गायक बनना चाहते हैं तो कुंडली के ग्रह भी देख लीजिए


 
 
* कौन से ऐसे ग्रह होते हैं, जो गायन में सफलता दिलाते हैं... 
 
आज गायन के क्षेत्र में नई-नई प्रतिभाओं को अपना हुनर दिखाने का मौका मिल रहा है। यदि हम पहले से जान लें कि गायन के क्षेत्र में हमें कितनी सफलता मिलेगी तो इस क्षेत्र में बढ़ना आसान रहेगा। आइए जानते हैं कि कौन से ऐसे ग्रह हैं, जो गायन के क्षेत्र में सफल बनाते हैं। हमारी जन्म कुंडली में किन-किन स्थानों का महत्व होता है जिससे उत्तम बन सकते हैं।
 
किसी भी जातक की जन्म कुंडली में लग्न स्वयं का, वाणी का व तृतीय भाव स्वर का होता है। साथ ही का गायन के क्षेत्र में बड़ा योगदान होता है। शास्त्रीय गायन में सफलता के लिए गुरु, क्लासिकल गानों के लिए शुक्र, चन्द्र का शुभ भावों में होना सफलता के मार्ग को प्रशस्त करता है। 
द्वितीय भाव लग्न से दूसरे भाव को कहते हैं। यह वाणी का भाव होता है वहीं तृतीय भाव स्वर का। जब तक दोनों भाव दोषरहित न हों तो आवाज व स्वर मधुर नहीं निकलते। लग्न स्वयं को दर्शाता है। लग्न भाव भी दोषमुक्त होना चाहिए।
 
यदि आपकी जन्म लग्न वृषभ या तुला है तो लग्नेश शुक्र होगा और इसके साथ वृषभ लग्न में द्वितीय भाव का स्वामी बुध व तृतीय भाव का स्वामी चन्द्र होगा। अत: बुध शुभ व चन्द्र भी अशुभ ग्रहों के प्रभावों से दूर होना चाहिए। 
 
शुक्र की स्थिति भी वृषभ, तुला, मकर, कुंभ मीन में हो या लग्न को वृश्चिक राशि का होकर देखे तो सफलता निश्चित मिलती है। 
 
यदि चतुर्थ भाव में शुक्र हो तो उत्तम सफलता के योग देता है। जैसे वाणी जयराम, सुलक्षणा पंडित गायन के क्षेत्र में आईं लेकिन वे सुनिधि चौहान, श्रेया घोषाल, कविता कृष्णमूर्ति जैसी सफलता नहीं पा सकीं। 
 
तुला लग्न भी शुक्र प्रधान लग्न है व द्वितीय भाव मंगल की राशि वृश्चिक का व स्वर भाव तृतीय का स्वामी गुरु है और इन दोनों में मित्रता है। यदि इन भावों के स्वामी स्वराशि के हों या मित्र के हों या इन भावों को देखते हों व चतुर्थ भाव के स्वामी से संबंध हो तो सफलता भी उत्तम मिलती है।
 
मेष लग्न में मंगल, शुक्र व बुध का शुभ स्थिति में होना चाहिए। मिथुन लग्न में बुध, चन्द्र व सूर्य का शुभ होना चाहिए। कर्क लग्न में चन्द्र, सूर्य व बुध, सिंह लग्न में सूर्य, बुध व शुक्र, कन्या लग्न में बुध, शुक्र व मंगल, वृश्चिक लग्न में मंगल, गुरु व शनि, धनु लग्न में गुरु व शनि, मकर लग्न में शनि व गुरु, कुंभ लग्न में शनि, गुरु व मंगल, मीन लग्न में गुरु, मंगल व शुक्र का शुभ होना चाहिए तभी उत्तम सफलता मिलती है। 
 
और यदि इन्हीं में से किसी की महादशा में अंतर भी इन्हीं में से किसी का हो, तो सफलता में चार चांद लग जाते हैं।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

राशिफल

क्या सच में ग्रहों की चाल प्रभावित करती है हमारे जीवन को, ...

क्या सच में ग्रहों की चाल प्रभावित करती है हमारे जीवन को, जानिए कैसे
सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड 360 अंशों में विभाजित है। इसमें 12 राशियों में से प्रत्येक राशि के 30 ...

सूर्य वृषभ राशि में, किन 5 राशियों को मिलेगा अधिक लाभ... ...

सूर्य वृषभ राशि में, किन 5 राशियों को मिलेगा अधिक लाभ... (जानें 12 राशियां)
15 मई को सूर्यदेव अपनी राशि परिवर्तन कर वृषभ में विराजे हैं। अब आने वाले 1 माह यानी 15 ...

बुध का वृषभ राशि में आगमन, क्या होगा आपकी राशि पर असर

बुध का वृषभ राशि में आगमन, क्या होगा आपकी राशि पर असर
27 मई से बुध वृषभ राशि, भरणी नक्षत्र में प्रवेश करेगा, जिसके परिणाम स्वरूप आपकी राशि पर ...

बहुत खास है बुधादित्य योग, 27 मई से मिलेगा 12 राशियों को ...

बहुत खास है बुधादित्य योग, 27 मई से मिलेगा 12 राशियों को शुभाशुभ फल
27 मई को बुध अपनी राशि परिवर्तन कर वृष राशि में प्रवेश करेंगे। आइए जानते हैं कि किन-किन ...

आपके लिए जानना जरूरी है पुरुषोत्तम मास की ये 8 खास विशेष ...

आपके लिए जानना जरूरी है पुरुषोत्तम मास की ये 8 खास विशेष बातें...
ज्योतिष गणित में सूक्ष्म विवेचन के बाद अब स्वीकारा जा चुका है कि- जिस चंद्रमास में सूर्य ...

चल रहा है नौतपा, जानिए कौन सा दिन कैसा होगा, विशेष जानकारी

चल रहा है नौतपा, जानिए कौन सा दिन कैसा होगा, विशेष जानकारी
रोहिणी नक्षत्र में सूर्य के प्रवेश करते ही धरती और सूर्य के बीच की दूरी काफी कम हो जाती ...

सिर्फ करोड़पति ही नहीं अरबपति भी बनाते हैं ज्योतिष के यह

सिर्फ करोड़पति ही नहीं अरबपति भी बनाते हैं ज्योतिष के यह योग
अपनी जन्मकुंडली में धनवान होने के योग स्वयं देख सकते हैं। जानिए कुछ प्रमुख चमत्कारी धनवान ...

11 सोमवार, 11 शिव नाम और 11 अक्षत का करिश्मा...

11 सोमवार, 11 शिव नाम और 11 अक्षत का करिश्मा...
लगातार 11 सोमवार ऐसा करने से अवश्य ही कार्य आश्चर्यजनक रूप से संपन्न होगा।

रोहिणी थीं चंद्र की प्रिय पत्नी, क्रोधित ससुर ने दिया शाप, ...

रोहिणी थीं चंद्र की प्रिय पत्नी, क्रोधित ससुर ने दिया शाप, शिव ने रखा शीश पर
चंद्र का विवाह दक्ष प्रजापति की 27 नक्षत्र कन्याओं के साथ संपन्न हुआ। चंद्र का रोहिणी पर ...

ऐसे हुआ सुंदर चमकीले चंद्रदेव का जन्म, पढ़ें पौराणिक कथा

ऐसे हुआ सुंदर चमकीले चंद्रदेव का जन्म, पढ़ें पौराणिक कथा
चंद्रमा के जन्म की कहानी पुराणों में अलग-अलग मिलती है। मत्स्य एवम अग्नि पुराण के अनुसार ...