आत्मा की सात अवस्थाएं, जानिए

वेद अनुसार जन्म और मृत्यु के बीच और फिर मृत्यु से जन्म के बीच तीन अवस्थाएं ऐसी हैं जो अनवरत और निरंतर चलती रहती हैं। वह तीन अवस्थाएं हैं : जागृत, स्वप्न और सुषुप्ति। उक्त तीन अवस्थाओं से बाहर निकलने की विधि का नाम ही है हिन्दू धर्म।

Widgets Magazine

'आत्मा' के बारे में 10 जानकारी

तुम्हें और मुझे ही आत्मा कहा जाता है। तुम्हारे और हमारे ही नाम रखे जाते हैं। जब हम शरीर छोड़ देते हैं तो कुछ लोग तुम्हें या मुझे भूतात्मा मान ...

स्पिरिट मशीन’ से आत्मा से बात करने का दावा

विक्का धर्म की एक पुजारिन ने दावा किया है कि उन्होंने विवादास्पद ‘स्पिरिट मशीन’ की प्रतिकृति के साथ सफल प्रयोग करके आत्माओं से बात की है। ऐसा ...

कैसा है 'आत्मा' का रंग?

दुनिया का शायद ही कोई व्यक्ति जानता होगा की आत्मा का रंग क्या है। क्या सचमुच ही आत्मा का भी रंग होता है? कहते हैं कि आत्मा का कोई रंग नहीं होता ...

कौन बनता है भूत, कैसे रहें भूतों से सुरक्षित

आत्मा के तीन स्वरुप माने गए हैं– जीवात्मा, प्रेतात्मा और सूक्ष्मात्मा। जो भौतिक शरीर में वास करती है वह जीवात्मा कहलाती है। जब वासनामय शरीर में ...

मौत के बाद क्या होता है?

जब शरीर छूटता है तो व्यक्ति के साथ क्या होता है यह सवाल सदियों पुराना है। इस संबंध में जनमानस के चित्त पर रहस्य का पर्दा आज भी कायम है जबकि इसका ...

आत्मा का अन्नमय कोश-1

वेद में सृष्टि की उत्पत्ति, विकास, विध्वंस और आत्मा की गति को पंचकोष के क्रम में समझाया गया है। पंच कोष ये हैं- 1. अन्नमय, 2. प्राणमय, 3. मनोमय, ...

आत्मा का विज्ञानमय कोश-4

वेद में सृष्टि की उत्पत्ति, विकास, विध्वंस और आत्मा की गति को पंचकोश के क्रम में समझाया गया है। पंचकोश ये हैं- 1. अन्नमय, 2. प्राणमय, 3. मनोमय, ...

आत्मा का आनंदमय कोश-5

वेद में सृष्टि की उत्पत्ति, विकास, विध्वंस और आत्मा की गति को पंचकोश के क्रम में समझाया गया है। पंचकोश ये हैं- 1. अन्नमय, 2. प्राणमय, 3. मनोमय, ...

अनुभूति के चार स्तर

वेद और वेदांत अनुसार आत्मा होश के कुछ स्तर और उप-स्तर बताएँ गए है। पंचकोश या पंचतत्व से बंधी हुई आत्मा स्वयं को मूलत: त्रिस्तरों में पाती हैं। ...

आत्मा का मनोमय कोश-3

वेद में सृष्टि की उत्पत्ति, विकास, विध्वंस और आत्मा की गति को पंचकोश के क्रम में समझाया गया है। पंचकोश ये हैं- 1. अन्नमय, 2. प्राणमय, 3. मनोमय, ...

आत्मा का प्राणमय कोश-2

वेद में सृष्टि की उत्पत्ति, विकास, विध्वंस और आत्मा की गति को पंचकोश के क्रम में समझाया गया है। पंचकोश ये हैं- 1. अन्नमय, 2. प्राणमय, 3. मनोमय, ...

आत्मा के पाँच कोष और चार स्तर

जड़ में प्राण; प्राण में मन; मन में विज्ञान और विज्ञान में आनंद। यह चेतना या आत्मा के रहने के पाँच स्तर हैं। आत्मा इनमें एक साथ रहती है। यह अलग ...

आत्मवान बनो: वेद

आत्मा को चेतन, जीवात्मा, पुरुष, ब्रह्म स्वरूप, साक्षित्व आदि अनेक नामों से जाना जाता जाता है। आत्म तत्व स्वत: सिद्ध और स्वप्रकाश है। प्रत्येक ...

आत्‍मा एव इदं सर्वम्

हिन्दू सनातन धर्म के अनुसार संपूर्ण दृष्यमान और परिवर्तनशील जगत का आधार अभौतिक व अदृश्य आत्मा है, जो सनातन और अजर-अमर है। हिंदू धर्म अनुसार ...

Widgets Magazine

ज़रूर पढ़ें

श्री हनुमान जयंती : चमत्कारी 12 नाम

बजरंग बली के 12 चमत्कारी और असरकारी नाम लेनेवाला व्यक्ति धनवान होता है। संध्या के समय नाम लेनेवाला ...

हनुमान जयंती को चन्द्रग्रहण, क्या होगा आप पर असर

4 अप्रैल चैत्र शुक्ल पूर्णिमा, शनिवार को हनुमान जयंती के दिन ग्रस्तोदय चन्द्रग्रहण होने से ग्रहण के ...

क्या आप जानते हैं कि हनुमानजी सुनते हैं रामकथा...

माना जाता है कि जहां रामकथा होती है वहां हनुमान कथा सुनने पहुंचते हैं। कहा गया है एक बार राजदरबार ...

Widgets Magazine

धर्म संसार

हनुमान जयंती के विशेष फलदायक टोटके

हनुमान जयंती के टोटके विशेष फल प्रदान करते हैं। जीवन से जुड़ी सभी समस्याओं को दूर करने वाले यह ...

हनुमान जयंती पर रहेगा चंद्रग्रहण का प्रभाव

हनुमान जयंती शनिवार, 4 अप्रैल पर खग्रास चंद्रग्रहण होगा। चंद्रग्रहण का प्रभाव भारत सहित दूसरे देशों ...

समाचार

माइक्रोमैक्स ने लांच किए दो सस्ते थ्रीजी स्मार्ट फोन

माइक्रोमैक्स ने दो सस्ते स्मार्ट फोन लांच किए हैं। माइक्रोमैक्स Bolt S300 और माइक्रोमैक्स Bolt D320 ...

राउरकेला इस्पात संयंत्र में पीएम मोदी

राउरकेला। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को यहां राउरकेल इस्पात संयंत्र में 12,000 करोड़ रुपए ...

Widgets Magazine