हिन्दी कविता : दर्द का अर्थ...


 
 
दर्द ने बहुत दर्द दिया है हमको,
अपनों ने समझा दिया है हमको।
 
नादां थे न समझ सके थे बेवफाइयां उनकी, 
करते रहे हर वक्त वो आजमाइशें हमारी।
 
और हम समझें उनको कितनी परवाह है हमारी,
उनके को समझ न सके सोचा ये तो हक है उनका।
 
ढूंढते रहे, रह गए अकेले कौन अपने साथ है,
को समझ लिया था मेला।
 
ये सोच-सोच खुश थे हम तो,
को जिसने नकारा उससे मिले हम बेइंतहा प्यार से।
 
हर बात को फायदे की नजर से देखने वालों ने जतलाया हमें,
अगाध स्नेह भी एक अभिशाप है।
 
खोकर शांति की गोद में जब सोचने को मजबूर हुए,
पाया सिर्फ खुद को तन्हा तब,
और उदासियों में हम खो गए।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :