जिम्मी मगिलिगन सेंटर पर बहाउल्लाह जन्मोत्सव मनाया


बहाई धर्म के संस्थापक के 200वें जन्मोत्सव के उपलक्ष्य में जिम्मी मगिलिगन सेंटर फॉर सस्टेनेबल डेवलपमेंट सनावादिया में कार्यशाला का आयोजन किया गया। 6 व 9 अक्टूबर 2017 को आयोजित दो कार्यशालाओं में श्री वैष्णव इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट बी.एम. कॉलेज के छात्रों और प्राध्यापक सहित 100 सहभागी प्रशिक्षित हुए। मुख्य विषय “सस्टेनेबल डेवलपमेंट के लक्ष्यों की प्राप्ति लिए एक साथ” होने की आवश्यकता, महत्व तथा प्रक्रिया कार्यक्रम केंद्र के एक भ्रमण के साथ व्यावहारिक अनुभव से शुरू हुआ जिसमें सहभागियों ने केंद्र का दौरा किया गया।
 
यह सौर ऊर्जा, पवन ऊर्जा और सौर पाक कला प्रौद्योगिकियों द्वारा संचालित सरल और व्यवस्थित तरीके से डिजाइन और विकसित किया गया है। नंदा और राजेंद्र चौहान ने उन्हें टिकाऊ भोजन और अन्य दैनिक जरूरतों का पुन: उपयोग करने के लिए अभिनव तरीके और वैकल्पिक संसाधन प्रबंधन जैसे कि प्रयुक्त कागज, खाद, वर्मीकल्चर, गाय-मूत्र और गोबर, रीसाइक्लिंग, वर्षा जल संचयन आदि के उत्पादन के बारे में बताया। यह प्राकृतिक संसाधनों और सतत टेक्नोलॉजीज़ और सस्टेनेबल लिविंग के सफल इष्टतम उपयोग का एक नया अनुभव था।
विश्व के लिए एकता, शांति और रोग निवारक प्रार्थना के साथ कार्यक्रम शुरू किए गए थे। केंद्र की निदेशक डॉ जनक पलटा मगिलिगन ने बहाई परिदृश्यों से सतत विकास के बारे में सीखने के अनुभवों पर प्रस्तुति की, जो 200 वर्ष पहले पैदा हुए इस युग के दिव्य शिक्षक बहाउल्लाह द्वारा दिए आध्यात्मिक सिद्धांतों पर आधारित थे।
 
अपने पति जिम्मी मगिलिगन के साथ झाबुआ क्षेत्र में 500 अधिक ग्रामीण समुदायों के विकास के लिए उन्होंने विवाहित जीवन में सेवा करते सीखने का प्रयास किया। वे क्रमशः चंडीगढ़ और ब्रिटेन से अपने घरों, नौकरियों और परिवार के सदस्यों से दूर आकर 1985 में इंदौर में बहाई पायनियर के रूप में आकर यहीं बस गए। दोनों ने अपने समुदायों के बीच सामाजिक विकास के लिए मानव जाति और सद्भाव की एकता के आधार पर पर्यावरण का संरक्षण भावना से काम किए।  स्थानीय मानव संसाधनों के विकास के लिए काम किया और साथ ही पूरी तरह से अक्षय ऊर्जा के सस्टेनेबल प्रौद्योगिकियों के विकास की पहल की। सन 2011 जिम्मी का में निधन हो गया, लेकिन जनक जमीनी समुदाय के स्तर पर विकास के क्षेत्रों से लेकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर विकास कार्य के लिए एक शिक्षक और सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में सेवा जारी रखे हुए हैं।

उन्होंने कार्यशालाओं के प्रतिभागियों को पर्यावरण को बचाने और एकता और शांति स्थापित करने के लिए आगे आने के लिए प्रोत्साहित किया। जनक ने कहा कि निरंतर विकास की नींव इस समझ पर है कि आध्यात्मिक और सामाजिक प्राणी होने के नाते पर्यावरण संरक्षण हमारी आध्यात्मिक और सामाजिक जिम्मेदारी है। इसे सस्टेनेबल जीवन के लिए स्थायी विकल्प बनाकर व्यक्तिगत स्तर और सामूहिक स्तर पर आत्मसात करना होगा। सभी के लिए सस्टेनेबल विकास के लक्ष्यों की प्राप्ति हेतु एक साथ आने के लिए सामूहिक क्षमता का निर्माण करना होगी।
 
डॉ. जनक फार्मा ने छात्रों को गिलोय पेय बनाने का व्यावहारिक प्रशिक्षण भी दिया, जो बुखार के कारण चिकनगुनिया, डेंग और शरीर के दर्द से पीड़ित रोगियों को बचा सकता था। दुर्लभ जड़ी बूटियों और औषधीय पौधे जैसे वज्रदंती किडनी पत्थर चट्टा, हत्थाजोड़, अरिठा, सभी मसाले, इलायची देख प्रतिभागियों ने कहा वे बहुत प्रेरित हुए हैं। यहां उन्होंने एक अनूठा व अद्भुत अनुभव लिया। वे जिम्मी मगिलिगन केंद्र मिलने वाली एक नई दिशा का अनुसरण करने के लिए गहराई से प्रेरित हैं।
 
भारत के राष्ट्रपति द्वारा गरीब बच्चों को मुफ्त शिक्षा देने के लिए सम्मानित डॉ. ललिता शर्मा ने बहाई शिक्षाविद बहाउल्लाह के जीवन और उनके शिक्षण पर एक वीडियो दिखाया गया। परमेश्वर की एकता, मानवता की एकता, धर्मों की एकता, सच्चाई की स्वतंत्र खोज, महिलाओं और पुरुषों की समानता, धर्म और विज्ञान की सद्भाव, सार्वभौमिक अनिवार्य शिक्षा, सार्वभौमिक सहायक भाषा, सभी प्रकार के पूर्वाग्रहों को समाप्त करना, अत्यंत धन और गरीबी की दूरी का उन्मूलन करने जैसे सि‍द्धांतों की जानकारी दी।
 
आईटी विशेषज्ञ श्री समीर शर्मा ने जीवन के उद्देश्य पर एक पावर प्वाइंट प्रस्तुति दी और विशेष रूप से प्रतिभागियों को सोशल मीडिया पर आईटी का उपयोग सकारात्मक विकास, राष्ट्र निर्माण, लोगों और सृष्टि की भलाई के लिए और जगत, प्रकृति, अपने माता-पिता और भारत के लिए ही करें। शिक्षाविद् श्रीमती रोफीया पाठक और धातु कलाकार देववल वर्मा ने भी सकारात्मक योगदान देने का संदेश दिया।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :