टीबी के इलाज में कारगर हो सकती है अस्थमा की दवा



-दिनेश सी. शर्मा

नई दिल्ली। टीबी की बीमारी में दवाओं के प्रति बढ़ती प्रतिरोधक क्षमता को देखते हुए शोधकर्ता इसके उपचार के लिए नई दवाओं की खोज में लगातार जुटे हुए हैं।

बेंगलुरु स्थित के वैज्ञानिकों ने अब पता लगाया है कि अस्थमा की एक प्रचलित दवा टीबी के इलाज में भी कारगर हो सकती है। वैज्ञानिकों के अनुसार यह दवा टीबी में दवाओं की विकसित होती प्रतिरोधक क्षमता की चुनौती से लड़ने में मददगार हो सकती है।

व्यापक अध्ययन में शोधकर्ताओं ने पाया है कि प्रॅनल्यूकास्त नामक यह दवा टीबी के लिए जिम्मेदार बैक्टीरिया माइकोबैक्टीरियम ट्यूबर्क्युलोसिस (एमटीबी) में एक विशिष्ट चयापचय मार्ग को नष्ट कर देती है, जो इस बैक्टीरिया के जीवित रहने के लिए जरूरी है। इस दवा की खास बात है कि यह मानव कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाए बिना काम करती है। इससे पहले जानकारी नहीं थी कि इस बैक्टीरिया के चयापचय मार्ग को दवा के जरिए लक्ष्य बनाकर टीबी का उपचार किया जा सकता है।

आमतौर पर टीबी के उपचार के लिए उपयोग होने वाली दवाएं मानव कोशिकाओं में इस बीमारी के लिए जिम्मेदार बैक्टीरिया की संख्या को बढ़ने से रोकती हैं, पर इसका विपरीत असर कोशिकाओं पर भी पड़ता है। इस समस्या से निपटने के लिए वैज्ञानिकों ने टीबी की बीमारी पैदा करने वाले बैक्टीरिया के अस्तित्व के लिए जरूरी उसके चयापचय तंत्र को निशाना बनाया है।

वैज्ञानिकों ने पाया है कि यह बैक्टीरिया अपने अस्तित्व के लिए आर्गिनिन बायोसिन्थेसिस नामक एक खास तंत्र का उपयोग करता है। इस तंत्र में अवरोध पैदा किया जाए तो यह बैक्टीरिया मर जाता है। प्रॅनल्यूकास्त दवा को इस भूमिका के लिए कारगर पाया गया है।

प्रो. अवधेश सुरोलिया के निर्देशन में शोधरत पीएचडी छात्रा अर्चिता मिश्रा ने 'इंडिया साइंस वायर' को बताया कि हमारे दृष्टिकोण में टीबी को दो तरीके से लक्षित करना शामिल है। हमने पाया है कि प्रॅनल्यूकास्त एमटीबी के खिलाफ एक शक्तिशाली अवरोधक के रूप में कार्य करती है।

अध्ययन में यह भी दर्शाया गया है कि यह दवा अपने लक्ष्य को कुछ इस तरह निशाना बनाती है कि मानव शरीर के भीतर टीबी के बैक्टीरिया के जीवित रहने की आशंका खत्म हो जाती है। प्रॅनल्यूकास्त एफडीए से मान्यता प्राप्त दवा है जिसका उपयोग दमारोधी के रूप में दुनियाभर में होता है। अब स्पष्ट हो गया है कि टीबी के उपचार में भी इस दवा का उपयोग किया जा सकता है।

प्रो. सुरोलिया के अनुसार प्रॅनल्यूकास्त का उपयोग टीबी के उपचार के लिए अभी इस्तेमाल हो रहीं दवाओं के साथ किया जा सकता है जिससे टीबी थैरेपी को अधिक कारगर बनाया जा सकता है। अध्ययनकर्ताओं का कहना यह भी है कि प्रॅनल्यूकास्त का उपयोग पहले से हो रहा है। इसलिए इसके उपयोग से पहले नए सिरे से कई वर्षों तक किए जाने वाले परीक्षणों की जरूरत नहीं है और यह मानवीय उपयोग के लिए सुरक्षित है।

इस अध्ययन के नतीजे 'एम्बो मॉलिक्यूलर मेडिसिन' नामक शोध पत्रिका में प्रकाशित किए गए हैं। यह अध्ययन विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग, वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद, जैव प्रौद्योगिकी विभाग और इंडियन मेडिकल काउंसिल द्वारा दिए गए अनुदान पर आधारित है। अध्ययनकर्ताओं की टीम में अर्चिता मिश्रा के अलावा आशालता एस. ममीदी, राजू एस. राजमणि, अनन्या रे, रंजना रॉय और अवधेश सुरोलिया शामिल थे। (इंडिया साइंस वायर)

(भाषांतरण : उमाशंकर मिश्र)

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

जींस खरीदने से पहले यह जानना बहुत जरूरी है

जींस खरीदने से पहले यह जानना बहुत जरूरी है
जब जींस पहनने की शुरुआत हुई थी तब यह फैशन को ध्यान में रखते हुए नहीं हुई थी और न ही इसे ...

बस 1 हफ्ते में त्वचा के काले धब्बे गायब, पपीते का फैस पैक ...

बस 1 हफ्ते में त्वचा के काले धब्बे गायब, पपीते का फैस पैक करेगा जादू
पपीता आपकी पाचन क्रिया को संतुलित रखने के साथ-साथ आपके चेहरे को भी बेदाग बनाता है।

सनग्लासेस पहनने के 4 फायदे...

सनग्लासेस पहनने के 4 फायदे...
सही चश्‍मा पहनते ही हम एकदम से स्टाइलिश और फैशनेबल दिखने लगते हैं। चश्मे हमें केवल अच्छा ...

आपके मन को लुभाएगी ये पारंपरिक चिल्ड शाही ड्रायफ्रूट्स ...

आपके मन को लुभाएगी ये पारंपरिक चिल्ड शाही ड्रायफ्रूट्स लस्सी, पढ़ें सरल विधि
सबसे पहले ताजा दही लेकर उसमें शक्कर, आधी ड्रायफ्रूट्स की कतरन, केसर व बर्फ डालकर मिक्सी ...

ऐसा देसी डाइट प्लान जिससे भयंकर मोटे बॉलीवुड एक्टर्स ने ...

ऐसा देसी डाइट प्लान जिससे भयंकर मोटे बॉलीवुड एक्टर्स ने अपना वज़न कम कर सबको हैरान कर दिया और आज हैं बिलकुल फिट
और इसी आदत के चलते इंडियंस अपना वेट लॉस देशी डाइट के साथ भी कर सकते हैं, पर डाइट प्लान के ...

गंगा दशहरा पर पारंपरिक शाही मीठे चूरमे से लगाएं गंगा मैया ...

गंगा दशहरा पर पारंपरिक शाही मीठे चूरमे से लगाएं गंगा मैया को भोग, पढ़ें सरल विधि...
सबसे पहले गेहूं के आटे में घी का अच्छा मोयन देकर कड़ा सान लें। फिर इसकी मुठियां बना लें। ...

हरड़ एक ऐसी औषधि है, जो 100 रोगों का नाश करती है

हरड़ एक ऐसी औषधि है, जो 100 रोगों का नाश करती है
हरड़ एक अत्यंत लाभकारी औषधि है। यह शरीर के 100 से अधिक रोगों का नाश करती है। आइए जानें ...

क्या आपने कभी बनाई है सत्तू की यह मिठाई, अगर नहीं तो अवश्य ...

क्या आपने कभी बनाई है सत्तू की यह मिठाई, अगर नहीं तो अवश्य बनाएं...
सबसे पहले मैदे को दूध के छींटे डाल-डालकर गीला कर लें। फिर किसी बर्तन में 1-2 घंटे दबाकर ...

कैसे होते हैं कर्क राशि वाले जातक, जानिए अपना व्यक्तित्व...

कैसे होते हैं कर्क राशि वाले जातक, जानिए अपना व्यक्तित्व...
हम वेबदुनिया के पाठकों के लिए क्रमश: समस्त 12 राशियों व उन राशियों में जन्मे जातकों के ...

अगर पति-पत्नी में हो रहा है खूब कलह तो यह 4 उपाय कराएंगे ...

अगर पति-पत्नी में हो रहा है खूब कलह तो यह 4 उपाय कराएंगे सुलह
यह उपाय उन पति-पत्नी के लिए हैं जो साथ में रहना तो चाहते हैं, एक दूजे से प्यार भी खूब ...