मंगलमय हो दीपावली सकारात्मक सुराज से...



देखा है हमने स्वच्छता /टॉयलेटमुहीम को आंदोलन बनते।
लोगों के असमंजसी सोच के बीच भी, आत्मविश्वासी लघु आगाज़ से।।1।।

चेतना की सुगबुगाहट उभर रही अब धीरे धीरे ,
उनींदे, दकियानूसी, धर्मांध फिरकों में भी उनकी समझाइशभरी आवाज़ से।।2।।

किसने गाँधी के बाद परखी नब्ज़/धड़कन देश की,
जमीन से जुड़ा ही कोई हो सकता है
वाकिफ जन-मन के मिज़ाज से।।3।।

अंतरराष्ट्रीय नक्क़ारख़ाने में भी आतंकवाद के खिलाफ,
प्रभावी माहौल बना मोदी की तूती के विशिष्ट अंदाज़ से।।4।।

शंका है कि जन-समर्थन की कोई आकर्षक राग निकाल पायें,
वंशवादी, दिशाहीन विपक्षीदल अपने क्षत-विक्षत साज़ से।।5।।

कब तक भिड़ पाएंगे सिरफिरे फिदायी आतंकवादी भी ,
भारत मां के सपूत, जोशीले प्रहरी,सैन्य-वीर जाँबाज़ से।।6।।

कामना है कि यह दीपावली ज्योतित करे समग्र राष्ट्रजीवन ,
सबका हित समेटे सुशासित, सुनियोजित, सुराज
से।।7।।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :