मदर्स डे : कहानी की किताब और तुम मां...


उस दिन अपने लिए किताब लेते समय मेरी नजर उन पत्र‍िकाओं पर पड़ी, जिन्हें पढ़कर मम्मी हमें कहानियां सुनाया करती थीं। जैसे-जैसे बड़े होते गए, हमें भी किताबें पढ़ने की आदत हो गई। उन यादों से बाहर निकलकर मैनें जल्दी से एक पत्र‍िका अपने बेटे के लिए भी ले ली। सोचा इस अनमोल तोहफे को देखकर वह बहुत खुश होगा। घर जाकर मैनें उसे यह तोहफा दिया, पर उसने पत्र‍िका को देखकर कोई रुचि नहीं दिखाई। मुझे निराशा हुई और उसका कारण भी समझ आया।

उसका कारण था मोबाइल फोन, जो आजकल के बच्चों के हाथ में हमेशा रहता है और हम माता-पिता को इस बात का गर्व होता है कि हमारे छोटे बच्चे हमसे भी तेजी से इस मोबाइल तकनीक को अपना रहे हैं, वो भी बेहद कम समय में सीखकर।

इसमें कोई संदेह नहीं है कि आज हम डिजीटल भारत बना रहे हैं और हमें नई तकनीके अपनाना ही चाहिए। लेकिन जो बात अपने हाथ से लिखे पत्र या चिट्ठी में होती है, वह क्या ई-मेल में है? उसी तरह किताबों का अपना ही महत्व है।आज हम माता-पिता अपनी व्यस्त जीवनशैली से बच्चों के लिए समय नहीं निकाल पाते, इसलिए उन्हें टीवी के सामने बैठा देते हैं और हमारा काम बहुत आसान हो जाता है।

आज भी भले ही बच्चा कितना ही मोबाइल से सीख ले, लेकिन मां द्वारा सुनाई गई कहानी का अपना ही महत्व है। कहते हैं न - पालने से लेकर कब्र तक ... मां की लोरी और कहानियां बच्चे के साथ रहती हैं। यह बिल्कुल सही है। आज भी वे कहानियां, जो बचपन में मां सुनाया करती थीं भुलाए नहीं
भूलती। मां की आवाज में ही उनके चित्र आंखों के सामने आते हैं। फिर यही कहानियां अगर टीवी पर देखी होती, तब शायद इतनी मन से जुड़ी न होती।

मैने धीरे-धीरे उसे उस किताब के आकर्ष‍क चित्र दिखाकर सोने से पहले कहानियां सुनाना शुरु किया और धीरे-धीरे उसे बहुत मजा आने लगा। अब सोने से पहले पहले हम स्टोरी टेलिंग करते हैं। और उस कहानी के साथ खूब सारी बातें। यह एक आदत सी बन गई है और इन कहानियों के द्वारा बातचीत करके सवाल पूछकर वह बहुत सारी चीजें सीखता है। थैंक्यू मां, इसे एक आदत बनाने के लिए आज आपके कारण मैं इन किताबों का महत्व समझ पाई।

हैप्पी मदर्स डे मां
शिल्पा पलटा

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

बस,एक छोटा सा 'आभार' कम कर देगा जीवन के कई भार

बस,एक छोटा सा 'आभार' कम कर देगा जीवन के कई भार
आभार व्यक्त तो कीजिए। फिर देखिए, उसकी सुगंध कैसे आपके रिश्तों को अद्भुत स्नेह से सींचती ...

अपने लिए भी वक्त निकालें, यह वक्त का तकाजा है

अपने लिए भी वक्त निकालें, यह वक्त का तकाजा है
थोड़ा समय अपने शौक को देंगे तो आपको अपना आराम और मनोरंजन पूर्ण महसूस होगा।

जरा चेक करें कहीं आपकी कोहनी भी तो कालापन लिए हुए नहीं?

जरा चेक करें कहीं आपकी कोहनी भी तो कालापन लिए हुए नहीं?
भले ही आप चेहरे से कितनी ही खूबसूरत क्यों न हों, देखने वालों की नजर कुछ ही मिनटों में ...

5 मिनट में चमकती स्किन चाहिए तो इसे जरूर पढ़ें

5 मिनट में चमकती स्किन चाहिए तो इसे जरूर पढ़ें
जिस तरह बालों को सॉफ्ट और शाइनी बनाने के लिए आप हेयर कंडीशनिंग करते हैं, उसी तरह से त्वचा ...

पेट फूला-फूला रहता है तुंरत बदलिए लाइफ स्टाइल, पढ़ें 10 काम ...

पेट फूला-फूला रहता है तुंरत बदलिए लाइफ स्टाइल, पढ़ें 10 काम की बातें
लगातार बैठे रहने और कम मेहनत करने वालों का पेट बाहर आ जाता है लेकिन यह जरूरी नहीं है... ...

ब्रेस्ट फीडिंग के समय क्या आपके दूध के साथ भी निकलता है

ब्रेस्ट फीडिंग के समय क्या आपके दूध के साथ भी निकलता है खून?
सभी जानते हैं कि बच्चे के लिए मां का दूध किसी वरदान से कम नहीं होता है। इसमें वे सभी पोषक ...

पारंपरिक तरीके से मावे के टेस्टी गुलाब जामुन बनाने की सरल ...

पारंपरिक तरीके से मावे के टेस्टी गुलाब जामुन बनाने की सरल विधि यहां पढ़ें...
सबसे पहले मावे को किसनी से कद्दूकस कर लें। अब उसमें मैदा, अरारोट मिला लें।

निपाह वायरस क्या है?

निपाह वायरस क्या है?
यह चमगादड़ों के लार से फैलता है, इसलिए लोगों को इससे बचना चाहिए। निपाह वायरस से ग्रस्त ...

पढ़िए, लड़के क्यों अब खुद से बड़ी उम्र की लड़कियों को पसंद करने ...

पढ़िए, लड़के क्यों अब खुद से बड़ी उम्र की लड़कियों को पसंद करने लगे हैं...
नए जमाने के साथ लड़कों की सोच में भी काफी बदलाव आए हैं। अब लड़के कमसिन उम्र की, कम अनुभवी व ...

निपाह वायरस को भी नष्ट करेगा गुणकारी कड़वा चिरायता

निपाह वायरस को भी नष्ट करेगा गुणकारी कड़वा चिरायता
इन दिनों निपाह वायरस की सूचना ने सबको डरा रखा है। इस वायरस को भी नष्ट या कमजोर किया जा ...