बाल दिवस पर हिन्दी कविता...


तांका 9  
 
करोड़ों नन्हे हाथ
रोटी कमाते
सिसके बाल मन।
 
अधूरा बचपन
नन्ही उमर
चाय दुकान पर।
 
धुलतीं प्लेटें
शिक्षा का अधिकार
कौन सुने पुकार।
 
ऊंची कूदनी
लुढ़का-लुड़काई
छिपा-छिपाई।
 
छुक से चले रेल
के खेल
बच्चों के स्वर।
 
शरारत के खेल
बोलती आंखें
जीवन की सौगातें।
 
बचपन की बातें
मन का बच्चा
बाहर निकलता।
 
आज के दिन
हंसता-मुस्कुराता
गीत गुनगुनाता।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :