श्री हनुमान जी के 108 पवित्र नाम

श्री हनुमान जी
भक्तों की रक्षार्थ सदैव तत्पर रहते हैं। श्री हनुमान जी महाराज के 108 नामों के साथ हनुमान जी के चमत्कारी मंत्रो का भी जाप किया जाए तो यह अत्यंत शुभ फलदायक होता है।

ॐ हनुमते नमः

ॐ श्रीप्रदाय नमः

ॐ वायुपुत्राय नमः

ॐ अजराय नमः

ॐ अमृत्याय नमः

ॐ मारुतात्मजाय नमः

ॐ वीरा वीराय नमः

ॐ ग्रामवासाय नमः
ॐ जनाश्रयदाय नमः

ॐ रुद्राय नमः

ॐ अनागाय नमः

ॐ धनदायाय नमः

ॐ अकायाय नमः

ॐ वीरये नमः
ॐ वाग्मिने नमः

ॐ पिंगाक्षाय नमः

ॐ वरदाये नमः

ॐ सीता शोकविनाशनाय नमः

ॐ रक्तावाससे नमः

ॐ शिवाय नमः

ॐ निधिपतये नमः

ALSO READ:
हनुमान जयंती पर को प्रसन्न करते हैं यह दो प्रसाद

ॐ मुनाय नमः

ॐ शर्वाय नमः

ॐ व्यक्ताव्यक्ताय नमः

ॐ रसाधराय नमः

ॐ पिंगकैशाय नमः

ॐ पिंगरोमने नमः

ॐ श्रुतिगम्याय नमः

ॐ सनातनाय नमः
ॐ पराय नमः

: ॐ अव्यक्ताय नमः

ॐ अनादाय नमः

ॐ भगवते नमः

ॐ दैव्याय नमः

ॐ विश्वहेतवे नमः

ॐ निराश्रयाय नमः

ॐ आरोग्यकारते नमः
ॐ विश्वेश्वाय नमः

ॐ विश्वनायकाय नमः

ॐ हरिश्वराय नमः

ॐ विश्वमूर्तये नमः

ॐ विश्वकाराय नमः

ॐ विषडाय नमः
ॐ विश्वात्मनाय नमः

ॐ विश्वाहाराय नमः

ॐ राव्याय नमः

ॐ विश्वचेशलाय नमः

ॐ विश्वसेवाय नमः

ॐ विश्वाय नमः

ॐ विश्वगम्याय नमः

ॐ विश्वाध्ययाय नमः
ॐ बालाय नमः

ॐ वृद्धाध्येय नमः

ॐ युवाय नमः

ॐ कलाधराय नमः

ॐ प्लावंगमय नमः

ॐ कपिशेषताय नमः

ॐ विडयाय नमः

ॐ ज्येष्ठाय नमः
ॐ तटवाय नमः

ॐ वनचराय नमः

ॐ तत्वगामय नमः

ॐ सखये नमः

ॐ अजाय नमः

ॐ अंजनीसूताय नमः

ॐ अवायगराय नमः

ॐ भार्गाय नमः
ॐ रामाय नमः

ॐ रामभक्ताय नमः

ॐ कल्याणाय नमः

ॐ प्रकृतिस्थितिराय नमः

ॐ विश्वंभाराय नमः

ॐ ग्रामासवंताय नमः

ॐ धराधराय नमः

ॐ भुरलोकाय नमः
ॐ भुवरलोकाय नमः

ॐ स्वर्गालोकाय नमः

ॐ महालोकाय नमः

ॐ जनलोकाय नमः

ॐ तापसे नमः

ॐ अव्यायाय नमः

ॐ सत्याय नमः

ॐ ओंकार जन्माय नमः
ॐ प्राणवायेय नमः

ॐ व्यापकाय नमः

ॐ अमलाय नमः

ॐ शिवधर्मा-प्रतिष्ताय नमः

ॐ रामेशत्राताय नमः

ॐ फाल्गुनप्रियाय नमः

ॐ राक्षोधनाय नमः

ॐ पंदारिकाक्षायाय नमः
ॐ दिवाकाराय नमः

ॐ समप्रभाय नमः

ॐ द्रोणहर्ताय नमः

ॐ शक्ति राक्षसाय नमः

ॐ गोसपदिकृतिसाय नमः

ॐ वारिशाय नमः

ॐ पूर्णकमाय नमः

ॐ धरा दिपाय नमः
ॐ शक्ति राक्षसाय नमः

ॐ मारकाय नमः

ॐ रामदूताय नमः

ॐ कृष्णाय नमः

ॐ शरणागतवत्सलाय नमः

ॐ जानकीपराणदाताय नमः

ॐ रक्षप्राणहारकाय नमः

ॐ पूर्णाय नमः
ॐ सत्याय नमः

ॐ पितावाससेय नमः

ॐ देवाय नमः

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

ज्योतिष के अनुसार मंगल की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते ...

ज्योतिष के अनुसार मंगल की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते होंगे...
ज्योतिष के अनुसार हर ग्रह की परिभाषा अलग है। पौराणिक कथाओं में नौ ग्रह गिने जाते हैं, ...

विवाह के प्रकार और हिंदू धर्मानुसार कौन से विवाह को मिली है ...

विवाह के प्रकार और हिंदू धर्मानुसार कौन से विवाह को मिली है मान्यता, जानिए
शास्त्रों के अनुसार विवाह आठ प्रकार के होते हैं। विवाह के ये प्रकार हैं- ब्रह्म, दैव, ...

कृष्ण के 80 पुत्रों का रहस्य, साम्ब के कारण हुआ मौसुल युद्ध

कृष्ण के 80 पुत्रों का रहस्य, साम्ब के कारण हुआ मौसुल युद्ध
भगवान श्रीकष्ण ने आठ महिलाओं से विधिवत विवाह किया था। इन आठ महिलाओं से उनको 80 पुत्र मिले ...

गुलाब का एक फूल बदल सकता है जीवन की दिशा, जानिए 10 रोचक ...

गुलाब का एक फूल बदल सकता है जीवन की दिशा, जानिए 10 रोचक टोटके
हम आपके लिए लाए हैं सुंगधित गुलाब के फूल के कुछ ऐसे उपाय या टोटके जिन्हें आजमाकर आप अपने ...

आखिर क्यों होती हैं हमारे कामों में देरी, जानिए, क्या कहता ...

आखिर क्यों होती हैं हमारे कामों में देरी, जानिए, क्या कहता है ज्योतिष
जानते हैं कि जन्मपत्रिका में वे कौन सी ऐसी ग्रहस्थितियां व ग्रह होते हैं जो कार्यों में ...

रावण की पत्नी मंदोदरी ने क्यों किया वि‍भीषण से विवाह?

रावण की पत्नी मंदोदरी ने क्यों किया वि‍भीषण से विवाह?
पुलस्त्य ऋषि के पुत्र और महर्षि अगस्त्य के भाई महर्षि विश्रवा ने राक्षसराज सुमाली और ...

ऐसे दें अपने घर को एस्ट्रो टच

ऐसे दें अपने घर को एस्ट्रो टच
घर सजा कर रखना किसे पसंद नहीं होता लेकिन यदि घर कि सजावट ज्योतिष व एस्ट्रो के अनुरुप हो ...

गायत्री मंत्र का सरल और गोपनीय अर्थ हिन्दी में, खास आपके ...

गायत्री मंत्र का सरल और गोपनीय अर्थ हिन्दी में, खास आपके लिए...
समस्त धर्म ग्रंथों में गायत्री की महिमा एक स्वर से कही गई। समस्त ऋषि-मुनि मुक्त कंठ से ...

गायत्री जयंती : कौन हैं गायत्री माता, कैसे हुआ अवतरण, विवाह ...

गायत्री जयंती : कौन हैं गायत्री माता, कैसे हुआ अवतरण, विवाह और महिमा
मां गायत्री की कृपा से ब्रह्मा जी ने गायत्री मंत्र की व्याख्या अपने चारों मुखों से चार ...

करोड़ पल सोने के दान का फल देती है निर्जला एकादशी, पढ़ें ...

करोड़ पल सोने के दान का फल देती है निर्जला एकादशी, पढ़ें पौराणिक व्रत कथा...
निर्जला एकादशी व्रत की कथा इस प्रकार है- भीमसेन व्यासजी से कहने लगे कि हे पितामह! भ्राता ...

राशिफल