रक्षा बंधन पर्व : जानिए क्या करें इस दिन, 9 जरूरी बातें


स्नेह और विश्वास का मधुर पर्व राखी 7 अगस्त 2017 को है। आइए जानें क्या करें इस दिन, कैसे मनाएं पर्व....

- प्रातः उठकर स्नान-ध्यान करके सुंदर, उज्ज्वल तथा शुद्ध वस्त्र धारण करें।

- घर को साफ करके, चावल के आटे का चौक पूरकर मिट्टी के छोटे से घड़े की स्थापना करें।

ALSO READ:
का सटीक और शुद्ध मुहूर्त

- चावल, कच्चे सूत का कपड़ा, सरसों, रोली को एक साथ मिलाएं। फिर पूजा की थाली तैयार कर दीप जलाएं। उसमें मिठाई रखें।

- इसके बाद भाई को पीढ़े पर बिठाएं (पीढ़ा यदि आम की लकड़ी का हो तो सर्वश्रेष्ठ माना जाता है)।

- भाई को पूर्वाभिमुख यानी पूर्व दिशा की ओर बिठाएं। बहन का मुंह पश्चिम दिशा की ओर होना चाहिए।
- इसके बाद शुभ मुहूर्त में (जो कि इस बार भद्रा और ग्रहण की वजह से 11 बजकर 5 मिनट से लेकर 1 बजकर 47 मिनट तक है।) भाई के माथे पर टीका लगाकर दाहिने हाथ पर रक्षा सूत्र बांधे। जब रक्षा सूत्र बांधा जाए तब भाई हाथ में अक्षत रखकर मुट्ठी बांधकर रखें।

- शास्त्रों के अनुसार रक्षा सूत्र बांधे जाते समय निम्न मंत्र का जाप करने से अधिक फल मिलता है। मंत्र इस प्रकार है-

"येन बद्धो बलिराजा, दानवेन्द्रो महाबलः तेनत्वाम प्रति बद्धनामि रक्षे, माचल-माचल"
- रक्षा सूत्र (राखी) बांधने के बाद आरती उतारें फिर भाई को मिठाई खिलाएं। बहन यदि बड़ी हों तो छोटे भाई को आशीर्वाद दें और यदि छोटी हों तो भी बड़े भाई को प्रणाम करना चाहिए।

आजकल लोग सोफे व कुर्सी में बैठकर राखी बंधवा लेते हैं। यह उचित नहीं है, राखी बंधवाते समय पीढ़े पर ही बैठें। इससे शुद्धिकरण होता है और अच्छा प्रभाव पड़ता है। व्यक्ति चुंबकीय रेखाओं से मुक्त हो जाता है। पीढ़े पर सिर्फ भाई को नहीं, बल्कि बहन को भी बैठना चाहिए। यह विधि सर्वोत्तम है।

ALSO READ:
पर प्रचलित हैं कैसे-कैसे टोटके, रोचक जानकारी

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :