आपके चेहरे में छुपा हर दर्द का इलाज, जानिए क्या है फेशियल रिफ्लेक्सोलॉजी


फेशियल रिफ्लेक्सोलॉजी से मिटाएं अपने दर्द


रजत कुशवाह


कोरिया की उपचार पद्धति की तरह की ही एक और उपचार पद्धति फेशियल रिफ्लेक्सोलॉजी का इन दिनों खासा प्रचार हो रहा है। इसके तहत यह माना जाता है कि हमारा चेहरा हमारे पूरे शरीर का प्रतिनिधित्व करता है।

कोरिया की उपचार पद्धति सुजोक की तरह की ही एक और उपचार पद्धति फेशियल रिफ्लेक्सोलॉजी का इन दिनों खासा प्रचार हो रहा है।

ब्रिटेन में इस उपचार पद्धति के लगभग 35 हजार प्रैक्टिस कर रहे हैं। इसके तहत यह माना जाता है कि हमारा चेहरा हमारे पूरे शरीर का प्रतिनिधित्व करता है। जैसे नाक और जॉलाइन दिल का, आँखों की कोर गॉल ब्लैडर का, होंठों के ऊपर, नाक के पास और आँखों के नीचे के कुछ हिस्से पेट का और गालों के आस-पास के हिस्से हार्मोंस से जुड़े हुए हैं।

कोरिया की उपचार पद्धति सुजोक की तरह की ही एक और उपचार पद्धति फेशियल रिफ्लेक्सोलॉजी का इन दिनों खासा प्रचार हो रहा है। इस उपचार पद्धति के माध्यम से आपके शरीर के किसी हिस्से में दर्द का इलाज आपके ही चेहरे के किसी पाइंट पर दबाव बनाकर किया जाता है।

फेशियल रिफ्लेक्सोलॉजी एक ऐसा इलाज है, जो उपचार की तीन प्राचीन पद्धतियों चायनीज मेरीडियन, चायनिज एनर्जी मेडिसीन और एक्यूपंक्चर पाईंट्स, वियतनामी और एंडीयन ट्राइब्स बॉडी मैप से प्रेरित है। इस उपचार पद्धति का आधारभूत सिद्धांत चीनी औषधि है, जिसके अनुसार शरीर में ऊर्जा का संचार 12 अदृश्य पंक्तियों में होता है, जिसे मेरिडीयन्स भी कहा जाता है।

होता क्या है कि जब कोई पंक्ति अवरुद्ध होने लगती है या फिर किसी तरह की कोई रुकावट होती है तो ये शरीर के दूसरे क्रियाशील हिस्सों पर प्रभाव डालने लगती है। यही सिद्धांत उपचार की दूसरी पद्धतियों जैसे रैकी, एक्यूपंक्चर आदि का भी आधार है, ये सब भी ऊर्जा के प्रवाह के सिद्धांत पर आधारित है। ये शरीर में रक्त-संचार की प्रक्रिया को भी बढ़ाता है, जिससे अपने आप शरीर के विकार ठीक होने लगते हैं। ये त्वचा को चमकदार, युवा औऱ ताजगी भरा बनाए रखने में भी असरकारक है।'
सूजन डेविड जो कि स्पा कंसल्टेंट हैं बताती है कि - 'इसकी मूलभूत प्रेरणा है एक्यूप्रेशर और पैरों और हाथों की रिफ्लेक्सोलॉजी। इसमें नर्वस सिस्टम को प्रेरित करने के तरीके शामिल हैं। सभी शिराएँ एक-दूसरे से जुड़ी हुई हैं और हम उन जगहों को खोज रहे हैं, जहाँ इसका सबसे ज्यादा असर होता है। एक दूसरा कारण इसके लोकप्रिय होने का यह है कि ये शरीर में रक्त-संचार की प्रक्रिया को भी बढ़ाता है, जिससे अपने आप शरीर के विकार ठीक होने लगते हैं। ये त्वचा को चमकदार, युवा औऱ ताजगी भरा बनाए रखने में भी असरकारक है।'

यूके की फेशियल रिफ्लेक्सोलॉजिस्ट निक्की आरिफ कहतीं हैं कि-'इसकी सफलता पर इसलिए भी संदेह नहीं किया जा सकता है, क्योंकि दिमाग हमारे शरीर का नियंत्रक-केंद्र है और चेहरा पैरों की तुलना में इसके सबसे करीब है। तो फेशियल रिफ्लेक्सोलॉजी फुट रिफ्लेक्सो़लॉजी की तुलना में ज्यादा तेजी से काम करती है।'

कुछ सामान्य समस्या जैसे अनिद्रा, तनाव और सिरदर्द में ये थैरेपी आराम देती है। ये सही है कि इसके परिणाम तुरंत नजर नहीं आते हैं।

ये किसी दूसरे तरह की मालिश की तरह है। कम से कम 5 सिटिंग के बाद ही इसके परिणाम नजर आते हैं।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

बस,एक छोटा सा 'आभार' कम कर देगा जीवन के कई भार

बस,एक छोटा सा 'आभार' कम कर देगा जीवन के कई भार
आभार व्यक्त तो कीजिए। फिर देखिए, उसकी सुगंध कैसे आपके रिश्तों को अद्भुत स्नेह से सींचती ...

अपने लिए भी वक्त निकालें, यह वक्त का तकाजा है

अपने लिए भी वक्त निकालें, यह वक्त का तकाजा है
थोड़ा समय अपने शौक को देंगे तो आपको अपना आराम और मनोरंजन पूर्ण महसूस होगा।

जरा चेक करें कहीं आपकी कोहनी भी तो कालापन लिए हुए नहीं?

जरा चेक करें कहीं आपकी कोहनी भी तो कालापन लिए हुए नहीं?
भले ही आप चेहरे से कितनी ही खूबसूरत क्यों न हों, देखने वालों की नजर कुछ ही मिनटों में ...

5 मिनट में चमकती स्किन चाहिए तो इसे जरूर पढ़ें

5 मिनट में चमकती स्किन चाहिए तो इसे जरूर पढ़ें
जिस तरह बालों को सॉफ्ट और शाइनी बनाने के लिए आप हेयर कंडीशनिंग करते हैं, उसी तरह से त्वचा ...

पेट फूला-फूला रहता है तुंरत बदलिए लाइफ स्टाइल, पढ़ें 10 काम ...

पेट फूला-फूला रहता है तुंरत बदलिए लाइफ स्टाइल, पढ़ें 10 काम की बातें
लगातार बैठे रहने और कम मेहनत करने वालों का पेट बाहर आ जाता है लेकिन यह जरूरी नहीं है... ...

पंडित जवाहरलाल नेहरू पर हिन्दी निबंध

पंडित जवाहरलाल नेहरू पर हिन्दी निबंध
भारत के पहले प्रधानमंत्री रहे पंडित जवाहरलाल नेहरू का जन्म 14 नवंबर 1889 इलाहाबाद में हुआ ...

अद्वितीय राजनीतिज्ञ थे पंडित जवाहरलाल नेहरू...

अद्वितीय राजनीतिज्ञ थे पंडित जवाहरलाल नेहरू...
पंडित जवाहरलाल नेहरू का जन्म 14 नवंबर 1889 इलाहाबाद के एक धनाढ्य परिवार में हुआ था। उनके ...

कैसे होते हैं रोहिणी नक्षत्र में जन्मे जातक, किस व्यवसाय ...

कैसे होते हैं रोहिणी नक्षत्र में जन्मे जातक, किस व्यवसाय में मिलेगी सफलता... (जानें लग्नानुसार)
रोहिणी नक्षत्र आकाश मंडल में चौथा नक्षत्र है। राशि स्वामी जहां शुक्र है, वहीं नक्षत्र ...

रसोई में रखा जीरा बवासीर को करेगा खत्म, पढ़ें और भी लाभकारी ...

रसोई में रखा जीरा बवासीर को करेगा खत्म, पढ़ें और भी लाभकारी प्रयोग
जीरा पाचक और सुगंधित मसाला है। भोजन में अरुचि, पेट फूलना, अपच आदि को दूर करने में जीरा ...

ज्येष्ठ पूर्णिमा पर क्यों किया जाता है वट वृक्ष का पूजन, ...

ज्येष्ठ पूर्णिमा पर क्यों किया जाता है वट वृक्ष का पूजन, जानें पौराणिक महत्व...
भारत के पूज्यनीय वृक्षों में वट यानी बरगद का महत्वपूर्ण स्थान है। इसे अमरता का प्रतीक भी ...