हिन्दी कविता : अजब पिटारी है...




- राजेन्द्र निशेश

पतझड़ की हो गई बिदाई,
अब की बारी है।
फूल खिल रहे महके-महके,
मयूर, कोयल सब हैं चहके।
चिड़िया फुदके टहनी-टहनी,
कैसी हंसती क्यारी है।

भंवरों में है मस्ती छाई,
शीतल चलती है पुरवाई।
धरती ने भी प्यार लुटाया,
तितली कैसी न्यारी है।

सूरज मंद-मंद मुस्काता,
चंदा अपने रूप दिखाता।
तारे सुन्दर गीत सुनाते,
अजब पिटारी है।

साभार - देवपुत्र

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :