बाल कविता : ठीक नहीं है मूर्ख बनाना

चुहिया रानी रंग-बिरंगी, स्वेटर बुनकर लाई। बड़े प्रेम से अपने भाई, चूहे को पहनाई। वह भी निकली बड़ी शान से, सिर पर ओढ़ रजाई।

Widgets Magazine

बाल कविता : चंदा-तारे

चंदा ना उतरे धरती पर, तारे भी ना हाथ मिलाते। क्यों ना अम्मा सप्त ऋषि अब, हम बच्चों से हैं ...

बाल कविता : गौरेया के हक में

गांव के चौपाल में चहकती गौरेया, मीठे-मीठे गीत सुनाती गौरेया गुड़िया को धीरे से रिझाती ...

बाल दिवस पर कविता : एक जवाहरलाल

राष्ट्रवाटिका के पुष्पों में, एक जवाहरलाल। जन्म लिया जिस दिन लाल ने, दिवस कहाया बाल॥

बाल साहित्य : दादी मां मेरी प्यारी-प्यारी

दादी मां मेरी प्यारी-प्यारी मुझको कहती राजकुमारी, अच्छी-अच्छी बातें कहती मैं रूठूं तो ...

बाल साहित्य : बंदर मामा, पहन पजामा

बंदर मामा, पहन पजामा निकले थे बाजार, जेब में उनके कुछ थे पैसे करना था व्यापार। एक दुकान ...

बाल कविता : इनको करो नमस्तेजी

आज गांव से आए काका, इनको करो नमस्तेजी। जब-जब भी वे मिलने आते, खुशियों की सौगातें लाते। ...

बाल कविता : शेरसिंह की तैयारी

शेरसिंह बना रहे थे योजनाएं कईं सारी, आई छुट्टी मस्ती वाली करना है कुछ तैयारी। मच्छर ...

हिन्दी बाल कविता : मुनिया का नाटक

बन-ठन पानी लेने को चली है रानी मुनिया, मुनिया का नाटक देखे दुनिया। मुनिया और झुनिया नाटक ...

बाल कविता : मनोबल

अपने मनोबल को इतना सशक्त कर, कठिनाई भी आने से जाए डर। आत्मविश्वास रहे तेरा हमसफर, ...

कविता : नेहरू चाचा तुम्हें सलाम

नेहरू चाचा तुम्हें सलाम। अमन-शांति का दे पैगाम॥ जग को जंग से बचाया। हम बच्चों को भी ...

नन्ही कविता : क्या-क्या खाकर आए

स्कूल खुली तो टीचर ने, पूछा क्या-क्या खाकर आए, तड़-तड़ लगे बताने जो सब घर से खा-खाकर आए। ...

बाल साहित्य : सुंदर गिलहरी आई

सुंदर गिलहरी आई, अनुशासन की सीख लाई, दाने खा इठलाती आई नन्हे हाथ हिलाती आई, थकती नहीं ...

बाल कविता : एक जरा-सा बच्चा

एक जरा-सा बच्चा घर का, सब माहौल बदल देता है। बच्चे का कमरे में होना, है खुशियों का एक ...

बाल कविता : पिता

जब-जब डिगे पैर तुम्हारे, हाथ पकड़कर दिया सहारा। पहुंचाने को तुम्हें किनारे, त्याग दिया ...

बाल साहित्य : दाल-बाटियों के दिन

फूल हंसे पत्ते मुस्काए, दाल-बाटियों के दिन आए। आंगन बीचोबीच अभी मां ने कंडे सुलगाए। ...

मनोरंजक कविता : बिल्ले से बोली बिल्ली

बिल्ले से बोली बिल्ली, अगर ना मिली दिल्ली। अगर ना मिली दिल्ली मैं कुछ ऐसा कर जाऊंगी

बाल कविता : भाई दूज‌

भाई दूज पर भालू ने, हथनी को बहन बनाया। उसके हाथों से माथे पर, लाल तिलक लगवाया। फिर बोला ...

बाल कविता : माथा पच्ची

कहती हूं मैं सच्ची-सच्ची। सड़क बनी है कच्ची-कच्ची। कदम चार भी चल ना पाते। कीचड़ में पग ...

Widgets Magazine

लाइफ स्‍टाइल

संतरा : पोषक तत्वों से भरपूर

संतरे में विभिन्न पोषक तत्व प्रचूर मात्रा में होते हैं। इसकी बड़ी खूबी यह है कि इसमें कैलोरीज काफी ...

हेल्थ टिप्स : फैमेली डॉक्टर है पपीता

पपीते में बड़ी मात्रा में विटामिन-ए होता है। इसलिए यह आंखों और त्वचा के लिए बहुत ही अच्छा माना जाता ...

Widgets Magazine

जरुर पढ़ें

जानिए, कैसी पड़ोसन हैं आप?

पूरी दुनिया में आपको अच्छे-बुरे दोनों तरह के लोग देखने को मिल जाएंगे। एक अच्छी पड़ोसन जहां आपकी ...

घर के कामकाज से कम होता है तनाव

ब्रिटेन के अनुसंधानकर्ताओं का मानना है कि सप्ताह में कम से कम एक बार घरेलू कामकाज जैसी शारीरिक ...

एरोबिक्स यानी डांस, फन, रिदम और हेल्थ

'एरोबिक्स' यानी संगीत की धुन पर किए जाने वाले व्यायाम। एरोबिक्स करने के लिए कोई विशेष साजो-सामान की ...

Widgets Magazine