'औरत नहीं है खिलौना' सत्र में शालिनी माथुर ने किए तीखे सवाल


स्त्री विमर्श है क्या? क्या वह जो स्त्री लिख रही है या वह जो स्त्री के लिए लिखा जा रहा है। क्या ऐसा तो नहीं है कि साहसी और खुले लेखन के बहाने स्वयं स्त्री रचनाकार ही सॉफ्ट पोर्नोग्राफी को बढ़ावा दे रही है....
यह सवाल लखनऊ से पधारीं डॉ. शालिनी माथुर ने इंदौर साहित्य उत्सव से प्रभावी ढंग से उठाए। वह यहां औरत नहीं है खिलौना सत्र में अपना पक्ष रख रही थीं। इस सत्र को वरिष्ठ पत्रकार निर्मला भुराडिया ने मॉडरेट किया और इसमें साथी वक्ता थीं डॉ. मीनाक्षी स्वामी

शालिनी माथुर ने गीताश्री और समकालीन महिला रचनाकारों कीकथाओं के अंश सुनाकर सवाल किए कि यह कैसी प्रगतिशीलता है जो स्वयं तो महिलाएं अपने लेखन में खुलेपन को स्वीकार रही हैं और यही लेखन अगर पुरुष लेखक की तरफ से आ जाए तो विरोध दर्ज करवाती है? उनके अनुसार यह सच है कि स्त्री देह पर उसका अपना अधिकार है लेकिन कहीं ऐसा तो नहीं कि उस अधिकार की आड़ में एक खास किस्म की सॉफ्ट पोर्नोग्राफी को वे स्वयं परोस रही हैं। हालात यह है कि जब उन पर सवाल उठते हैं तो नैतिकतावाद के व्यंग्य के साथ उन्हें द बा दिया जाता है। उन्होंने पुरुषों पर भी बेबाक सवाल दागे और पूछा कि क्या जितने अधिकार से पुरुषों ने महिलाओं पर लिखने का साहस किया है उतने अधिकार से कभी अपने शरीर की व्याख्या की है? उनके अनुसार पाठक को कोसने और इंटरनेट को कोसने से काम नहीं चलेगा। टेक्नोलॉजी के बढ़ते वर्चस्व में महिलाएं स्वयं बोल्डनेस के नाम पर पोर्नोग्राफी का आइटम बन रही है।

डॉ. मीनाक्षी स्वामी ने कहा कि औरत को खिलौना होने से रोकना है तो शुरूआत परिवार से ही करनी होगी। कानून, पूलिस व प्रशासन बाद में आता है और मुख्य बात तो यह है कि कई बार कानून की कठोरता से भ्रष्टाचार को अधिक बढ़ावा मिलता है अत : स्त्री स्वयं तो अपने लिए सोचें ही पर पहल परिवार को करनी होगी।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

यदि पैरेंट्स के व्यवहार में हैं ये 4 बुरी आदतें तो आपके ...

यदि पैरेंट्स के व्यवहार में हैं ये 4 बुरी आदतें तो आपके बच्चे को बिगड़ने से कोई नहीं रोक सकता!
पैरेंट्स की कुछ ऐसी आदतें होती हैं, जो वे बच्चों को सुधारने, कुछ सिखाने-पढ़ाने और नियंत्रण ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो यह एस्ट्रो टिप्स आपके लिए है
क्या आप भी संकोची हैं, अगर हां तो यह आलेख आपके लिए है...

कैंसर की रिस्क लेना अगर मंजूर है तो ही इन 7 सामान्य लक्षणों ...

कैंसर की रिस्क लेना अगर मंजूर है तो ही इन 7 सामान्य लक्षणों को नजरअंदाज करें, वरना हो सकती है बड़ी परेशानी
ये बीमारी भी ऐसे ही सामने नहीं आती। इसके भी लक्षण हैं जो आप और हम जैसे लोग अनदेखा करते ...

5 ऐसी चीजें जो लिवर की बीमारी को करती हैं दूर, एक बार पढ़ें ...

5 ऐसी चीजें जो लिवर की बीमारी को करती हैं दूर, एक बार पढ़ें जरूर
आप खाने के शौकीन हैं लेकिन क्या आप महसूस कर रहे हैं कि पिछले कुछ समय से आपका पाचन थोड़ा ...

दोमुंहे बालों से छुटकारा पाना चाहती हैं, तो ये 4 तरीके ...

दोमुंहे बालों से छुटकारा पाना चाहती हैं, तो ये 4 तरीके अपनाएं
जब बालों का निचला हिस्सा दो भागों में बंट जाता है, तब उसे बालों का दोमुंहा होना कहते हैं। ...

फुटबॉल के मैदान से हटकर अब चर्चा कूटनीति के मैदान की

फुटबॉल के मैदान से हटकर अब चर्चा कूटनीति के मैदान की
दुनिया का सबसे बड़ा और रोमांच से भरपूर फुटबॉल मेला समाप्त हुआ। करोड़ों को रुला लिया, ...

प्रेम गीत : नाराज़ हैं मेहरबाँ मेरे

प्रेम गीत : नाराज़ हैं मेहरबाँ मेरे
नाराज़ हैं मेहरबाँ मेरे,अब आ भी जाओ,कि अंजुमन को तेरी दरक़ार है, ढूँढता रहा,

कैसे करें देवशयनी एकादशी व्रत, क्या मिलेगा इस व्रत का फल, ...

कैसे करें देवशयनी एकादशी व्रत, क्या मिलेगा इस व्रत का फल, जानिए...
आषाढ़ शुक्ल पक्ष की एकादशी को ही देवशयनी एकादशी कहा जाता है। इस दिन से भगवान श्री हरि ...

कैसा है शिव का स्वरूप, क्यों माने गए हैं स्वयंभू, जानिए...

कैसा है शिव का स्वरूप, क्यों माने गए हैं स्वयंभू, जानिए...
शिव यक्ष के रूप को धारण करते हैं और लंबी-लंबी खूबसूरत जिनकी जटाएं हैं, जिनके हाथ में ...

ग़ज़ल: सर झुकाना आ जाये

ग़ज़ल: सर झुकाना आ जाये
नज़ाकत-ए-जानाँ1 देखकर सुकून-ए-बे-कराँ2 आ जाये, चाहता हूँ बेबाक इश्क़ मिरे बे-सोज़3 ज़माना ...