वंदना शिवा ने किया देश के प्रथम सोलर टी स्टॉल का उद्‍घाटन


ठंड के गुलाबी दिनों में चाय और सूर्य दोनों मन को भाते हैं। ऐसे में अगर सूर्य की रोशनी में ही चाय बन जाए तो फिर उसकी बात ही निराली है। 6 जनवरी 2018 की सुबह ग्राम सनावदिया में देश की जानी मानी पर्यावरणविद् वंदना शिवा ने अनूठे टी स्टॉल का किया। इसकी विशेषता है कि यह देश का पहला सोलर टी स्टॉल है। यहां चाय सूर्य की रोशनी के तले रखे सोलर उपकरण में ही बनेगी। जिम्मी मगिलिगन सेंटर फॉर सस्टेनेबल
डेवलपमेंट की डायरेक्टर के प्रयासों और प्रेरणा से यह पहली सोलर चाय की दुकान आरंभ हुई है।

वास्तव में पिछले दिनों ऊर्जा संरक्षण दिवस पर जब समस्त सोलर प्रेमी जिम्मी मगिलिगन सेंटर पर सोलर चाय के लिए एकत्र हुए तो वहां उपस्थित

युवा लोकेश प्रजापत इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने उसी दिन खोलने का निश्चय किया। परिणामस्वरूप जनक दीदी के प्रयासों और सोलर कुकर इंटरनेशनल, सैक्रामेंटो तथा सनवादिया की श्रीमती चंदाबाई धाकड़ के आर्थिक सहयोग से लोकेश प्रजापत को प्रिंस सोलर कुकर उपलब्ध करवाया गया। महत्वपूर्ण बात यह है कि यह यह सोलर पॉवर्ड स्टाल नहीं है, न ही यहां बैटरी से गर्म होने वाले कुकर पर बनी चाय मिलेगी बल्कि यह सीधा ही सूर्य की ऊर्जा से चलता है, यही बात इसे खास बनाती है।

इस अवसर पर सभी मेहमानों ने लोकेश की इस पहल का स्वागत किया और बकायदा खरीद कर सोलर चाय की चुस्कियां लीं।

इस अवसर पर उद्घाटन के लिए बतौर मुख्य अतिथि शामिल वंदना शिवा ने इस कदम की मुक्त कंठ से प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि हमारे युवा ही देश को बदल सकते हैं। उनकी नई सोच, चुनौती लेने का साहस और तत्काल कार्य रूप में परिणत करने का सलीका ही इस देश की ताकत और जरूरत है। हमें सूरज जैसे अक्षय स्त्रोतों का भरपूर उपयोग करना है और गैस तथा फॉसिल फ्यूल का उपयोग कम से कम करना है।

इस उद्घाटन अवसर पर कई युवा साथी, किसान और ग्रामवासियों ने उत्साहपूर्वक भाग लिया। ज्ञात रहे कि सबसे पहले जिम्मी सेंटर की वरिष्ठ सहयोगी नंदा चौहान ने आमंत्रित कर सोलर टी बना कर पेश की थी।



वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :