अमृत जो नर्मदा संग बहता रहा

Amritlaal vegad
अमृतलाल वेगड़, एक ऐसी शख्सियत जिसने नर्मदा यात्रा के अपने जुनून को नदी की निर्मल धार की भांति शब्दों में बांधकर हिन्दी पाठकों को करना सिखा दिया। जीवनदायिनी नर्मदा के साथ-साथ बहने वाले, नर्मदा को भिन्न-भिन्न रूपों में चित्रित करने वाले, नर्मदा की हर बूंद के एहसास को शब्दों में बांधकर पुस्तकाकार देने वाले पर्यावरण प्रेमी अमृतलाल वेगड़जी चिरनिद्रा में लीन हो गए।
अक्टूबर 1928 को में जन्मे वेगड़जी ने 50 की उम्र में नर्मदा यात्रा आरंभ की। सन् 1977 से आरंभ हुई यात्रा टुकड़ों-टुकड़ों में चलती हुई 2009 में पूर्ण हुई। इस यात्रा के दौरान हुए अनुभवों को उन्होंने अत्यंत रसपूण, भावपूर्ण भाषा शैली में 3 पुस्तकों- अमृतस्य नर्मदा, सौंदर्य की नदी नर्मदा और तीरे-तीरे नर्मदा में प्रस्तुत किया। जिस पाठक ने इन पुस्तकों को पढ़ा, वह नर्मदा का प्रेमी हो गया। अपने यात्रा वृत्तांत में उन्होंने न सिर्फ नर्मदा के भिन्न रूपों को वर्णित किया बल्कि पाठकों को जैवविविधता और नर्मदा संरक्षण के प्रति जागरूक भी किया। उनकी चौथी पुस्तक 'नर्मदा तुम कितनी सुंदर हो' 2015 में प्रकाशित हुई।
हिन्दी ग्रंथ अकादमी से प्रकाशित इन पुस्तकों के माध्यम से उन्होंने नर्मदा परिक्रमा को एक अनूठे ढंग से प्रस्तुत किया। इन तीनों पुस्तकों को पाठकों का अच्छा प्रतिसाद मिला और शीघ्र ही नए संस्करण प्रकाशित करना पड़े। इन पुस्तकों की लाखों की संख्या में बिक्री हुई।

वेगड़जी ने 1948 से 1953 तक शांति निकेतन में कला का अध्ययन किया। उन्होंने नर्मदा यात्रा के दौरान नर्मदा के विविध रूपों और उसके तट दृश्यों का अनूठा रेखांकन किया जिसकी प्रदर्शनियां भी लगीं। नर्मदा पदयात्रा वृत्तांत की उनकी 3 पुस्तकें हिन्दी, गुजराती, मराठी, अंग्रेजी, बंगला और संस्कृत में भी प्रकाशित हुईं। नर्मदा परिक्रमा संपन्न होने के बाद वेगड़जी ने नर्मदा की सहायक नदियों की 4,000 किलोमीटर से अधिक की पदयात्रा की। इनमें उनके साथी-सहयोगी बदलते रहे। कभी दोस्त और परिचित साथ चले तो कभी अर्द्धांगिनी ने साथ दिया।

वेगड़जी ने बाल साहित्य के रूप में भी पुस्तकें लिखीं जिनके 5 भाषाओं में 3-3 संस्करण भी निकले। साहित्य और कला में योगदान के लिए अमृतलाल वेगड़जी को कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया। इनमें हिन्दी और गुजराती में साहित्य अकादमी पुरस्कार, महापंडित राहुल सांकृत्यायन पुरस्कार जैसे राष्ट्रीय पुरस्कार शामिल हैं।

एक शिक्षक के रूप में समाज को अपनी सेवाएं देने वाले नर्मदा प्रेमी अमृतलाल वेगड़ हमारे बीच न होकर भी सदैव हमारे साथ रहेंगे। जब तक नर्मदा की निर्मल धार बहती रहेगी, जब तक किनारों के पेड़ हरियाते रहेंगे, जब तक घाटों पर सूर्य अर्घ्यदान होता रहेगा, जब तक जीवनदायिनी अन्न उपजाती रहेगी, तब तक नर्मदा में 'अमृत' का अंश बहता रहेगा।



वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

दुर्घटनाएं अमावस्या और पूर्णिमा पर ही क्यों होती है? आइए ...

दुर्घटनाएं अमावस्या और पूर्णिमा पर ही क्यों होती है? आइए जानते हैं यह रहस्य-
पूर्णिमा के दिन मोहक दिखने वाला और अमावस्या पर रात में छुप जाने वाला चांद अनिष्टकारी होता ...

क्या आपका बच्चा भी अंगूठा चूसता है? तो हो जाएं सावधान, जान ...

क्या आपका बच्चा भी अंगूठा चूसता है? तो हो जाएं सावधान, जान लें नुकसान
शायद ऐसा कोई व्यक्ति नहीं होगा, जिसने किसी बच्चे को अंगूठा चूसते हुए कभी न देखा हो। अक्सर ...

यही है वह मौसम जब शरीर का बदलता है तापमान, रहें सावधान, ...

यही है वह मौसम जब शरीर का बदलता है तापमान, रहें सावधान, जानें वजह और बचाव के उपाय
मौसम आ गया है कि आपको चाहे जब लगेगा हल्का बुखार। तो क्या घबराने की कोई बात है? जी नहीं, ...

प्रेशर कुकर में नहीं कड़ाही में पकाएं खाना, जानिए क्यों...

प्रेशर कुकर में नहीं कड़ाही में पकाएं खाना, जानिए क्यों...
अगर आप से पूछा जाए कि प्रेशर कुकर में या कड़ाही खाना बनाना बेहतर है तो आप तुरंत प्रेशर ...

मलाईदार नारियल क्रश, सेहत के यह 8 फायदे पढ़कर रह जाएंगे दंग

मलाईदार नारियल क्रश, सेहत के यह 8 फायदे पढ़कर रह जाएंगे दंग
आजकल मार्केट में नारियल पानी से ज्यादा नारियल क्रश को पसंद किया जा रहा है। इसकी बड़ी वजह ...

बारिश में ऐसे करें वाटरप्रूफ मेकअप, पढ़ें 5 टिप्स

बारिश में ऐसे करें वाटरप्रूफ मेकअप, पढ़ें 5 टिप्स
कुछ दिनों पूर्व एक शादी में जाना हुआ। अभी हम दूल्हा-दुल्हन से मिल ही रहे थे कि मेरी नजर ...

क्या अमरनाथ गुफा में शिवलिंग के साथ ही बर्फ से निर्मित होते ...

क्या अमरनाथ गुफा में शिवलिंग के साथ ही बर्फ से निर्मित होते हैं पार्वती और गणेश?
अमरनाथ गुफा में शिवलिंग का निर्मित होना समझ में आता है, लेकिन इस पवित्र गुफा में एक गणेश ...

इन पौराणिक कथाओं से जानिए कि क्यों प्रिय है शिव को श्रावण ...

इन पौराणिक कथाओं से जानिए कि क्यों प्रिय है शिव को श्रावण मास,अभिषेक और बेलपत्र
पौराणिक कथा है कि जब सनत कुमारों ने महादेव से उन्हें श्रावण महीना प्रिय होने का कारण पूछा ...

कैसी है आपकी पत्नी, कितना जानते हैं आप उन्हें, आइए जानें

कैसी है आपकी पत्नी, कितना जानते हैं आप उन्हें, आइए जानें ऐसे
क्या आप अपनी पत्नी को समझते हैं? पत्नी नई नवेली या बरसों बरस की साथी। अक्सर किसी पहेली से ...

कौन है जापानी लकी कैट, क्यों करती है यह हमारी मदद... जानें ...

कौन है जापानी लकी कैट, क्यों करती है यह हमारी मदद... जानें पूरी कहानी
लकी कैट जापान से आई है। घर में इस बिल्ली की प्रतिमा रखने मात्र से ही व्यक्ति की सारी ...