0

वर्ष कुंडली के 5 बड़े योग जो बहुत कम लोग जानते हैं...नाम जानकर चौंक जाएंगे आप

मंगलवार,सितम्बर 25, 2018
varsh kundali
0
1
शायद कभी आपके मन में यह सवाल भी आया हो कि आखिर क्या है ये जन्म पत्रिका जिसे जन्म कुंडली भी कहते हैं? और कैसे इस पत्रिका ...
1
2
ज्योतिष में विश्वास करना या न करना आपकी उसके प्रति धारणा पर आधारित है,परन्तु हमारी धारणाओं से ऊपर भी एक सत्य है जो ...
2
3
जन्म कुंडली में बिना योगिनी के भविष्यवाणी की सफलता में संदेह बना रहता है। अत: किसी भी जातक को अपनी शुभ-अशुभ योगिनी की ...
3
4
हिंदू पंचांग के पंचांग अंग है:- तिथि, वार, नक्षत्र, योग और करण। उचित तिथि, वार, नक्षत्र, योग और करण को देखकर ही कोई शुभ ...
4
4
5
जन्मकुंडली में नवम भाव भाग्य-धर्म-यश का है। इस भाव का स्वामी किस भाव में किस स्थिति, किन ग्रहों के साथ या दृष्ट है।
5
6
हमारी हथेली पर कई तरह के चिन्ह बने होते हैं। हर चिन्ह का कोई ना कोई अर्थ निहित होता है। आज हम आपके लिए लाए हैं हथेली के ...
6
7
भविष्य में आपको कौन-कौन से रोग हो सकते हैं इसकी जानकारी हस्तरेखा के अनुसार हासिल की जा सकती है। आइए जानें यहां प्रस्तुत ...
7
8
अपनी जन्मकुंडली में धनवान होने के योग स्वयं देख सकते हैं। जानिए कुछ प्रमुख चमत्कारी धनवान योग-
8
8
9
ज्योतिष शास्त्र में सूर्य सबसे प्रधान ग्रह है। सूर्य का प्रभाव स्पष्ट रूप से दिखाई देता है। बुध अपना प्रभाव अन्य ग्रहों ...
9
10
हर ग्रह शरीर के जिस अंग का प्रतिनिधित्व करता है उसी के अनुसार रोग होते हैं जैसे शुक्र काम कला का प्रतीक है तो समस्त यौन ...
10
11
जन्मकुंडली में कोई भी ग्रह कहीं भी बैठा हो वह दूसरे ग्रह आदि पर दृष्टि डालता है तो उस दृष्टि का प्रभाव शुभ या अशुभ होता ...
11
12
सामान्यतः किसी भी जातक की जन्मपत्रिका में लग्न, चतुर्थ, सप्तम, अष्टम और द्वादश भाव में से किसी भी एक भाव में मंगल का ...
12
13
विवाह के पूर्व लड़के और लड़की की कुंडली मिलान को मेलापक या मेलन-पद्धति कहते हैं। इसे मिलान पत्रक या अष्टकूट मिलान भी ...
13
14
IAS, IPS बनना है तो सबसे पहले जन्म लग्न का प्रबल होना जरूरी है। आइए जानते हैं क्या कहता है ज्योतिष...
14
15
कुंडली का फलित निकालते या अध्ययन करते समय कई नियम और बातों का ध्यान रखना पड़ता है। उन प्रमुख बातों में से एक है कुंडली ...
15
16
अगर जन्मकुंडली के दूसरे भाव में शुभ ग्रह बैठा हो तो जातक के पास अथाह पैसा आता है। जानिए कुछ प्रमुख चमत्कारी धनवान योग-
16
17
हिंदू कालगणना का आधार नक्षत्र, सूर्य और चंद्र की गति पर आधारित है। इसमें नक्षत्र को समसे महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त है। ...
17
18
ग्रह धरती की तरह के वे खगोलीय पिंड हैं, जो पृथ्वी के साथ-साथ अंतरिक्ष में अपनी धुरी पर स्थिर रहकर गतिमान हैं। कुछ ग्रह ...
18
19
भचक्र क्या है? भचक्र को ही राशि चक्र कहते हैं। राशि या राशि चक्र को समझने के लिए नक्षत्रों को समझना आवश्यक है। क्योंकि ...
19