ह्यूस्टन में एक डॉलर का घर 40 सेंट में

Last Updated: शुक्रवार, 13 अक्टूबर 2017 (16:49 IST)
ह्यूस्टन। यहां गलियों में निवेशक बाढ़ के पानी से घिरे घरों को खरीदने के लिए चक्कर लगा रहे हैं ताकि आजीवन बेहतर रिटर्न देने वाला किया जा सके तो दूसरी ओर विक्रेताओं को कहा जा रहा है कि 'हम बाढ़ से घिरे घरों को खरीदना चाहते हैं, जितनी जल्दी संभव हो, अपना घर बेच दो। लेकिन मकान मालिकों की दुविधा है कि वे अपना घर इतनी सस्ती दरों पर कैसे बेच दें क्योंकि संभव है कि दोबारा ऐसा घर बनाना असंभव हो जाए।


रांच शैली में बने एक घर के वृद्ध मालिक और उसकी पत्नी घर को छोड़ना चाहते हैं और दोनों ही ज्यादा चलने फिरने से मजबूर लेकिन तीन सप्ताह पहले एक लाख बीस हजार डॉलर मकान की आधी कीमत लगाई जा चुकी है और वे मकान को बेचने के बारे में सोच रहे हैं। लेकिन इससे पहले आधा दर्जन निवेशकों ने उनके घर की कीमत 55,000 डॉलर तक कम लगाई है।

यह लालच और भय के बीच की रस्साकशी है और मकान मालिक भी जानते हैं कि निवेश करने वाले गिद्ध की तरह से उनकी सम्पत्तियों पर नजरें गढ़ाए हैं। तूफान प्रभावित टेक्सास और फ्लोरिडा में अरबों डॉलर की सम्पत्ति बिकाऊ है और सम्पत्तियों में निवेश करने वालों के लिए यह सबसे अधिक उपयुक्त मौका है। वे अपनी चेकबुक्स के लिए तैयार बैठे हैं और उन्हें पता है कि वे कम से कम कीमत पर खरीद सकते हैं और इसे बेहतर मौके पर बेच सकते हैं। संभव हो तो वे इन घरों को वर्षों तक किराए पर दे सकते हैं। इस तरह उनका निवेश दोगुना,तिगुना रिटर्न दे सकता है।

इस तरह की सौदेबाजी सफल होती है। विदित हो कि सत्तर के दशक में जब न्यू यॉर्क में करीब-करीब लोगों के दिवालिया होने का समय था तब खरीददारों ने कॉऑप्स और ऑफिस टॉवर्स को हथियाने का सुनहरा मौका पाया था। हाल ही में, कंपनियां जिनमें ब्लैकस्टोन ग्रुप एलपी और अन्य बड़े नाम शामिल हैं, ने 2008 के वित्तीय संकट के बाद बैंकों, कंपनियों के कब्जे वाले मकानों को खरीदा था और इस तरह उन्हें अरबों डॉलर का हुआ है।

ज्यादातर प्राकृतिक आपदाओं के बाद छोटे निवेशकों की चांदी हो जाती है और वे तूफान के बाद पानी से घिरे तीस से ज्यादा मकानों को औसतन 175,000 डॉलर प्रति मकान की दर से खरीद लेते हैं। इसके बाद वॉल स्ट्रीट की दिग्गज कंपनियां सक्रिय हो जाती हैं और बड़े कारोबारियों का खेल शुरू हो जाता है
और मकान मालिक अपने बने बनाए घरों को बेचकर जीवन चलाने के कोई और तरीके खोजने लगते
हैं। इस तरह के कारोबार में प्राइवेट इक्विटी फर्मों और पेंशन फंड्‍स को लाभ कमाने का मौका मिलता है। ‍तूफान हार्वे और इरमा के बाद बड़ी संख्या में लोगों ने भयभीत होकर अपने घर बेच डाले थे।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

यदि पैरेंट्स के व्यवहार में हैं ये 4 बुरी आदतें तो आपके ...

यदि पैरेंट्स के व्यवहार में हैं ये 4 बुरी आदतें तो आपके बच्चे को बिगड़ने से कोई नहीं रोक सकता!
पैरेंट्स की कुछ ऐसी आदतें होती हैं, जो वे बच्चों को सुधारने, कुछ सिखाने-पढ़ाने और नियंत्रण ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो यह एस्ट्रो टिप्स आपके लिए है
क्या आप भी संकोची हैं, अगर हां तो यह आलेख आपके लिए है...

कैंसर की रिस्क लेना अगर मंजूर है तो ही इन 7 सामान्य लक्षणों ...

कैंसर की रिस्क लेना अगर मंजूर है तो ही इन 7 सामान्य लक्षणों को नजरअंदाज करें, वरना हो सकती है बड़ी परेशानी
ये बीमारी भी ऐसे ही सामने नहीं आती। इसके भी लक्षण हैं जो आप और हम जैसे लोग अनदेखा करते ...

5 ऐसी चीजें जो लिवर की बीमारी को करती हैं दूर, एक बार पढ़ें ...

5 ऐसी चीजें जो लिवर की बीमारी को करती हैं दूर, एक बार पढ़ें जरूर
आप खाने के शौकीन हैं लेकिन क्या आप महसूस कर रहे हैं कि पिछले कुछ समय से आपका पाचन थोड़ा ...

दोमुंहे बालों से छुटकारा पाना चाहती हैं, तो ये 4 तरीके ...

दोमुंहे बालों से छुटकारा पाना चाहती हैं, तो ये 4 तरीके अपनाएं
जब बालों का निचला हिस्सा दो भागों में बंट जाता है, तब उसे बालों का दोमुंहा होना कहते हैं। ...

फुटबॉल के मैदान से हटकर अब चर्चा कूटनीति के मैदान की

फुटबॉल के मैदान से हटकर अब चर्चा कूटनीति के मैदान की
दुनिया का सबसे बड़ा और रोमांच से भरपूर फुटबॉल मेला समाप्त हुआ। करोड़ों को रुला लिया, ...

प्रेम गीत : नाराज़ हैं मेहरबाँ मेरे

प्रेम गीत : नाराज़ हैं मेहरबाँ मेरे
नाराज़ हैं मेहरबाँ मेरे,अब आ भी जाओ,कि अंजुमन को तेरी दरक़ार है, ढूँढता रहा,

कैसे करें देवशयनी एकादशी व्रत, क्या मिलेगा इस व्रत का फल, ...

कैसे करें देवशयनी एकादशी व्रत, क्या मिलेगा इस व्रत का फल, जानिए...
आषाढ़ शुक्ल पक्ष की एकादशी को ही देवशयनी एकादशी कहा जाता है। इस दिन से भगवान श्री हरि ...

कैसा है शिव का स्वरूप, क्यों माने गए हैं स्वयंभू, जानिए...

कैसा है शिव का स्वरूप, क्यों माने गए हैं स्वयंभू, जानिए...
शिव यक्ष के रूप को धारण करते हैं और लंबी-लंबी खूबसूरत जिनकी जटाएं हैं, जिनके हाथ में ...

ग़ज़ल: सर झुकाना आ जाये

ग़ज़ल: सर झुकाना आ जाये
नज़ाकत-ए-जानाँ1 देखकर सुकून-ए-बे-कराँ2 आ जाये, चाहता हूँ बेबाक इश्क़ मिरे बे-सोज़3 ज़माना ...