आरके नगर उपचुनाव मतगणना : दिनाकरण काफी आगे, किया जीत का दावा

चेन्नई| Last Updated: रविवार, 24 दिसंबर 2017 (18:01 IST)
चेन्नई। तमिलनाडु में विधानसभा उपचुनाव की मतगणना में अन्नाद्रमुक के विरोधी गुट के नेता टीटीवी दिनाकरण ने अन्नाद्रमुक और द्रमुक उम्मीदवारों से काफी बढ़त बना ली है और उन्होंने दिवंगत मुख्यमंत्री जे. जयललिता की सीट रहे इस निर्वाचन क्षेत्र से जीत का दावा किया है।
अपने अन्नाद्रमुक प्रतिद्वंद्वी ई. मधुसूदन से करीब 20,000 वोटों की बढ़त बनाने के बाद निर्दलीय प्रत्याशी दिनाकरण मरीना बीच पर पार्टी के दिग्गजों दिवंगत एमजी रामचन्द्रन (पार्टी संस्थापक) और जयललिता के स्मारकों पर गए और पुष्पांजलि अर्पित की। उन्होंने समाधि पर नमन किया।
8वें दौर की मतगणना के उपरांत दिनाकरण को 39,548 मत मिले हैं, जो मधुसूदन को मिले 19,525 वोट से करीब 20,000 अधिक हैं। द्रमुक के एन. मारुतू गणेश को 10,233 वोट हासिल हुए हैं।

प्रफुल्लित दिनाकरण ने मदुरै में कहा कि हम सच्चे अन्नाद्रमुक हैं, आरके नगर के लोगों ने अम्मा के उत्तराधिकारी का चुनाव किया है। उन्होंने मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी की अगुवाई वाली अन्नाद्रमुक सरकार पर प्रहार करते हुए कहा कि बढ़ता अंतर दर्शाता है कि लोग सत्ता परिवर्तन चाहते हैं।
उन्होंने कहा कि हाल ही में तमिलनाडु के विभिन्न हिस्सों जैसे अविनाशी, अरुमनाई में मेरे दौरे के दौरान लोगों ने कहा कि प्रेशर कुकर (उनका चुनाव निशान) जीतेगा। वे सत्ता परिवर्तन चाहते हैं। जीत का दावा करते हुए बागी नेता ने कहा कि यह पार्टी संस्थापक रामचन्द्रन (एमजीआर) की 30वीं पुण्यतिथि पर 1.5 करोड़ पार्टी समर्थकों के लिए सबसे अच्छी सौगात है।

चुनाव आयोग द्वारा पलानीस्वामी गुट को चुनाव आयोग द्वारा अन्नाद्रमुक का चुनाव निशान देने के संबंध में दिनाकरण ने कहा कि हम सच्चे अन्नाद्रमुक हैं। उम्मीदवार निशान तय करता है। मैं पहले ही कह चुका हूं कि दो पत्ती निशान तभी सफल निशान होगा, जब यह पुरची थलैइवी (एमजीआर) और अम्मा (जयललिता) के साथ होगा। यदि यह एनएन नाम्बियार और पीएस वीरप्पा को दे दिया तो क्या लोग उसे वोट करेंगे? नाम्बियार और वीरप्पा बीते जमाने के खलनायक रहे हैं। जब एमजीआर बड़े पर्दे के हीरो होते थे तब वे खलनायक होते हैं।
दिनाकरण ने कहा कि पलानीस्वामी सरकार 3 महीने में गिर जाएगी। बाद में वे लौटे, जहां हवाई अड्डे पर उनके समर्थकों ने उनका जोरदार स्वागत किया। मतगणना 19 चरणों में होनी है। पहले दिनाकरण और अन्नाद्रमुक उम्मीदवार के समर्थकों के बीच कथित झड़प के बाद आरके नगर विधानसभा सीट उपचुनाव की मतगणना थोड़ी देर के लिए बाधित हुई थी।
जयललिता 2015 के उपचुनाव और 2016 के में आरके नगर से जीती थीं। दिनाकरण के अच्छी-खासी बढ़त बनाने के साथ ही उनके समर्थकों ने जश्न मनाना शुरू कर दिया और फिर मिठाइयां बांटीं तथा पटाखे छोड़े। (भाषा)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :