पद्मावती के जवाब के माध्यम से उठे ज्वलंत सवाल


इंदौर साहित्य महोत्सव में द्वितीय दिन का सत्र गर्मागर्म रहा। पद्मावती विवाद पर आयोजित सत्र में लेखक विजय मनोहर तिवारी ने पद्मावती के नाम पर लिखे अपने चर्चित पत्र के वाचन से कार्यक्रम का आरंभ किया। इस सत्र को वेबदुनिया के संपादक ने संचालित किया। इस सत्र में समीक्षक भावना सौमेया और फिल्मकार जेडी (जर्नलिज्म डिफाइन) के निर्देशक शैलेंद्र पांडे प्रमुख वक्ता के रूप में शामिल रहे।

भावना सौमेया ने कहा कि जब किसी ने फिल्म देखी नहीं है तो कैसे यह सुनिश्चित किया जा सकता है कि फिल्म में कुछ गलत ही होगा। क्या हमने फिल्मकार की मेहनत और शोध के बारे में सोचा है?


पत्रकार विजय मनोहर तिवारी ने पत्र वाचन के बाद कई ज्वलंत सवालों को उठाया सचाई यह है कि हम बहुत ही अराजक किस्म के समाज में रहते हैं जहां आंदोलनों और विरोध की वजह से कभी भी कुछ भी हो सकता है। मैं आंदोलनों के पक्ष में नहीं हूं पर ऐसा क्यों हुआ इस पर भी विचार आवश्यक है। कोई दूसरा आकर ऐसा करें तो उसे तो रोका जा सकता है लेकिन इसी देश का कोई व्यक्ति जो इतिहास को जानने का दावा करे और इस तरह से कल्पना का अभिस्पर्श देकर सिनेमैटिक लिबर्टी के नाम पर भावनाओं को आहत करे, उसे कैसे स्वीकार करें...

शैलेंद्र पांडे के अनुसार, हिन्दू समाज के देवी-देवताओं के बारे में हर कोई कुछ भी दिखा देता है लेकिन किसी अन्य धर्म के बारे में व्यक्त करने का कोई सोच भी नहीं सकता। ऐसा विरोधाभास क्यों? ऐसी विडंबना क्यों?
जब हम किसी ऐतिहासिक किरदारों पर फिल्म बनाते हैं तो हमारी जिम्मेदारी बहुत बढ़ जाती है क्योंकि आज की भागमभाग वाली जिंदगी में किसी के पास इतना समय नहीं है कि वह मोटी-मोटी किताबों को पढ़ें ऐसे में वह फिल्मों के माध्यम से ही इतिहास को याद रखता है।

विजय मनोहर तिवारी ने पद्मावती को लिखे अपने डेढ़ हजार शब्दों के पत्र का जवाब भी (पद्मावती की तरफ से) डेढ़ हजार शब्दों में लिखा और सत्र के समापन में उन्होंने उसका भी वाचन किया।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

लिपबाम के फायदे जानते हैं और इसे लगाते हैं, तो इसके नुकसान ...

लिपबाम के फायदे जानते हैं और इसे लगाते हैं, तो इसके नुकसान भी जरूर जान लें
लिप बाम सौंदर्य प्रसाधन में आज एक ऐसा प्रोडक्ट बन चुका है, जिसके बिना किसी लड़की व महिला ...

पति यदि दिखाए थोड़ी सी समझदारी तो पत्नी भूल जाएगी नाराज होना

पति यदि दिखाए थोड़ी सी समझदारी तो पत्नी भूल जाएगी नाराज होना
पति-पत्नी के बीच घर के दैनिक कार्य को लेकर, नोकझोंक का सामना रोजाना होता हैं। पति का ...

क्या आपको भी होती है एसिडिटी, जानिए प्रमुख कारण और बचाव

क्या आपको भी होती है एसिडिटी, जानिए प्रमुख कारण और बचाव
मिर्च-मसाले वाले पदार्थ अधिक सेवन करने से एसिडिटी होती है। इसके अतिरिक्त कई कारण हैं ...

फलाहार का विशेष व्यंजन है चटपटा साबूदाना बड़ा

फलाहार का विशेष व्यंजन है चटपटा साबूदाना बड़ा
सबसे पहले साबूदाने को 2-3 बार धोकर पानी में 1-2 घंटे के लिए भिगो कर रख दें।

बालों को कलर करते हैं, तो पहले यह सही तरीका जरूर जान लें

बालों को कलर करते हैं, तो पहले यह सही तरीका जरूर जान लें
हर बार आप सैलून में ही जाकर अपने बालों को कलर करवाएं, यह संभव नहीं है। बेशक कई लोग हमेशा ...

दूषित सोच से पीड़ित एक प्रसिद्ध भारतीय अर्थशास्त्री

दूषित सोच से पीड़ित एक प्रसिद्ध भारतीय अर्थशास्त्री
पिछले सप्ताह विश्व प्रसिद्ध अर्थशास्त्री अमर्त्य सेन ने मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों के ...

यदि पैरेंट्स के व्यवहार में हैं ये 4 बुरी आदतें तो आपके ...

यदि पैरेंट्स के व्यवहार में हैं ये 4 बुरी आदतें तो आपके बच्चे को बिगड़ने से कोई नहीं रोक सकता!
पैरेंट्स की कुछ ऐसी आदतें होती हैं, जो वे बच्चों को सुधारने, कुछ सिखाने-पढ़ाने और नियंत्रण ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो यह एस्ट्रो टिप्स आपके लिए है
क्या आप भी संकोची हैं, अगर हां तो यह आलेख आपके लिए है...

कैंसर की रिस्क लेना अगर मंजूर है तो ही इन 7 सामान्य लक्षणों ...

कैंसर की रिस्क लेना अगर मंजूर है तो ही इन 7 सामान्य लक्षणों को नजरअंदाज करें, वरना हो सकती है बड़ी परेशानी
ये बीमारी भी ऐसे ही सामने नहीं आती। इसके भी लक्षण हैं जो आप और हम जैसे लोग अनदेखा करते ...

श्री गुरु पूर्णिमा : कैसे मनाएं घर में पर्व जब कोई गुरु ...

श्री गुरु पूर्णिमा : कैसे मनाएं घर में पर्व जब कोई गुरु नहीं हो...ग्रहण के कारण इस समय कर लें पूजन
वे लोग जिन्हें गुरु उपलब्ध नहीं है और साधना करना चाहते हैं उनका प्रतिशत समाज में अधिक है। ...