राज्यसभा चुनाव : 'आप’ भी 'गुप्त रोग’ की शिकार...

दिल्ली| अनिल जैन| Last Updated: शुक्रवार, 5 जनवरी 2018 (12:51 IST)
दिल्ली से राज्यसभा की तीन सीटों के लिए इसी महीने होने वाले चुनाव के लिए अपने उम्मीदवारों के नामों का एलान करने के साथ ही न सिर्फ आम आदमी पार्टी एक बार फिर सवालों से घिर गई है, बल्कि यह सवाल भी फिर ताजा हो गया है कि का यह उच्च सदन आखिर किन लोगों के लिए है और यह किसका प्रतिनिधित्व करता है?
वैसे तो हर दो साल बाद होने वाला राज्यसभा का चुनाव पिछले कई दशकों से देश में राजनीतिक व्यवस्था के पतन की नई इबारत लिखने का एक अवसर बना हुआ है, जिसमें हर पार्टी अपनी-अपनी क्षमता के मुताबिक 'योगदान’ करती है। हर चुनाव में राज्यसभा के लिए इस या उस दल से निर्वाचित होने वाले विजय माल्या, अमरसिंह और सुभाष चंद्रा जैसे कई चेहरे उस पतन-गाथा के मुख्य किरदार होते हैं। वामपंथी दलों को छोड़कर कोई भी छोटा-बड़ा दल ऐसा नहीं है जिसे देश की सबसे बड़ी पंचायत के इस उच्च सदन को बदशक्ल बनाने के पाप कर्म से बरी किया जा सके।

हमारे देश के संविधान निर्माताओं ने संविधान की रचना करते समय जब राज्यसभा की अवधारणा पर बहस शुरू की होगी तब उन्हें इसके मौजूदा स्वरुप का अंदाजा भी नहीं रहा होगा। दरअसल, राज्यसभा को लेकर संविधान सभा के सदस्यों की सोच यह थी कि इसमें विशिष्ट राजनेताओं के साथ ही समाज के विभिन्न क्षेत्रों में विशेष अनुभव रखने वाले लोग भी आएंगे। देश के हर राज्य से ऐसे लोगों को कानून बनाने और देश का मार्गदर्शन करने में प्रतिनिधित्व मिल सके, इस मकसद से इसका गठन राज्यों की प्रतिनिधि संस्था के रूप में किया गया और इसे ब्रिटेन के हाउस ऑफ लार्ड्‍स की तरह हाउस ऑफ एल्डर्स का दर्जा दिया गया।
लेकिन, पतनशील राजनीति के चलते हमारे नेताओं ने हर व्यवस्था को नाकाम करने के लिए कोई न कोई गली खोज ही ली। आज हालत यह है कि राज्यसभा का न तो राज्यों से सीधा संबंध रह गया है और न ही जनता से। संसद का यह उच्च सदन एक तरह से राजनीतिक दलों के नेतृत्व वर्ग की जेब का खिलौना बन गया है। राज्यसभा के लिए विभिन्न दलों की ओर से प्रत्याशियों के मनोनयन या चयन के तौर-तरीके लगातार संदेहास्पद और विवादास्पद होते जा रहे हैं।
पूछा जा सकता है कि जब लगभग सभी पार्टियां राजनीति के हमाम में नंगी हैं तो फिर आम आदमी पार्टी से ही अलग आचरण की उम्मीद क्यों रखी जानी चाहिए; आखिर उस पार्टी के कर्ताधर्ता भी तो हमारे इसी समाज का ही हिस्सा हैं। फौरी तौर पर सवाल वाजिब है। लेकिन आम आदमी पार्टी से सवाल पूछे जाने की ठोस वजह है। आम आदमी पार्टी के बारे में कहा जाता है कि इसका जन्म भ्रष्टाचार के खिलाफ एक आंदोलन की कोख से हुआ था। हालांकि उस आंदोलन की सात्विकता पर कई तरह के सवाल और संदेह थे, जिनका निवारण नहीं हो सका। बहरहाल यह एक अलग बहस का विषय है।
उस तथाकथित भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन की परिणामविहीन पूर्णाहूति के बाद आम आदमी पार्टी को वजूद में लाते वक्त इसके कर्ताधर्ताओं का दावा था कि हम इस पार्टी के माध्यम साफ-सुथरी वैकल्पिक राजनीति का आदर्श प्रस्तुत करेंगे। हालांकि यह दावा वैसे तो कई मौकों पर खोखला साबित हो चुका है, फिर भी राज्यसभा का चुनाव एक ऐसा मौका था जब पार्टी नेतृत्व चाहता तो प्रत्याशी चयन के मामले में दूसरे दलों के नक्श-ए-कदम पर चलने से बच सकता था और दूसरों से अलग होने के अपने दावे को दोहरा सकता था, लेकिन वह ऐसा नहीं कर सका।
आम आदमी पार्टी ने अपने जिन तीन उम्मीदवारों के नाम घोषित किए, उनमें पार्टी के वरिष्ठ नेता संजय सिंह के अलावा दिल्ली के एक वरिष्ठ चार्टर्ड अकाउंटेंट नारायण दास गुप्ता और दिल्ली के ही एक बड़े कारोबारी सुशील गुप्ता के नाम शामिल हैं। सुशील गुप्ता कुछ दिनों पहले तक कांग्रेस में थे और वर्ष 2013 में उन्होंने मोतीनगर से कांग्रेस के टिकट पर विधानसभा का चुनाव लड़ा था।

