लघुकथा : समीकरण


पृथ्वी पर जब जीवन-क्रम आरम्भ हुआ,तब उसका समीकरण था-प्रकृति+मनुष्य=जीवन।
शनैः शनैः पृथ्वी पर औजार आए,जिनसे मानव का कार्य सुगम हो गया। परिवर्तित स्थितियों में समीकरण भी परिवर्तित होकर मनुष्य+मनुष्य+प्रकृति=जीवन हो गया।

कुछ समय पश्चात् पृथ्वी पर यंत्रों का पदार्पण हुआ,जो इतने प्रभावशाली थे कि मनुष्यों को भी अपने रूप में ढाल लिया। फलतः समीकरण बदलकर मनुष्य+मनुष्य=जीवन हो गया।

आज तक मौन व अपरिवर्तनशील रही प्रकृति ने अब अपने मर्यादित कूलों को स्वच्छन्द कर दिया।
परिणामस्वरूप समीकरण प्रकृति+प्रकृति=विनाश हो गया,जिसे कोई औजार अथवा यंत्र या मनुष्य भंग नहीं कर पाया।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :