कॉमरेड कैफ़ी आज़मी : नज्मों में आज भी ले रहे हैं साँस

- दिनेश 'दर्द'

WD|
FILE
(पुण्यतिथि पर विशेष) अनादिकाल से रवां वक्त का दरिया अपने भीतर न जाने कितने युग समोता चला गया। ऐसे लोग, जो पैदा हुए और गुमनाम-सी ज़िंदगी जीकर मर गए, आज उनकी कहीं कोई शनाख़त नहीं। वक्त की तेज़ रफ़्तार में अगले ही पल भुला दिए गए वो लोग। मगर जिन्होंने ज़ुल्म की आँधी के सामने थककर टूट जाना और टूटकर बैठ जाना गवारा नहीं किया, वक्त ने ऐसे सूरमाओं को हमेशा सर-आँखों पर रक्खा। ज़ियादती और बेज़ारी के ख़िलाफ़ हक़ का परचम लहराने वाले ये जंगजू लाल-ओ-जवाहिर बनकर चाँद-सूरज की तरह चमकते रहे। ऐसे ही एक सूरज का नाम है कैफ़ी आज़मी।

मज़लूमों की आवाज़ बने :
जी हाँ, वही कैफ़ी आज़मी, जिसने अपने सीने की तड़प और मुहब्बत तो अपनी शायरी में ज़ाहिर की ही, लेकिन मज़लूमों की कसक और बेचारगी से भी ग़ाफ़िल नहीं हुए। उन्होंने दबे-कुचले मज़दूर वर्ग के लिए हक़ की आवाज़ उठाते इंकलाबी तराने लिखे भी और अपनी पुरज़ोर आवाज़ में गाए भी।

अभी बचपन के खेल छूटे ही थे कि उनका लड़कपन शोषित वर्ग, किसानों और मज़दूरों की परेशानियों से तड़प उठा। इस बीच 1932 से 1942 तक लखनऊ में रहने के बाद कैफ़ी आज़मी कानपुर चले आए और मज़दूर सभा में काम करने लगे। इस दौरान उन्होंने कम्युनिस्ट साहित्य का डूबकर अध्ययन किया। 1943 में कम्युनिस्ट पार्टी में शामिल हो गए। बंबई में कम्युनिस्ट पार्टी का ऑफिस खुलने के बाद कैफ़ी भी बंबई चले आए।

अगले पन्ने पर पढ़ें, कैफी आजमी की पैदाइश और तालीम....


वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

दुर्घटनाएं अमावस्या और पूर्णिमा पर ही क्यों होती है? आइए ...

दुर्घटनाएं अमावस्या और पूर्णिमा पर ही क्यों होती है? आइए जानते हैं यह रहस्य-
पूर्णिमा के दिन मोहक दिखने वाला और अमावस्या पर रात में छुप जाने वाला चांद अनिष्टकारी होता ...

क्या आपका बच्चा भी अंगूठा चूसता है? तो हो जाएं सावधान, जान ...

क्या आपका बच्चा भी अंगूठा चूसता है? तो हो जाएं सावधान, जान लें नुकसान
शायद ऐसा कोई व्यक्ति नहीं होगा, जिसने किसी बच्चे को अंगूठा चूसते हुए कभी न देखा हो। अक्सर ...

यही है वह मौसम जब शरीर का बदलता है तापमान, रहें सावधान, ...

यही है वह मौसम जब शरीर का बदलता है तापमान, रहें सावधान, जानें वजह और बचाव के उपाय
मौसम आ गया है कि आपको चाहे जब लगेगा हल्का बुखार। तो क्या घबराने की कोई बात है? जी नहीं, ...

प्रेशर कुकर में नहीं कड़ाही में पकाएं खाना, जानिए क्यों...

प्रेशर कुकर में नहीं कड़ाही में पकाएं खाना, जानिए क्यों...
अगर आप से पूछा जाए कि प्रेशर कुकर में या कड़ाही खाना बनाना बेहतर है तो आप तुरंत प्रेशर ...

मलाईदार नारियल क्रश, सेहत के यह 8 फायदे पढ़कर रह जाएंगे दंग

मलाईदार नारियल क्रश, सेहत के यह 8 फायदे पढ़कर रह जाएंगे दंग
आजकल मार्केट में नारियल पानी से ज्यादा नारियल क्रश को पसंद किया जा रहा है। इसकी बड़ी वजह ...

दूषित सोच से पीड़ित एक प्रसिद्ध भारतीय अर्थशास्त्री

दूषित सोच से पीड़ित एक प्रसिद्ध भारतीय अर्थशास्त्री
पिछले सप्ताह विश्व प्रसिद्ध अर्थशास्त्री अमर्त्य सेन ने मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों के ...

यदि पैरेंट्स के व्यवहार में हैं ये 4 बुरी आदतें तो आपके ...

यदि पैरेंट्स के व्यवहार में हैं ये 4 बुरी आदतें तो आपके बच्चे को बिगड़ने से कोई नहीं रोक सकता!
पैरेंट्स की कुछ ऐसी आदतें होती हैं, जो वे बच्चों को सुधारने, कुछ सिखाने-पढ़ाने और नियंत्रण ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो यह एस्ट्रो टिप्स आपके लिए है
क्या आप भी संकोची हैं, अगर हां तो यह आलेख आपके लिए है...

कैंसर की रिस्क लेना अगर मंजूर है तो ही इन 7 सामान्य लक्षणों ...

कैंसर की रिस्क लेना अगर मंजूर है तो ही इन 7 सामान्य लक्षणों को नजरअंदाज करें, वरना हो सकती है बड़ी परेशानी
ये बीमारी भी ऐसे ही सामने नहीं आती। इसके भी लक्षण हैं जो आप और हम जैसे लोग अनदेखा करते ...

श्री गुरु पूर्णिमा : कैसे मनाएं घर में पर्व जब कोई गुरु ...

श्री गुरु पूर्णिमा : कैसे मनाएं घर में पर्व जब कोई गुरु नहीं हो...ग्रहण के कारण इस समय कर लें पूजन
वे लोग जिन्हें गुरु उपलब्ध नहीं है और साधना करना चाहते हैं उनका प्रतिशत समाज में अधिक है। ...