इन तीन उम्मीदवारों में सिर्फ संजय सिंह का ही नाम ऐसा है जिसे लेकर पार्टी के भीतर या बाहर किसी तरह का सवाल नहीं है लेकिन अन्य दो नामों को लेकर पार्टी पार्टी के बाहर ही नहीं, भीतर भी सवाल उठ रहे हैं कि आखिर किन मानदंडों के आधार पर ऐसे लोगों को राज्यसभा का उम्मीदवार बनाया गया, जिनका पार्टी के किसी भी अभियान या उसकी घोषित नीतियों या सिद्धांतों से कभी कोई नाता नहीं रहा।
आम आदमी पार्टी के सुप्रीमो अरविंद केजरीवाल इन सवालों पर मौन है। उनके बचाव में पार्टी में दूसरे और तीसरे दर्जे की हैसियत वाले प्रवक्ता हास्यास्पद दलीलों के साथ दोनों गुप्ताओं का बायोडेटा सोशल मीडिया के जरिये प्रसारित कर उन्हें महान समाजसेवी साबित करने की फूहड़ कोशिश कर रहे हैं।

दलील दी जा रही है कि पार्टी ने विभिन्न क्षेत्रों की कई काबिल और प्रतिष्ठित लोगों से संपर्क साधा था और उनसे पार्टी की ओर राज्यसभा की उम्मीदवारी स्वीकार करने का अनुरोध किया था लेकिन उनमें से कोई भी तैयार नहीं हुआ। यह दलील अपनी जगह सही है लेकिन इससे दो 'गुप्ताओं’ को राज्यसभा का उम्मीदवार बनाए जाने का औचित्य साबित नहीं होता।
कोई राजनीतिक दल किसे अपना उम्मीदवार बनाए, यह उसका अपना आंतरिक सांगठनिक मामला है लेकिन आंतरिक मामले के सार्वजनिक होने पर उस सवाल उठना लाजिमी है कि आखिर इन दोनों बाहरी 'गुप्ताओं’ को पार्टी में मौजूद अन्य नेताओं की तुलना में किस आधार पर राज्ससभा की उम्मीदवारी के काबिल माना गया।
इस सवाल का समाधानकारक जवाब आम आदमी पार्टी के नेतृत्व के पास न तो आज है और न ही कल होगा।
लेकिन, इतना तय है कि दिल्ली में आम आदमी पार्टी ने अपनी सरकार के कुछ अच्छे कामों से अपनी छवि को जिस तरह से चमकाया था उसकी चमक राज्यसभा की उम्मीदवारी दो 'गुप्ताओं’ को देने से निश्चित ही धुंधली पड़ी है। यही नहीं, इससे यह भी साबित हुआ है कि अरविंद केजरीवाल आम आदमी पार्टी को एक लोकतांत्रिक राजनीतिक दल के रूप में नहीं बल्कि अपने निजी व्यावसायिक प्रतिष्ठान या एनजीओ की तरह चला रहे हैं।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

सोशल मीडिया पर छाए रहे दो महाराज

सोशल मीडिया पर छाए रहे दो महाराज
बीते सप्ताह सोशल मीडिया पर दो महाराज छाये रहे। इन्दौर में रहने वाले भय्यू महाराज ने गत ...

विवाह के प्रकार और हिंदू धर्मानुसार कौन से विवाह को मिली है ...

विवाह के प्रकार और हिंदू धर्मानुसार कौन से विवाह को मिली है मान्यता, जानिए
शास्त्रों के अनुसार विवाह आठ प्रकार के होते हैं। विवाह के ये प्रकार हैं- ब्रह्म, दैव, ...

भारतीय वायुसेना में निकली नौकरी, एक लाख रुपए वेतन, ऐसे करें ...

