरसी पर शरीफ मोदी के पास होकर भी साथ नहीं थे

काठमांडू। मुंबई आतंकी हमले की बरसी पर आज यहां 18वें दक्षेस शिखर सम्मेलन के उदघाटन सत्र के अवसर पर ...

सड़क से लेकर सदन तक 'कशिश हत्याकांड' की गूंज

देहरादून। सात वर्षीय कशिश की रेप के बाद हत्या के मामले से पूरे राज्य में आज लोगों का भारी गुस्सा ...

जरूर पढ़ें

लिपट जाता हूं मां से...मुनव्वर राना

लिपट जाता हूं मां से और मौसी मुस्कुराती है, मैं उर्दू में ग़ज़ल कहता हूं, हिन्दी मुस्कुराती है

बाल कविता : चंदा मामा

चंदा मामा चंदा मामा। कब हलुवा पूड़ी खिलाओगे। अपने भांजे से मिलने हेतु। कब छत पर आओगे।

पंचतंत्र की नटखट कहानी : शरारती बंदर

एक समय शहर से कुछ ही दूरी पर एक मंदिर का निर्माण किया जा रहा था। मंदिर में लकड़ी का काम बहुत था ...

Widgets Magazine
Widgets Magazine