चाचा नेहरू की जिंदादिली के रोचक किस्से

पंडित जवाहरलाल नेहरू का व्यक्तित्व निराला था। स्वतंत्रता संग्राम के अग्रणी रहे नेहरूजी जब भारत के प्रथम प्रधानमंत्री बने तब वे लगभग 58 वर्ष के ...

Widgets Magazine

गुम होते बचपन के लिए जिम्मेदार कौन?

बाल दिवस, हर साल मनाया जाने वाला त्योहार। पर लगता है दुनिया में धीरे-धीरे बच्चों का अकाल ...

बाल दिवस : बच्चे को कैसे आएंगे संस्कार!

बच्चों में संस्कारों का विकास हमेशा अपने से बड़ों को देखकर ही होता है इसलिए अपने आचरण को ...

जानिए पं. जवाहरलाल नेहरू की खास बातें

स्वतंत्र भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू का जन्म 14 नवंबर 1889 को इलाहाबाद ...

बाल दिवस : नेहरूजी का बाल प्रेम

जब पंडित जवाहरलाल नेहरू भारत के प्रधानमंत्री थे और तीन मूर्ति भवन उनका सरकारी निवास था। ...

कविता : नेहरू चाचा तुम्हें सलाम

नेहरू चाचा तुम्हें सलाम। अमन-शांति का दे पैगाम॥ जग को जंग से बचाया। हम बच्चों को भी ...

नेहरू की विनोदप्रियता

एक बार एक बच्चे ने ऑटोग्राफ पुस्तिका नेहरूजी के सामने रखते हुए कहा- साइन कर दीजिए। बच्चे ने ऑटोग्राफ देखे, देखकर नेहरूजी से कहा- आपने तारीख तो ...

नेहरू का बच्चों के प्रति प्यार

प्रसिद्ध अंगरेजी साप्ताहिक 'शंकर्स वीकली' द्वारा बच्चों की लिखावट एवं चित्रकला प्रतियोगिता के पुरस्कार वितरण का कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस ...

बाल दिवस : उड़ान नन्हे सपनों की

बचपन का हर दिन खुशियों से भरा होता है और अगर बात बाल दिवस की हो तो फिर क्या कहना। 14 नवंबर यानी कि बाल दिवस एक ऐसा दिन जब बच्चों का बोलबाला रहता ...

बाल दिवस मनाने से पहले बचपन को सहेजे

क्या चाचा नेहरू का यही स्वप्न था। बच्चों के प्यारे चाचा आज के भारत में हो रही बच्चों की ये दुर्दशा यदि देख पाते तो शायद उनका हृदय विदीर्ण हो ...

चाचा नेहरू : प्यार और सपनों का दूसरा नाम

सृष्टि की सुंदर वाटिका में खिले तरह-तरह के फूलों की गंध, रूप, रस और रंग का आकर्षण और ...

बनता-संवरता-बदलता बचपन

आज का बचपन किन परिस्थितियों में उलझा है, कैसे-कैसे दबाव उन पर हैं और कितनी ही सुविधाओं से संपन्न है फिर भी परेशान है। बाल दिवस पर हमने बात की ...

बच्चों के प्यारे चाचा नेहरू

वे करिश्मों वाले आदमी थे। और बच्चों में एक सहज प्रवृत्ति होती है कि वे करिश्मे वाले आदमी को बहुत प्यार करते हैं। प्यार सबसे बड़ा करिश्मा है। ...

चाचा नेहरू की ताजगी के 3 राज

टेलीविजन पर पंडितजी जब पहली बार आए तब वहां पर उपस्थित एक वृद्ध सज्जन ने उनसे पूछा, 'पंडितजी, आप भी सत्तर से ऊपर हैं, मैं भी। लेकिन क्या वजह है ...

आत्मनिर्भर बनो – नेहरू

नेहरूजी इंग्लैंड के हैरो स्कूल में पढ़ाई करते थे। एक दिन सुबह अपने जूतों पर पॉलिश कर रहे थे तब अचानक उनके पिता पं. मोतीलाल नेहरू वहां जा पहुंचे।

बाल मन के नाजुक सवाल

साहिर लुधियानवी के गीत के बोल देश में बच्चों की महत्ता को साफ जाहिर करते हैं। आज जब पूरा विश्व बुजुर्ग हो रहा है। भारत दिन ब दिन जवां हो रहा है ...

बाल दिवस : नन्हों के अधिकार

भारत का संविधान,संयुक्त राष्ट्र की योजनाओं के ही अनुरूप बच्चों के संरक्षण एवं अधिकारों की रक्षा के लिए कई सुविधाएं देता है। देश का संविधान हर ...

बहुत याद आता है बचपन...

हर किसी को अपना बचपन याद आता है। हम सबने अपने बचपन को जिया है। शायद ही कोई होगा, जिसे अपना बचपन याद न आता हो। बचपन की अपनी मधुर यादों में ...

बच्चे हमें सिखाते हैं...

हम सचमुच बच्चों का खेल देखना भूल गए हैं? इस बाल दिवस पर क्या हमें बच्चों का खेल फिर से देखना शुरू नहीं करना चाहिए? वे हमें जिंदगी का असल खेल ...

Widgets Magazine

लाइफ स्‍टाइल

हिन्दी पत्रकारिता दिवस : उदन्त मार्तण्ड का सफर

30 मई यानी हिन्दी पत्रकारिता दिवस। 1826 ई. का यह वही दिन था, जब पंडित युगल किशोर शुक्ल ने कलकत्ता ...

सावधान, धूम्रपान आपको अंधा कर सकता है

तंबाकू के हानिकारक दुष्प्रभावों की जड़ निकोटिन है, क्योंकि इसमें मौजूद कई ऑक्सीडेंट्स आंखों को ...

Widgets Magazine

जरुर पढ़ें

खूबसूरत आंखों के लिए जरूरी है सुरक्षा

यहां दिए जा रहे उपायों से आप आंखों की सुरक्षा कुछ हद तक कर सकते हैं। निरंतर बगैर नागा किए ...

प्रवासी साहित्य : डैफ़ोडिल के फूल...

इंग्लैंड और कुछ अन्य यूरोपीय देशों में डैफ़ोडिल के फूल वसंत के आगमन की सूचना देते हैं। डैफ़ोडिल के ...

यह 4 बुरी आदतें सेहत के लिए खतरनाक हैं....

किसी व्यक्ति में बेड टी यानि सुबह-सुबह बिस्तर पर चाय पीना, जंक फूड का अधिक सेवन, कम पानी पीना, भोजन ...

Widgets Magazine