'धार्मिकता' के सार्थक मायने गढ़ें


आम तौर पर धार्मिक रीति-रिवाजों का यथाविधि पालन सच्ची धार्मिकता माना जाता है। विभिन्न पर्व-उत्सव,व्रत-उपवास,तिथियां आदि को विधानपूर्वक मनाना और मानना धार्मिकता की उचित परिभाषा समझी जाती है।
परम्परावादी दृष्टि से देखें,तो यह सही भी है, लेकिन यदि हम इसमें कुछ व्यापकता का समावेश करें,तो इस विषय में एक अपेक्षाकृत रूप से अधिक मानवहितकारी दर्शन का विकास हो सकता है।

बात को समझाने के लिए स्वयं का ही उदाहरण दूं।

बाल्यावस्था में प्रातःकालीन पूजा में भगवान को पुष्प और चन्दन अर्पित करने का दायित्व मेरा हुआ करता था,जो बहुत प्रसन्न भाव से मैं पूर्ण करती थी। सांध्यकालीन आरती में सोत्साह भागीदारी करती थी। समय के साथ साथ अध्ययन के विस्तृत होते दायरों ने इस धार्मिकता को सीमित कर दिया और बाद में युवावस्था के युगीन जोश ने एक दौर में नास्तिक भी बना दिया था।
बहरहाल,अब कुछ निजी अनुभवों और कुछ दोनों परिवारों के संस्कारवश आस्तिक हूं,लेकिन नित्य का पूजा-पाठ,धूप-दीप,आरती-कीर्तन ,मंदिर-दर्शन और व्रत-उपवास से आज भी दूर हूं। ये सब निर्धारित अवसरों पर ही होता है और मन में इन्हें करने की इच्छा भी तभी जाग्रत होती है।

सच कहूं तो पिछले कुछ वर्षों से मेरी दृष्टि धार्मिकता को लेकर आम राय से सर्वथा भिन्न हो चली है।

मुझे महसूस होता है कि सच्ची धार्मिकता माता-पिता की सेवा करने में है, पतिगृह की समुचित देखभाल में है, यथाशक्ति मानवता के कल्याण हेतु कर्म करने में है।
भगवान की मूर्तियों के स्नान व श्रृंगार में वो संतोष कहां,जो बीमार या अशक्त माता-पिता की सांगोपांग सेवा में है? आरती या कीर्तन में वो आनंद कहां,जो अपने बच्चे को लोरी गाकर या कहानी सुनाकर सुलाने में है? व्रत-उपवास कर स्वयं को दिन भर भूखा मारने और आने वाले दो दिनों तक कमज़ोरी महसूस करने की थोथी धार्मिकता(मेरी दृष्टि में) पर स्वयं स्वस्थ रहकर वृद्ध सास-ससुर की सेवा करने का पुण्य भारी होता है। मंदिर जाकर भगवान की मूर्ति के समक्ष माथा टेकने से अधिक फलदायी जीवित माता-पिता का ख्याल रख उनकी आत्मा से निकले आशीष अपनी झोली में समेट लेना होता है।
नित्य एक या दो घंटे के पूजा-पाठ से बेहतर पीड़ित मानवता के लिए काम करना होता है।यदि हम प्रतिदिन कुछ समय कमज़ोर व बेसहारों के कल्याण पर व्यय करें,तो समाज का उत्थान ही होगा।

नियमपूर्वक दीया या अगरबत्ती लगाने में चूक भी जाएँ,तो कोई बात नहीं।लेकिन जीवन-सहचर के समक्ष नित्य अपने ह्रदय का स्नेह रुपी दीपक अवश्य प्रज्ज्वलित करें ताकि जीवन के संग्राम में उसका मन मजबूत और उत्साह से भरा रहे तथा उसका उन्नति-पथ सुगम हो जाये।
मेरे विचार से अपने परिवार,समाज और राष्ट्र के लिए कर्म और समर्पण ही सच्ची धार्मिकता है। जिस धार्मिकता का बहुसंख्य समाज पालन करता है, मैं ना तो उसका विरोध कर रही हूँ और ना ही उसे गलत ठहरा रही हूँ। ये आस्था से जुड़ा प्रश्न है और आस्था प्रत्येक व्यक्ति का निजी विषय होती है।

