दुष्कर्म के दोषी इमाम को 8 साल की सजा

पुनः संशोधित मंगलवार, 12 सितम्बर 2017 (22:23 IST)
Widgets Magazine
बेगूसराय। बिहार में बेगूसराय जिले की एक अदालत ने नाबालिग के साथ दुष्कर्म के मामले में दोषी मस्जिद के इमाम को मंगलवार को आठ साल के साथ ही पांच हजार रुपए जुर्माने की सजा सुनाई।
             
अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश पीयूष कमल दीक्षित ने यहां सजा के बिंदुओं पर सुनवाई के बाद सहरसा जिले के सलखुआ थाना क्षेत्र में अरवा गांव निवासी इमाम मोहम्मद कासिफ जया को भारतीय दंड विधान की धारा 365 में पांच साल का कारावास एवं पांच हजार रुपए अर्थदंड तथा पॉक्सो की धारा चार के तहत आठ साल के कारावास एवं पांच हजार रुपए अर्थदंड की सजा सुनाई है। इस मामले में आठ सितम्बर को अदालत ने कासिफ को दोषी करार दिया था।
             
आरोप के अनुसार, 21 अप्रैल 2015 की रात्रि में बेगूसराय जिले के बखरी थाना क्षेत्र में मोहनपुर गांव की 15 वर्षीय नाबालिग लड़की का अपहरण करने के बाद मस्जिद के एक कमरे में कैद कर इमाम ने उसके साथ दो दिनों तक दुष्कर्म किया। बाद में नाबालिग के पिता ने कासिफ के खिलाफ संबंधित थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई थी। 
           
एक अन्य नाबालिग के साथ दुष्कर्म के मामले में न्यायाधीश पीयूष कमल दीक्षित की ही अदालत ने दोषी तिलक सहनी को सात साल कारावास की सजा सुनाई और पांच हजार रुपए का जुर्माना भी किया।
          
गौरतलब है कि बेगूसराय जिले के भगवानपुर थाना क्षेत्र के बगरस गांव निवासी तिलक सहनी ने 16 मार्च 2016 की रात्रि में गांव की ही एक नाबालिग लड़की के साथ दुष्कर्म किया था। (वार्ता)
Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।