Widgets Magazine Widgets Magazine
Widgets Magazine
Widgets Magazine

बाल कविता : मेरा बचपन...

Author सुशील कुमार शर्मा|
रंग-रंगीला है,
कितना लगे सुरीला है।


 
नन्ही के संग दौड़ा-दौड़ी,
मुन्नी के संग कान मरोड़ी।
 
तितली के पीछे दौड़ा मैं, 
मछली के पीछे तैरा मैं।
 
मेरा पाजामा ढीला है,
बचपन रंग-रंगीला है।
 
नानी का मैं सबसे प्यारा,
दादी का मैं राजदुलारा।
 
जब भी पापा ने डांट लगाई,
दादा ने की उनकी खिंचाई।
 
मेरा चेहरा भोला है,
बचपन रंग-रंगीला है।
 
चलो नदी में कूद लगाएं,
पेड़ों पर झट से चढ़ जाएं।
 
चलो आम पर पत्थर मारें,
करें जोर से चीख-पुकारें।
 
खेत में सरसों पीला है,
बचपन रंग-रंगीला है।
 
चलो पानी में नाव चलाएं, 
कान पकड़कर दौड़ लगाएं।
 
कक्षा में हम धूम मचाएं, 
इसको पीटें, उसे नचाएं।
 
देखो मिट्ठू बोला है,
बचपन रंग-रंगीला है,
कितना लगे सुरीला है।
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine
Widgets Magazine
Widgets Magazine Widgets Magazine
Widgets Magazine