बेशक आप अपनी आस्था के साथ रहिये,लेकिन यदि उसे थोड़ा उदार,तनिक व्यापक,किंचित सार्वभौमिक बना लें,तो आपके साथ-साथ अनेक लोग सुखी होंगे।
ऐसा करना अंततोगत्वा इस विश्व के फलक पर भारतवर्ष की छवि को और उज्ज्वल करेगा क्योंकि किसी भी राष्ट्र की पहचान के घटकों में सर्वप्रथम वहां के नागरिकों का वैचारिक स्तर और आचरण ही होता है।

सच जानिए,अपनी धार्मिकता में कुछ बूंद ही सही,मेरी धार्मिकता को भी यदि आप मिला लेंगे,तो आत्मिक सुख की दिव्यता आजीवन अनुभूत करेंगे,जो तमाम दुनियावी सुखों से ऊपर है।


वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

पीरियड में यह 5 काम भूल कर भी न करें वरना....

पीरियड में यह 5 काम भूल कर भी न करें वरना....
आपका पहला पीरियड हो या अनगिनत बार आ चुके हों, इन्हें झेलना इतना आसान नहीं। मुश्किलभरे उन ...

6 बहुत जरूरी सवाल जो हर महिला को अपनी गायनोकोलॉजिस्ट से ...

6 बहुत जरूरी सवाल जो हर महिला को अपनी गायनोकोलॉजिस्ट से पूछना चाहिए
क्या आप उन लोगों में से हैं जिन्होंने कभी एक लेडी डॉक्टर से मिलने की जरूरत नहीं समझी? आप ...

3 स्वर, 3 नाड़ियां... जीवन और सेह‍त दोनों को बनाते हैं शुभ, ...

3 स्वर, 3 नाड़ियां... जीवन और सेह‍त दोनों को बनाते हैं शुभ, जानिए क्या है स्वरोदय विज्ञान
स्वर विज्ञान को जानने वाला कभी भी विपरीत परिस्थितियों में नहीं फंसता और फंस भी जाए तो ...

घर में रोशनी कम रहती है तो यह हो सकता है खतरनाक, पढ़ें रोशनी ...

घर में रोशनी कम रहती है तो यह हो सकता है खतरनाक, पढ़ें रोशनी बढ़ाने के 5 टिप्स
घर या कमरे में कम रोशनी न केवल घर की सजावट को कम करती है बल्कि रहने वाले सदस्यों की सेहत ...

बदल डालें घर का इंटीरियर और नए घर में रहने जैसा अहसास ...

बदल डालें घर का इंटीरियर और नए घर में रहने जैसा अहसास पाएं...
घर में सारा सामान सुव्यवस्थित जमा हुआ है फिर भी कुछ कमी लगती है? किसी नएपन के अहसास की ...

गंगा के उद्गम में हरे पेड़ों को बचाने की मुहिम

गंगा के उद्गम में हरे पेड़ों को बचाने की मुहिम
'ऊंचाई पर पेड़ रहेंगे, नदी ग्लेश्यर टिके रहेंगे', 'चाहे जो मजबूरी होगी, सड़क सुक्की बैड से ...

मुसलमान : वक़्त बदला, हालात नहीं

मुसलमान : वक़्त बदला, हालात नहीं
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी मुस्लिम बुद्धिजीवियों से मुलाक़ात कर रहे हैं। अगर वे ...

1 अगस्त को शुक्र करेंगे नीच राशि कन्या में प्रवेश, जानें 12 ...

1 अगस्त को शुक्र करेंगे नीच राशि कन्या में प्रवेश, जानें 12 राशियों पर क्या होगा प्रभाव
1 अगस्त 2018 दिन के 12 बजकर 17 मिनिट से शुक्र राशि परिवर्तन कर कन्या राशि में प्रवेश ...

श्रावण में बनाएं चटपटे साबूदाना पनीरी रोल, पढ़ें सरल विधि

श्रावण में बनाएं चटपटे साबूदाना पनीरी रोल, पढ़ें सरल विधि
साबूदाने को एक कप पानी में 1 घंटे के लिए भिगो दें। हरा धनिया, हरी मिर्च बारीक काट लें।

ग़ज़ब के होते हैं करी पत्ते... फायदे जानकर आप हर सब्जी में ...

ग़ज़ब के होते हैं करी पत्ते... फायदे जानकर आप हर सब्जी में इन्हें डालेंगे
करी पत्ते का पौधा आपके या आपके पड़ोसियों के घर में आपको जरूर लगा मिलेगा। यह जितनी आसानी से ...