कविता : मेवाड के महाराणा प्रताप

राणा प्रताप इस भरत भूमि के, मुक्ति मंत्र का गायक है। राणा प्रताप आजादी का, अपराजित काल विधायक है।। वह अजर अमरता का गौरव, वह मानवता का विजय ...

Widgets Magazine

बाल साहित्य : कविता में व्यथा

उड़ते-उड़ते तितली बोली, दादाजी क्या हाल-चाल हैं। सुबह-सुबह से लिखते रहते, यह तो सचमुच ही ...

बाल गीत : चिड़िया रानी

बैठ पेड़ पर चिड़िया रानी, करती है मस्ती मनमानी। फर-फर-फर-फर पंख चलाए। फुर्र-फुर्र करती उड़ ...

बाल गीत : मछली की समझाइश‌

मेंढक बोला चलो सड़क पर, जोरों से टर्राएं। बादल सोया ओढ़ तानकर, उसको शीघ्र जगाएं।

चटपटी कविता : जीवन का खेल

चल रही है अपनी गाड़ी, उलटे-सीधे रेलमपेल। बैठे काम कहां चलेगा, यही बड़ा जीवन का खेल।। ...

मजेदार बाल कविता : मेरा पप्पी

मेरा पप्पी रोज घूमने, संग हमारे जाता है।। बाग के अंदर दौड़-दौड़ के, उछल-कूद मचाता है।। गेंद ...

बाल कविता : पापा कब आएंगे...

हर्षित होकर बालक बोला, मम्मी पापा कब आएंगे। हाथ पकड़कर रोज सबेरे, बागों की सैर कराएंगे।

सुंदर बाल गीत : आओ बच्चों! तुम्हें सुनाएं गौरव ...

आओ बच्चों तुम्हें सुनाएं गौरव गाथा राम की रूप निधान, सर्वगुण आगर, शील सिंधु गुणधाम ...

नन्ही नटखट कविता : जब घर आए गलफुल्ले

खेलकूद कर जब घर आए गलफुल्ले, अम्मा बापू पर चिल्लाए गलफुल्ले। अम्मा ने तो केवल इतना ...

बाल कविता : जब गर्मी का मौसम आता

जब गर्मी का मौसम आता, नदी नहाने हम जाते थे। पानी में छप-छप करते थे, धूम मचाते ...

बाल कविता : संडे वाले पापा

मैं एक छोटा बच्चा हूं, मेरे प्यारे पापा हैं मेरी प्यारी मम्मा है। जब मैं आंखें खोलता ...

बाल कविता : सोने-सा दिन‌

मम्मीजी को आलू-गोभी, और मटर की सब्जी भाती। पर पापा को यह तरकारी, फूटी आंखों नहीं सुहाती। ...

बाल कविता : हिन्दुस्तानी खाना

न कौए को पिज्जा भाता, न कोयल को बर्गर। उन्हें चाहिए हल्दी वाला, दूध कटोरे भर-भर। दोनों ...

बाल कविता : पापाजी का भूगोल

पहले थे मिर्ची के जैसे, हुए टमाटर से अब गोल। पता नहीं कब पापाजी का, बदल गया पूरा भूगोल। ...

बाल साहित्य : तितली रानी

देख महक फूलों की तितली। चंचल पंख हिलाती है। उछल-कूद कलियों पर करके, मन अपना बहलाती है। ...

बाल साहित्य : बड़े बेशरम

कचरा फेंका बीच सड़क पर, बड़े बेशरम। टोकनियों में लाए भर-भर, बड़े बेशरम। दफ्तर की सीढ़ी पर ...

चटपटी कविता : सब्र...

एक दिन में सागर निर्माण नहीं होता, बूंद-बूंद करके ही नदी बनती है। समय सदा गतिशील है, ...

बाल कविता : छोटी चिड़िया...

छोटी चिड़िया आंगन में आकर, चावल के किनके चुगती थी। चारों तरफ फुदक-फुदक के, ची-ची-ची-ची ...

प्रेरक कविता : निराश न होना...

एक चमकती किरण कई पुष्प खिला सकती है, क्षणभर की हिम्मत जीत का एहसास दिला सकती है। वे लोग ...

Widgets Magazine

लाइफ स्‍टाइल

कान में छाई भारतीय फिल्म 'मसान', मिले दो अवॉर्ड

शनिवार की शाम मसान की पूरी टीम के लिए बहुत सारी खुशियां लेकर आई। शाम को 5 बजे पहले उन्हें क्रिटिक ...

एक चिट्ठ‍ी, अरविंद केजरीवाल के नाम

अरविंद वह तुम ही थे जिसमें अचानक युवा वर्ग की दिलचस्पी बढ़ी थी। अच्छा लगता था जब तुम अन्ना के कान ...

Widgets Magazine

जरुर पढ़ें

खूबसूरत आंखों के लिए जरूरी है सुरक्षा

यहां दिए जा रहे उपायों से आप आंखों की सुरक्षा कुछ हद तक कर सकते हैं। निरंतर बगैर नागा किए ...

प्रवासी साहित्य : डैफ़ोडिल के फूल...

इंग्लैंड और कुछ अन्य यूरोपीय देशों में डैफ़ोडिल के फूल वसंत के आगमन की सूचना देते हैं। डैफ़ोडिल के ...

यह 4 बुरी आदतें सेहत के लिए खतरनाक हैं....

किसी व्यक्ति में बेड टी यानि सुबह-सुबह बिस्तर पर चाय पीना, जंक फूड का अधिक सेवन, कम पानी पीना, भोजन ...

Widgets Magazine
Widgets Magazine