पुस्तक समीक्षा : मरुधरा सूं निपज्या गीत


‘मरुधरा सूं निपज्या गीत’ विख्यात गीतकार इकराम राजस्थानी के रसीले राजस्थानी गीतों का नजराना है। राजस्थानी मिट्टी और संस्कृति से आत्मीय लगाव के चलते इन्होंने अपना उपनाम ही ‘राजस्थानी’ रख लिया है। इन्होंने स्वीकार भी किया है - 
 
‘राजस्थानी’ हो गयो, अब म्हारो उपनाम।
मैं मायड़ रो लाडलो, जग जोणे ‘इकराम’।।
 
‘मरुधरा सूं निपज्या गीत’ में संकलित गीत राजस्थानी भाषा की मिठास के साथ-साथ राजस्थान की मिट्टी-पानी-हवा की सोंधी गंध से भी सुवासित हैं। इन गीतों में राजस्थान की क्षेत्रीय विशेषताओं का आत्मीय चित्रण किया गया है और वैयक्तिक शैली में वहां की प्राकृतिक-भौतिक संपदा के बारे में लिखा गया है। जैसे एक गीत में राजस्थान की धरती को संबोधित करते हुए कहा गया है - 
 
थारी भूरी भूरी रेत,
थारे कण कण मांही हेत,
म्हारे काकना की लागे तू तो कोर माटी
म्हारे हिवड़ा मांही नाचे, मीठा मोर माटी।
 
‘मरुधरा सूं निपज्या गीत’ में कुछ ऐसे गीत भी हैं जो पुरुष और स्त्री के संवादों के रूप में रचे गए हैं। इनमें की जानी-पहचानी शैली का आभास मिलता है। में ‘गाथा पन्ना धाय री’ जैसे लंबे गीत भी हैं जो गायन के साथ-साथ मंचन की खूबियों से युक्त हैं। कुल मिलाकर इन रचनाओं में लक्षित की जाने वाली अन्यतम विशेषता है जातीयता का उभार और लोकगीत की प्रचलित शैली का पुनराविष्कार।
 
 
पुस्तक : मरुधरा सूं निपज्या गीत
लेखक : इकराम राजस्थानी  
प्रकाशक : वाणी प्रकाशन 
पृष्ठ संख्या : 142 

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

हिन्दी कविता : देह हूं मैं ...

हिन्दी कविता : देह हूं मैं ...
देह हूं मैं प्राणों से भरी , अहसासों से भरी देह हूं मैं जब छूते हो मुझे मेरी ...

मन की अभिव्यक्ति से मिलती है खुशी

मन की अभिव्यक्ति से मिलती है खुशी
वर्षों बाद वो दोनों सखियां मिलीं। मन में भावनाओं का ज्वार। आंखें ख़ुशी के आंसुओं से सिक्त। ...

प्रेम गीत : मुझको दीवाना कह लो

प्रेम गीत : मुझको दीवाना कह लो
तुम्हे प्यार नहीं तो क्या मुझको दीवाना कह लो। उम्मीदे वफ़ा नहीं तो क्या, मुझको दीवाना कह ...

बचा जा सकता है थायराइड से, यहां जानिए कैसे

बचा जा सकता है थायराइड से, यहां जानिए कैसे
योग के जरिए भी थायराइड से बचा जा सकता है। खासकर कपालभाती करने से थायराइड की समस्या से ...

तंत्र की देवी है मां बगलामुखी, हर आपदा से बचाता है उनका ...

तंत्र की देवी है मां बगलामुखी, हर आपदा से बचाता है उनका मंत्र
मां बगलामुखी यंत्र चमत्कारी सफलता तथा सभी प्रकार की उन्नति के लिए सर्वश्रेष्ठ माना गया ...

बच्चों को दीजिए उनका आकाश

बच्चों को दीजिए उनका आकाश
हम प्रायः अपने बच्चों को उसके भाई-बहनों या मित्रों का अनुकरण करने को कहते हैं। जो हमारी ...

एक बार जरूर पढ़ें खूबानी के 5 खास गुण

एक बार जरूर पढ़ें खूबानी के 5 खास गुण
आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि 5 खूबानी से उतनी ही कैलोरी मिलती हैं, जितनी कि एक सेब से...

क्या आप कीटो डाइट के शौकीन हैं? इसके 5 नुकसान चौंका देंगे ...

क्या आप कीटो डाइट के शौकीन हैं? इसके 5 नुकसान चौंका देंगे आपको
कीटो डाइट का एक दुष्परिणाम यह है कि इसके साथ आपको पर्याप्त फाइबर और पोषक तत्व नहीं मिल ...

पृथ्वी दिवस पर कविता : दे दो उसे जीवनदान

पृथ्वी दिवस पर कविता : दे दो उसे जीवनदान
घुट रहा है दम, निकल रहे हैं प्राण। कोई सुन ले तो, दे दो उसे जीवनदान। सूख रहे हैं हलक, ...

बस अपनाएं ये 8 सरल टिप्स और स्वादिष्ट काजू करी तैयार

बस अपनाएं ये 8 सरल टिप्स और स्वादिष्ट काजू करी तैयार
सबसे पहले काजू को सादे पानी में उबाल लें। काजू को उबालते वक्त उसमें थोड़ा-सा नमक मिला दें।