अच्छे स्वास्थ्य के लिए कैसे जागृत करें प्राण शक्ति, पढ़ें सरल विधि


 
 
* प्राण चिकित्सा से अच्छे आरोग्य का रहस्य, जानिए... 
 
मनुष्य का शरीर अनंत शक्तियों का केंद्र है। इनके बारे में समय-समय पर शोध के माध्यम से वैज्ञानिकों ने नए तथ्यों का पता लगाया और हर बार आश्चर्यजनक परिणाम प्राप्त हुए। 
 
मनुष्य में प्राणमयी शक्तियों को द्वारा, द्वारा तथा सतत साधना से अति तीव्रता के साथ साध कर परिणाम प्राप्त करने में सफलता प्राप्त की जा चुकी है। यह शक्ति शरीर की प्रत्येक नाड़ी में पाए जाने वाले द्रवों में सूक्ष्म रूप से रहती है। मनुष्य का मस्तिष्क और इसका प्रमुख भंडार है। 
तंत्र एवं मंत्र योग में इसी शक्ति को जागृत कर सिद्ध करने के प्रयोगों का वर्णन भी हमारे चिकित्सा शास्त्रों में वर्णित है। इन शास्त्रों के अनुसार उक्त शक्तियों का भंडार मस्तिष्क की संधि के ऊपर ब्रह्मरंध्र और मानव हृदय में भी है, जिसका प्रवाह श्वास प्रक्रिया में बाएं-दाएं नथुनों से निरंतर होता रहता है। इसे योग की भाषा में चंद्र, सूर्य स्वर भी कहा जाता है। 
 
मनुष्य का खान-पान, अन्य प्राणियों से उसका संबंध, पदार्थों से उसका संपर्क और विचारों, व्यवहारों, आदतों, मननशीलता इस सबसे उसके प्राणों का स्वरूप प्रभावित होता है। यहां सभी चेतन के साथ जड़ पदार्थों से भी प्राण छाया निकलती है, जिसके संपर्क में जो भी आता है, उससे अप्रभावी नहीं रह सकता। मनुष्य की ये प्राण शक्ति स्वयं की इच्छा शक्ति के अधीन है, वह स्वयं अपने लिए अथवा दूसरे को स्वस्थ करने के लिए इस शक्ति को भेज सकता है। 
 
मुख्यतः मानव शरीर में विकारों की उत्पत्ति प्राण शक्ति के सम्यक संचरण में बाधा आने से ही होती है। इसे उपचारित करने वाला भी कहा जाता है, जो स्वयं की उन्नत प्राण शक्ति का प्रवाह करने में इतना समर्थ होता है कि स्वयं अपने उपचार के साथ अन्य व्यक्ति को भी इस शक्ति से स्वस्थ कर सकता है। साथ ही रोगी की प्राण शक्ति को भी स्वयं उपचार के लिए प्रयोग करने में सक्षम कर देता है। 
मनुष्य के अवयव से उत्पन्न बीमारी को प्राण शक्ति के केंद्रीयकरण से दूर किया जाता है, परंतु इसके लिए आवश्यक है कि उपचार करने वाला स्वयं स्वच्छ हृदय और उच्चचरित्र बल का धारी होना चाहिए, क्योंकि वह सिर्फ अपनी प्राण शक्ति ही नहीं, अपने अन्य तत्व भी रोगी को देता है। हमारे मन में अद्भुत शक्ति होती है। इस शक्ति का ज्ञान-तंतुओं, मांस पेशियों व नसों पर आश्चर्यजनक प्रभाव होता है। 
 
मन जितना कार्यशील होगा, उसकी विचार शक्ति भी उतनी ही बड़ी होती है- मनुष्य भी विचार शक्ति की तुलना यदि विद्युत अथवा प्रकाश की गति से करें तो इसका वेग तीव्र होता है। इस संबंध में शोधकर्ता विज्ञान के प्रो. एलिशा ग्रे ने अपनी पुस्तक 'मिरेकल्स ऑफ नेचर' में लिखा है कि प्रकाश तरंगों की गति से विचार शक्ति की गति काफी तीव्र यानी अरबों मिल प्रति सेकंड तेज होती है।
 
विचार शक्ति पर वातावरण का भी प्रभाव होता है, यानी दिन में सूर्य किरणों से विचारों में अवरोध आ जाता है, परंतु रात्रि में यानी चंद्र किरणों में विचार-शक्ति का वेग तीव्रतम हो जाता है।
 
दरअसल विचार का सीधा संबंध फेफड़ों से है, क्योंकि रक्त संचार हमारे विचारों के अधिकार में होता है। यदि रक्त संचार संतुलित होगा तो हमारा नाड़ी तंत्र एवं मस्तिष्क भी ठीक होगा, यानी अनुचित विचार भी अपने जीवन में रोगों का कारण हैं। इसलिए आवश्यक है कि आप मानसिक शक्तियों को जागृत कर मन की गुप्त शक्ति को प्रबल बनाएं, ताकि विकारों को अवरोधित करने के लिए रक्त संचार को संतुलित तथा पर्याप्त प्रभारी बनाया जा सके। इसके लिए निम्न विधि से शरीर को सरल रूप में तैयार किया जा सकता है।
 
 
आगे पढ़ें प्राण शक्ति योग की सरल विधि 

 
 

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine



और भी पढ़ें :