Widgets Magazine

बुद्ध को दो शब्द : सुनो सिद्धार्थ

Author निधि सक्सेना|

 
सुनो सिद्धार्थ
धरा साक्षी है
तुम्हारे जाने के बाद
मैं भी कुशा पर ही सोई
त्यागा हर ऐश्वर्य
हर कामना
पहना पीत वस्त्र.. 
भिक्षा हेतु तुम्हारी तरह ही भटकी, तपी
भेद बस इतना कि 
तुमने बाह्य द्वार खटखटाए
और मैं तपती भटकती रही भीतर..
इस कठिन तप और वेदना के उपरांत 
तुम हुए, दीप्त हुए
फिर मैं क्यों इस दीपक के नीचे का अंधकार मात्र रही..
Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine