सहवाग का गुबार फूटा, सेटिंग के कारण नहीं बन पाया कोच

Last Updated: शुक्रवार, 15 सितम्बर 2017 (20:21 IST)
मुंबई। अपनी खरी बातों और चुटीली टिप्पणियों के लिए मशहूर हो चुके पूर्व ने टीम इंडिया का नहीं बन पाने के कुछ समय बाद अपना दिल खोलते हुए कहा है कि उनकी 'सेटिंग' नहीं थी इसलिए वह कोच नहीं बन पाए।




सहवाग को टीम इंडिया के कोच पद की होड़ में सबसे आगे माना जा रहा था। लेकिन कप्तान विराट कोहली की पसंद रवि शास्त्री टीम इंडिया के नए कोच बन गए। सहवाग ने कोच के मुद्दे पर आखिर अपना गुबार निकालते हुए कहा, 'देखिए मैं कोच इसलिए नहीं बन पाया क्योंकि मेरी किसी से भी सेटिंग नहीं थी। जो भी कोच चुन रहे थे, उनसे मेरी कोई सेटिंग नहीं थी।





दुनिया के सबसे खतरनाक बल्लेबाजों में शुमार रह चुके सहवाग ने 'इंडिया टीवी' के साथ बातचीत में कोच के मुद्दे पर अपने दिल का राज खोला। सहवाग ने कहा, 'मैंने सोचा नहीं था। मेरे पास ऑफर आया था...के सचिव अमिताभ चौधरी और डॉ. श्रीधर आए थे। उन्होंने आग्रह किया और मैंने अपना समय लिया।'

सहवाग ने कहा, 'मैंने समय लेने के बाद फिर इसके लिए आवेदन किया। विराट कोहली से भी मेरी बात हुई थी। वह भी यह कह रहे थे, तब जाकर मैंने आवेदन किया। अगर मुझसे पूछें कि मेरा मन था, तो मेरी दिलचस्पी बिल्कुल भी नहीं थी।'

सहवाग ने स्पष्ट किया कि वह आगे कभी कोच के लिए आवेदन नहीं करेंगे। उन्होंने कहा, 'मुझे लगा कि शायद वे आग्रह कर रहे हैं तो मुझे उनकी मदद करनी चाहिए। इसलिए मैंने आवेदन करने का फैसला किया। मैंने आवेदन करने के बारे में न सोचा था और न आगे कभी करूंगा।'





ने साथ ही कहा कि अगर
रवि शास्त्री पहले आवेदन कर चुके होते तो वह भी आवेदन नहीं करते करते। उन्होंने कहा, 'जब इंग्लैंड में मैंने रवि से पूछा था कि आपने क्यों आवेदन नहीं किया तो उन्होंने कहा था कि मैं एक बार गलती कर चुका हूं, दोबारा नहीं करूंगा। अगर पता होता तो फिर शायद मेरी नौबत ही नहीं आती आवेदन करने की...मैं करता ही नहीं।'





टीम इंडिया से बाहर चल रहे मध्यक्रम के बल्लेबाजों युवराज सिंह और सुरेश रैना के लिए सहवाग ने कहा, 'युवराज-रैना के साथ अभी उम्र है। वे दोनों मध्यक्रम के लिए बेहद जरुरी हैं। बाकी सब खिलाड़ी युवा हैं। युवराज फिटनेस टेस्ट में भले ही 16 के आंकड़े तक नहीं पहुंचे हों, लेकिन उसके आसपास तो वह पहुंच रहे हैं। उन्हें आगे मौका मिलना ही चाहिए। इसी के साथ ही एक खिलाड़ी को सही समय पर संन्यास भी ले लेना चाहिए।'





पूर्व भारतीय कप्तान और विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी के 2019 के विश्व कप में खेलने की संभावना पर सहवाग ने कहा, 'एमएस का प्रदर्शन हाल ही में बेहद शानदार रहा है। टीम को धोनी की जरुरत है उन्हें 2019 वर्ल्ड कप खेलना चाहिए।'






ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 17 सितम्बर से शुरु हो रही एकदिवसीय सीरीज के लिए सहवाग ने कहा, 'टीम इंडिया को कड़ी टक्कर मिलेगी। ऑस्ट्रेलिया एक मजबूत टीम है। जब भी वे भारत आते हैं हम उन्हें हराना चाहते हैं। 2010 से ऑस्ट्रेलिया भारत में नहीं जीता है। हम उन पर बहुत भारी पड़े हैं। लेकिन ये वनडे क्रिकेट है। मैच कभी भी बदल जाता है। श्रीलंका जैसा नहीं होगा और ऑस्ट्रेलिया की टीम कड़ी चुनौती देगी।'






सहवाग ने माना कि तेज गेंदबाज मिशेल स्टार्क का भारत ना आना ऑस्ट्रेलिया के लिए एक बड़ा झटका है। उन्होंने कहा, 'स्टार्क भारत दौरे पर नहीं आए हैं। वह ऐसे गेंदबाज हैं जो शुरुआत में बल्लेबाजों को परेशान करते हैं। उनका ना आना ऑस्ट्रेलिया के लिए बड़ा झटका रहने वाला है। विराट कोहली अगर थके हुए नहीं हुए तो फिर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ इस सीरीज में खूब रन बनाएंगे।'






भारतीय कप्तान विराट कोहली की तारीफ के साथ साथ सहवाग ने एक किस्से का भी जिक्र किया जब उन्हें विराट पर जबरदस्त गुस्सा आ गया था। उन्होंने कहा, 'पर्थ में विराट ने दर्शकों की तरफ अंगुली दिखाई, जिसके बाद अंपायर ने उन पर जुर्माना लगाया। तब मुझे विराट पर बहुत गुस्सा आया।'




सहवाग ने कहा, 'मैं उन पर गुस्सा हुआ और मैंने उन्हें कहा कि आपको ऐसा नहीं करना चाहिए था। विराट ने उस मैच में रन बनाए थे। अगर उन पर एक मैच का बैन लग जाता तो हम मुश्किल में आ जाते। मैंने उन्हें समझाया था कि उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए था।'











पूर्व ओपनर ने साथ ही कहा कि विराट सचिन के रिकॉर्ड तोड़ सकते हैं और उनसे आगे भी निकल जाएंगे। उन्होंने कहा, हमने कभी नहीं सोचा था कि सचिन जैसा कोई बल्लेबाज आएगा। लेकिन विराट के आने के बाद सोच बदली।

सहवाग ने कहा कि मेरे हिसाब से विराट सचिन से आगे निकल सकते हैं। अभी वह 28 साल के हैं और लगभग 10 साल और क्रिकेट खेलेंगे। मुझे लगता है कि वह क्रिकेट के कई बड़े रिकॉर्ड बनाएंगे और सचिन से आगे निकल सकते हैं।








सहवाग ने अपने दिल की एक और बात सामने रखते हुए कहा, 'मैं अपना नाम बदलकर सचिन रखना चाहता हूं। मैं सचिन के आसपास भी नहीं हूं। उन्हें बहुत इज्जत मिलती है लोग उन्हें भगवान मानते हैं।'

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine



और भी पढ़ें :