भारतीय वायुसेना में निकली नौकरी, एक लाख रुपए वेतन, ऐसे करें आवेदन
अगर सेना में शामिल होकर देशसेवा के साथ एक प्रतिष्ठित नौकरी करना चाहते हैं तो यह आपके लिए ...

शनि का खौफ दिखाकर पाली का मदनलाल बन गया दाती महाराज

शनि का खौफ दिखाकर पाली का मदनलाल बन गया दाती महाराज
'शनि शत्रु नहीं मित्र है', इस वाक्य से जनमानस में चर्चित होने वाले दाती महाराज पर आश्रम ...

अब रेलगाड़ियों में भी उन्नत वैक्यूम बायो टॉयलेट

अब रेलगाड़ियों में भी उन्नत वैक्यूम बायो टॉयलेट
नई दिल्ली। भारतीय रेल की लगभग सभी रेलगाड़ियों में बायो टॉयलेट लगाने के बाद अब उनकी जगह ...

किसानों से बोले मोदी, आय डबल करने के लिए दोगुना किया कृषि ...

किसानों से बोले मोदी, आय डबल करने के लिए दोगुना किया कृषि बजट
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को कहा कि उनकी सरकार ने 2022 तक किसानों ...

पुलिस भर्ती परीक्षा में फर्जीवाड़ा, दूसरों की जगह परीक्षा ...

पुलिस भर्ती परीक्षा में फर्जीवाड़ा, दूसरों की जगह परीक्षा दे रहे तीन लोग गिरफ्तार
मथुरा। उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद में पुलिस की सीधी भर्ती के लिए चल रही लिखित परीक्षा के ...

एआर रहमान सिक्किम के ब्रांड एम्बेसेडर

एआर रहमान सिक्किम के ब्रांड एम्बेसेडर
गंगटोक। सिक्किम सरकार ने जाने-माने संगीतकार एआर रहमान को अपना ब्रांड एम्बेसेडर नियुक्त ...

ट्रंप का दावा, अमेरिका ने किया है चीन का पुनर्निर्माण

ट्रंप का दावा, अमेरिका ने किया है चीन का पुनर्निर्माण
वॉशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बुधवार को दावा किया कि अमेरिका ने चीन का ...

कश्मीर के त्राल में मुठभेड़, तीन आतंकी ढेर, पांच ...

कश्मीर के त्राल में मुठभेड़, तीन आतंकी ढेर, पांच सुरक्षाकर्मी घायल
श्रीनगर। दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले में सुरक्षा बलों के साथ भीषण मुठभेड़ में मंगलवार ...

Xiaomi ने लांच‍ किया Redmi y2, 16 मेगापिक्सल का फ्रंट कैमरा

Xiaomi ने लांच‍ किया Redmi y2, 16 मेगापिक्सल का फ्रंट कैमरा
शिओमी ने अपना स्मार्ट फोन Redmi y2 भारत में लांच कर दिया है। एक इंवेंट में इस फोन को लांच ...

दोबारा घटे सैमसंग के इस स्मार्ट फोन के दाम, 2000 रुपए हुआ ...

दोबारा घटे सैमसंग के इस स्मार्ट फोन के दाम, 2000 रुपए हुआ सस्ता
सैमसंग ने गैलेक्सी जे 7 प्रो की कीमत में दोबारा कटौती की है। फोन में 2,000 रुपए की कटौती ...

भारत में शुरू हुई नोकिया के इस सस्ते फोन की बिक्री, जानिए ...

भारत में शुरू हुई नोकिया के इस सस्ते फोन की बिक्री, जानिए फीचर्स
नोकिया का Nokia 8110 4G 'Banana' भारत में बिक्री के उपलब्ध हो गया है। नोकिया ने इसे ...

Xiaomi Mi 8 SE: दुनिया का पहला स्मार्टफोन जिसमें लगा है ...

Xiaomi Mi 8 SE: दुनिया का पहला स्मार्टफोन जिसमें लगा है शक्तिशाली स्नैपड्रैगन 710 प्रोसेसर, कीमत जानकर उछल जाएंगे!
चीनी कंपनी शाओमी ने शुक्रवार को चीन में स्मार्टफोन मी 8 का एक छोटा वेरियंट लॉन्च किया। यह ...

3000 की छूट, कैशबैक ऑफर और Vivo X21 के साथ फ्री मिलेंगी ये ...

3000 की छूट, कैशबैक ऑफर और Vivo X21 के साथ फ्री मिलेंगी ये एसेसरीज
वीवो ने अपना नया स्मार्ट फोन X21 भारत में लांच कर दिया है। वीवो इस फोन को ई-कॉमर्स ...