0

बच्चों की कविता : काम हाथ से करने वाले...

गुरुवार,फ़रवरी 15, 2018
0
1
पूरनमासी को चूहे ने, अपने पापा से पूछा, आसमान में कौन लगाकर, गया बल्ब इतना ऊंचा।
1
2
आजकल भारी हुआ, स्कूल का बस्ता, लग रहा है बददुआ, स्कूल का बस्ता। बचपने को कर गया, बूढ़ा मेरा बच्चा,
2
3
बाघ आ गया, बाघ आ गया, कहकर चरवाहा चिल्लाया। आए गांव के लोग वहां तो, बाघ किसी ने वहां न पाया।
3
4

कविता : प्यारे बच्चे

शुक्रवार,फ़रवरी 2, 2018
हम भारत देश के, प्यारे बच्चे। सारे जग से, न्यारे बच्चे।
4
4
5
घर की मियारी पर दादी ने, डाले दो झूले रस्सी के। चादर की घोची डाली है, तब तैयार हुए हैं झूले। अब झूलेगी चिक्की-पिक्की, ...
5
6

बालगीत : चल मेरे बेटे, तू चल...

शुक्रवार,जनवरी 19, 2018
चल मेरे बेटे तू चल, खा ले अब ये पेड़े चल। जब तू भागे और दौड़े, मिलेंगे तुझको पकौड़े।
6
7
दादा-दादी आज सुबह से, बैठे बहुत रिसाने हैं। नहीं किया है चाय-नाश्ता, न ही बिस्तर छोड़ा है।
7
8
जब उड़ेंगी रंग भरेंगी तितलियां, हवाओं में आकर्षण रहेंगी तितलियां। ढूंढते हो कहां यहां-वहां, संग फूलों के मिलेंगी ...
8
8
9
भिंडी समझे एक मिर्च को, खा गए पूरी-पूरी। जीभ जली तो चिल्लाने की, ही थी अब मजबूरी।
9
10
आकाश में उड़तीं, रंग-बिरंगी पतंगें, करती न कभी, किसी से भेदभाव।
10
11
शीतलहर के उग गए पर, सरक-सरककर, सर-सर-सर, शीतलहर के उग गए पर।
11
12
कचरा फेंका बीच सड़क पर, बड़े बेशरम, टोकनियों में लाए भर-भर, बड़े बेशरम... दफ्तर की सीढ़ी पर थूका, पान चबाकर,
12
13
मेरी दादी,की आंखों में,डिबरी का सूरमा था,जो डिबिया की लौ...
13
14
दो घंटे से इस मच्छर ने, किया नाक में दम। मैंने जरा डांटकर बोला, जा फहीम को काट।
14
15
नववर्ष कविता : लो बीत गया एक साल, आया नया साल। लेके सपने हजार, आया नया साल।
15
16
कितना तेज दौड़ता-फिरता, यह दीपू का घोड़ा है, उड़ता जाता गिरता-पड़ता, यह दीपू का घोड़ा है। आटा लाता सब्जी लाता, दूध दही घी ...
16
17
चल-चलकर चींटी ना थकती, करती अनुशासन की भक्ति। खुद से ज्यादा बोझ उठाकर, आसमान को लक्ष्य बनाकर।
17
18
मुट्ठी खोली हाथ घुमाकर, बल्लू बोला छूमंतर। जय माता कंकाली बोला, जय कलकत्ते वाली बोला। चुन्नू, मुन्नू, डॉली बोला, ...
18
19
कौआ चाचा नहीं आजकल, तुम छत पर क्यों आते? कांव-कांव चिल्ला-चिल्लाकर, हमको नहीं जगाते।
19