पनीर खाते हैं तो आपके लिए काम की खबर

पुनः संशोधित मंगलवार, 29 अगस्त 2017 (15:24 IST)
जब आदमी ने खेती करना शुरू किया और डेयरी प्रोडक्ट्स का उपयोग करना शुरू किया तब से हमारे पूर्वजों की खोपड़ी का आकार छोटा हो गया। इसका क्या कारण हो सकता है? क्या आपने कभी सोचा है कि आपका भोजन भी शरीर की आकारिकी को प्रभावित करता है और इनके उपयोग से शरीर के अंगों का आकार भी छोटा या बड़ा हो सकता है।

भले आप इसे न मानें लेकिन यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया के शोधकर्ताओं ने कहा है कि मानव जाति ने जब (चीज) जैसी डेरी प्रोडक्ट्‍स का प्रयोग शुरू किया तब उसके हाथ और जबड़ों का छोटा और कमजोर होना शुरू हो गया। इसका नतीजा यह भी हुआ कि हमारी खोपड़ी का आकार भी घट गया।

अध्‍ययनकर्ताओं के अनुसार इसकी वजह यह है कि इन खाद्य सामग्रियों का इस्‍तेमाल शुरू करने के बाद मनुष्‍य की शिकार पर निर्भरता कम होने लगी और मुलायम चीजों को चबाने से उसके जबड़ों पर दबाव पड़ना भी कम हो गया। डेलीमेल ऑनलाइन में प्रकाशित एक लेख में सेबेस्टियन मर्फी-बेस्ट्स लिखते हैं कि खेती करने के तौर-तरीके और बेहतर भोजन मिलने के चलते मनुष्य की खोपड़ी का आकार छोटा होने लगा।
वैज्ञानिकों का कहना है कि चारा खोजने, खेती करने के युग में जहां आदमी की खोपड़ी का आकार ओरांगउटान के बराबर था लेकिन कालांतर में यह छोटा हो गया। शोधकर्ताओं ने करीब एक हजार मानव खोपड़ियों का अध्‍ययन किया। ये खोपड़ियां पूरे विश्‍व के अलग-अलग हिस्‍सों से एकत्रित की गई थीं। इनमें मानव के खेती बाड़ी और डेरी प्रोडक्ट के इस्‍तेमाल के बाद और उससे पहले शिकार पर निर्भर मनुष्‍यों की खोपड़ियां शामिल की थीं।

दोनों की तुलना करने पर इस शोध में यह निष्कर्ष सामने आया कि जैसे-जैसे मनुष्‍य फार्मिंग और पशुपालन की तकनीक विकसित करके फल सब्‍जियों और पशुओं के दूध से बनने वाले डेरी उत्‍पादों का प्रयोग बहुतायत में करने लगा उसके जबड़े सिकुड़ने लगे और खोपड़ी का आकार भी घटने लगा। इसी तरह शरीर की हड्‍डियों की मजबूती भी कमजोर होने लगी।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :