बाल कविता : पापा ऑफिस गए

मेरे पापा मुझे उठाते, सुबह-सुबह से बिस्तर से। और बिठाकर बस में आते, बिदा रोज करते घर से। भागदौड़ इतनी होती है, सब मशीन बन जाते हैं। मेरे शाला ...

Widgets Magazine

चींटी रानी पर कविता : चिंगारी

सिर पर टोपी आंखों पर चश्मा, हाथों में मोबाइल। चींटी रानी चली ठुमककर, पैरों में थी पायल। ...

मनोरंजक कविता : दम होता है सत्य बात में....

लच्छो आई टमाटर बेचे, दो आने में सारे बेचे। एक सेर का पैसा एक, कितना सुंदर सस्ता रेट। ...

बाल कविता : थाली पापा वाली

मिर्ची बहुत तेज सब्जी में, कैसे खाऊं खाना। अम्मा तुम क्यों नहीं सीखती, खाना ठीक बनाना। ...

बाल कविता : जितनी जल्दी हो...

अब तो लगता गरमी आए, जितनी जल्दी हो। शाला की छुट्टी हो जाए, जितनी जल्दी हो। दौड़-भागकर ...

बाल साहित्य : चश्मा छोड़ो करो पढ़ाई...

चश्मा तारक मेहता वाला, कब तक देखोगे तुम लाला। चश्मा भी तो बिलकुल उल्टा, भाई अभी तक क्यों ...

बाल कविता : बचपन

याद आता है मुझे, बचपन का गांव। आंगन में दौड़ना घंटों खेलना, पेड़ों पर चढ़ना, चिड़ियों के ...

बाल कविता : होगी पेपरलेस पढ़ाई

होगी पेपरलेस पढ़ाई, बहुत आजकल हल्ला। कागज की तो शामत आई, बहुत आजकल हल्ला। कागज-पेन-किताबों ...

होली कविता : मुट्ठी में है लाल गुलाल

नोमू का मुंह पुता लाल से, सोमू का पीली गुलाल से। कुर्ता भीगा राम रतन का, रम्मी के हैं ...

बाल कविता : जंगल में होली

ना जाने क्यों कर रहा, हा-हा ही-ही शेर। गीदड़ चीते पर रहा- अपनी आंख तरेर॥ व्यर्थ कुलांचे भर ...

बाल साहित्य : रंग जाओ रंगों में...

लाल रंग तुम लो, मैं लेता हूं नीला। तुम मलो सूखा सूखा, मैं रंगता हूं गीला। रंग आए हैं ...

बच्चों की कविता : प्यारी है होली

एक रंग चढ़ा है सब पर, नहीं है कोई अंतर। होली है त्योहार यह, या कोई जादू-मंतर। त्योहारों ...

बाल कविता : चलो पढा़ई कर लें हम

समय बचा अब बिलकुल कम, चलो पढा़ई कर लें हम। अगले माह परीक्षा है, मौसम कितना अच्छा है। ना ...

बाल कविता: नए जमाने के नए साधन

किया टाइप झट कम्प्यूटर पर, फिर प्रिंटर पर कागज डाला। हाथीजी ने बटन दबाकर, सुंदर प्यारा ...

बाल कविता : खेल

नहीं-नहीं रे आज नहीं रे, चलें खेलने नहीं कहीं रे। मेरे सिर में दर्द हो रहा,

बाल कविता : नहीं काम से कभी डरो...

अम्मा हुईं आज बीमार, लगा आफतों का अंबार। सबको चाय पिलाए कौन, रोटी आज बनाए कौन। पापा को ...

कविता : जितनी लंबी चादर, उतने पैर पसारें...

कंधे पर थैला डाले जब, चींटी गई बाजार, आलू-भटा-टमाटर-गोभी, लेकर आई उधार। बहुत दिनों तक ...

बाल कविता : बेटा फीस चुका आता हूं

अरे पिताजी क्या कर डाला, अब मैं कैसे जाऊं शाला। नहीं आपने फीस चुकाई, मुझको सर ने डांट ...

बाल साहित्य : बच्चे आए झाड़ू लेकर

बच्चे आए झाड़ू लेकर, भारत स्वच्छ करेंगे। गली-गली में पड़ीं पन्नियां, सड़क-सड़क पर कचरा है। ...

Widgets Magazine

लाइफ स्‍टाइल

भारतीय पर हमला : पूर्व पुलिसकर्मी पर लगा अभियोग

वॉशिंगटन। 57 वर्षीय एक भारतीय पर अत्यधिक बल प्रयोग करने के मामले में एक पूर्व पुलिसकर्मी के खिलाफ ...

पत्नी पर था शक, गुप्तांग को ग्लू से चिपकाया

दक्षिण अफ्रीका में एक दर्दनाक घटना सामने आई है। साउथ अफ्रीका के एक न्यूज पोर्टल पर छपी खबर के ...

Widgets Magazine

जरुर पढ़ें

भारत गांधी के बाद, नेहरू के बाद

अकादमिक रूप से इतिहास को अगर कोई पढ़ना चाहे, तो सारी पाठ्य-पुस्तकें सन 47 में यूनियन जैक उतारकर और ...

सेक्स से जुड़े 16 आश्चर्यजनक तथ्य

सेक्स को हमेशा से इंसान एक खास संवेदना के रूप में देखता आया है और अगर कहा जाए कि किसी भी व्यक्ति के ...

बाल कविता : पापा ऑफिस गए

मेरे पापा मुझे उठाते, सुबह-सुबह से बिस्तर से। और बिठाकर बस में आते, बिदा रोज करते घर से। भागदौड़ ...

Widgets Magazine