कविता : रस्में जो छल रही हैं भविष्य...




* पर तीखा कटाक्ष : रस्में जो छल रही हैं भविष्य...

कुछ तो खास उल्लास था उस दिन में,
त्योहार का दिन, रस्मों को निभाने का दिन।

आडंबर पीछे छोड़ हुआ नई रस्म का उद्घोष,
बदलकर पुरानी रस्में जो छल रही हैं भविष्य।

हर साल की तरह वो था करवा चौथ का दिन,
सभी थीं सजने-संवरने में पुर निष्ठा मगन।

मंदिर में भीड़ थी ठहाकों की गूंज चारों ओर,
लाल, गुलाबी, सिन्दूरी वस्त्र रंगों में सजी।

खनकतीं चूड़ियां, मांग टीका, ललाट पर बिंदी,
मेहंदी कढ़ी कलाइयां, माथे पर गर्वित सिन्दूर।

जलते कई दीप, महकते पुष्प, रंग-बिरंगे करवा,
त्योहारों की पहचान अति आनंदित था वातावरण।

इस परम नजारे में एक पल को नजर ठहर गई,
भीड़ को धकेलती-मुकेलती नजर आई लक्ष्मी।

तन पर नहीं कोई कीमती गहने वस्त्र वरन् नैसर्गिक,
घाघरा-चोली पहने, संग थीं मुस्कराती चारों पुत्रियां।

पास आ किया अभिवादन सबका, वादन ज्ञानी मां से,
भरी-पूरी ज्ञानी मां हीरों का भारी हार कुंदन की साड़ी।

दीपिका ऐश्वर्य-सी दो बहुओं संग, लक्ष्मी पर डाले पैनी नजर,
आ गई लक्ष्मी बेटियों संग, साग-सलाद से फुरसत पाकर।

हाथ जोड़कर मुस्कराती लक्ष्मी सीधे गले मिली,
व्यर्थ वेदनाओं से परे आश्वासित बोल पड़ी,
हजार बेटों पर नौ सौ बेटियां, है सौ का फासला।

चार मैंने दी हैं छियानवे अभी भी तो कम हैं,
आप बढ़िया पकवान बनाएं, खिलाएं मधुमेह में।
बेचारे पति के दिल का रास्ता खोजते हैं पेट से,
फिर उसकी लंबी उम्र की कामना में रखें व्रत।

आज भगवान भी असमंजस में हैं थोड़े,
पकवानों का ऐश्वर्य छोड़ साग-सलाद का भोग लगाएं।

बहुओं को छोड़ पुत्रों को आदेश दें कुछ बदलाव लाएं,
करवा सजाएं, रखें, मिन्नतें मांगें।
करें लंबी उम्र की कामना आपकी बहुओं की,
तब कहीं खत्म होगा यह छियानवें का फासला।

पीढ़ियां घिस जाएंगी कोई धर्म-रस्म काम क्या आएगी,
अब दमक रही थी लक्ष्मी पवित्र सादगी की चमक लिए।

मंद पड़ी हीरों कुंदन की चमक, कृत्रिम रस्मों का वो दिन,
खिलखिलाईं बहुएं, खो गई मुरझाई ज्ञानी मां कहीं भीड़ में...!

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

सेहत और सौंदर्य का साथी है विटामिन-ई, जानिए 10 लाभ

सेहत और सौंदर्य का साथी है विटामिन-ई, जानिए 10 लाभ
विटामिन-ई खासतौर पर सोयाबीन, जैतून, तिल के तेल, सूरजमुखी, पालक, ऐलोवेरा, शतावरी, ऐवोकेडो ...

ब्रेकफास्ट में क्या खाएं क्या नहीं, जानिए 10 काम की

ब्रेकफास्ट में क्या खाएं क्या नहीं, जानिए 10 काम की बातें...
सुबह का नाश्ता सभी को अवश्य करना चाहिए। यह सेहत के लिहाज से बहुत महत्वपूर्ण होता है। ...

नृसिंह जयंती 2018 : क्या करें इस दिन, जानें 7 काम की ...

नृसिंह जयंती 2018 : क्या करें इस दिन, जानें 7 काम की बातें...
वैशाख महीने के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी को नृसिंह जयंती व्रत किया जाता है। वर्ष 2018 में यह ...

अपार धन चाहिए तो जपें श्रीगणेश के ये चमत्कारिक मंत्र

अपार धन चाहिए तो जपें श्रीगणेश के ये चमत्कारिक मंत्र
श्रीगणेश की आराधना को लेकर कुछ ऐसे तथ्य हैं, जिनसे आप अब तक अंजान रहे। जी हां, आप अगर ...

कहानी : कुएं को बुखार

कहानी : कुएं को बुखार
अंकल ने नहाने के कपड़े बगल में दबाते हुए कहा, 'रोहन! थर्मामीटर रख लेना। आज कुएं का बुखार ...

लघुकथा : धर्मात्मा?

लघुकथा : धर्मात्मा?
वे नगरसेठों में गिने जाते थे। दान-पुण्य करने में नगर के शीर्षस्थ व्यक्ति। एक दिन वे अपनी ...

आसाराम केस : घोर अनैतिकता पर नैतिकता की जीत

आसाराम केस : घोर अनैतिकता पर नैतिकता की जीत
अन्ततः आसाराम को उनके कुकृत्य का दंड मिल ही गया। मरते दम तक कैद की सजा सुनाकर न्यायाधीश ...

क्या आपने पढ़ी है नरसिंह अवतार की यह पौराणिक गाथा....

क्या आपने पढ़ी है नरसिंह अवतार की यह पौराणिक गाथा....
भगवान नरसिंह में वे सभी लक्षण थे, जो हिरण्यकश्यप के मृत्यु के वरदान को संतुष्ट करते थे। ...

ज्येष्ठ कृष्ण पक्ष का पाक्षिक पंचांग : वट सावित्री व्रत 15 ...

ज्येष्ठ कृष्ण पक्ष का पाक्षिक पंचांग : वट सावित्री व्रत 15 मई को
'वेबदुनिया' के पाठकों के लिए 'पाक्षिक-पंचाग' श्रृंखला में प्रस्तुत है प्रथम ज्येष्ठ माह ...

13 संकेतों से जानें कि आप फैशनेबल हैं या नहीं?

13 संकेतों से जानें कि आप फैशनेबल हैं या नहीं?
हो सकता है आपकी एक फैशनेबल पड़ोसी, महिला मित्र व सहकर्मी दोस्त को आपकी अलमारी देख कर लगे ...